Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयराम मंदिर पर लिखे भारत विरोधी नारे, PM मोदी के खिलाफ उगला जहर: कनाडा...

राम मंदिर पर लिखे भारत विरोधी नारे, PM मोदी के खिलाफ उगला जहर: कनाडा में एक और हिंदू मंदिर खालिस्तानी घृणा का बना शिकार

यह पहली बार नहीं है जब कनाडा में किसी हिंदू मंदिर को निशाना बनाया गया है। इससे पहले ब्रैम्पटन शहर में 29 जनवरी 2023 की रात को गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने की घटना सामने आई थी।

कनाडा में खालिस्तानियों ने फिर से एक हिंदू मंदिर को निशाना बनाया है। मिसिसॉगा स्थित राम मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखे जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल है। इस घटना को लेकर कनाडा में रह रहे हिंदू रोष में हैं। टोरंटो में भारत के महावाणिज्य दूतावास (Consulate General of India) ने इस घटना पर नाराजगी जाहिर करते हुए सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया है।

दूतावास ने एक बयान में कहा है, “हम मिसिसॉगा (Missisauga) में राम मंदिर (Ram Mandir) को भारत विरोधी नारों से विरूपित करने की कड़ी निंदा करते हैं। हमने कनाडा के अधिकारियों से घटना की जाँच करने और अपराधियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।” मंदिर की दीवारों पर मोदी को आतंकवादी घोषित करो, हिंदुस्तान मुर्दाबाद और संत भिंडरांवाले शहीद हैं जैसे नारे लिखे गए थे।

एक रिपोर्ट के अनुसार, घटना की जिम्मेदारी प्रतिबंधित आतंकी संगठन ‘सिख फॉर जस्टिस (Sikh For Justice)’ ने ली है। ब्रैम्पटन के मेयर पैट्रिक ब्राउन ने इसकी निंदा करते हुए कहा है, “मिसिसॉगा में राम मंदिर मंदिर में नफरत से प्रेरित बर्बरता के बारे में सुनकर मुझे दुख हुआ है। अज्ञात संदिग्धों ने मंदिर के पिछले हिस्से की दीवारों पर स्प्रे पेंट कर दिया है। इस प्रकार की नफरत के लिए यहाँ कोई जगह नहीं है।”

यह पहली बार नहीं है जब कनाडा में किसी हिंदू मंदिर को निशाना बनाया गया है। इससे पहले ब्रैम्पटन शहर में 29 जनवरी 2023 की रात को गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने की घटना सामने आई थी। इसके पीछे भी खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) का हाथ होने का शक जताया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर खालिस्तान समर्थकों ने ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिख दिए थे।

उससे पहले सितंबर 2022 में कनाडा के टोरंटो में स्थित बीबीएस स्वामी नारायण मंदिर में खालिस्तानी आतंकियों ने तोड़फोड़ की थी। इसके बाद मंदिर की दीवारों पर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे थे। फरवरी 2022 में भी टोरंटो में छह मंदिरों पर हमला किया गया था। यहाँ तक कि उपद्रवी दान पेटियों से नकदी, भगवान की मूर्तियाँ और उन्हें चढ़ाए गए आभूषण भी चोरी करके ले गए थे। ऐसी ही घटना 15 जनवरी 2022 को जीटीए शहर के ब्रैम्पटन में श्री हनुमान मंदिर में हुई थी। यही नहीं, उपद्रवियों ने 25 जनवरी, 2022 को ब्रैम्पटन में माँ चिंतपूर्णी के मंदिर को भी तोड़ दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -