Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकनाडा: गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर लिखे भारत विरोधी नारे, पहले भी मंदिरों को...

कनाडा: गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर लिखे भारत विरोधी नारे, पहले भी मंदिरों को निशाना बना चुके हैं खालिस्तानी

इससे पहले सितंबर 2022 में कनाडा के टोरंटो में स्थित बीबीएस स्वामी नारायण मंदिर में खालिस्तानी आतंकियों ने तोड़फोड़ की थी। फरवरी 2022 में भी टोरंटो में छह मंदिरों पर हमला किया गया था।

ऑस्ट्रेलिया के बाद अब कनाडा में हिंदू मंदिर को निशाना बनाया गया है। ब्रैम्पटन शहर के गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने की घटना सामने आई है। इसके पीछे खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) का हाथ होने का शक जताया जा रहा है। घटना सोमवार (29 जनवरी 2023) रात की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गौरी-शंकर मंदिर की दीवारों पर खालिस्तान समर्थकों ने ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिख दिए। कनाडा के टोरंटो स्थित भारत के कॉन्सुलेट कार्यालय ने इसकी कड़ी निंदा की है। कॉन्सुलेट कार्यालय ने ट्वीट कर कहा है, “ब्रैम्पटन में स्थित भारतीय विरासत के प्रतीक गौरी-शंकर मंदिर में भारत विरोधी नारे लिखे जाने की हम कड़ी निंदा करते हैं। मंदिर में हुई इस घृणास्पद घटना से कनाडा में हिंदू समुदाय की भावनाएँ आहत हुई हैं। हमने कनाडा प्रशासन के सामने इस मामले को लेकर अपनी चिंता जताई है।”

बता दें कि ब्रैम्पटन शहर में स्थित गौरी-शंकर मंदिर कनाडा के मशहूर हिंदू मंदिरों में से एक है। यह मंदिर वर्षों से हिंदुओं की आस्था और श्रद्धा का प्रतीक रहा है। फिलहाल इस मामले में स्थानीय पुलिस जाँच कर रही है।

कनाडा के सांसद चंद्र आर्य ने भी इस घटना की निंदा की है। उन्होंने कहा है, “ब्रैम्पटन के गौरी शंकर मंदिर पर हमला हुआ है। यह कनाडा में हिंदू और भारत विरोधी समूहों द्वारा हिंदू मंदिरों पर किए गए हमलों का सबसे ताजा मामला है। सोशल मीडिया पर नफरत के बाद अब हिंदू मंदिरों पर हमले हो रहे हैं। अब आगे क्या होगा? मैं कनाडा सरकार से आग्रह करता हूँ कि ऐसे हमलों पर गंभीरता से विचार करें।”

इस घटना के पीछे खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस व अन्य खालिस्तानी समूहों के होने का शक जताया जा रहा है। टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, सिख फॉर जस्टिस ने इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर अपलोड किया है।

बता दें कि इससे पहले सितंबर 2022 में कनाडा के टोरंटो में स्थित बीबीएस स्वामी नारायण मंदिर में खालिस्तानी आतंकियों ने तोड़फोड़ की थी। इसके बाद मंदिर की दीवारों पर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे थे। फरवरी 2022 में भी टोरंटो में छह मंदिरों पर हमला किया गया था। यहाँ तक कि उपद्रवी दान पेटियों से नकदी, भगवान की मूर्तियाँ और उन्हें चढ़ाए गए आभूषण भी चोरी करके ले गए थे। ऐसी ही घटना 15 जनवरी 2022 को जीटीए शहर के ब्रैम्पटन में श्री हनुमान मंदिर में हुई थी। यही नहीं, उपद्रवियों ने 25 जनवरी, 2022 को ब्रैम्पटन में माँ चिंतपूर्णी के मंदिर को भी तोड़ दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -