Monday, May 16, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'IPL छोड़ो, देश के साथ खड़े हो जाओ': श्रीलंका को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले...

‘IPL छोड़ो, देश के साथ खड़े हो जाओ’: श्रीलंका को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान ने कहा- सरकार के खिलाफ बोलने से डरते हैं क्रिकेटर

आईपीएल खेलने वाले क्रिकटरों के लिए पूर्व कप्तान अर्जुना राणातुंगा ने कहा, “मुझे मालूम है कि आपको पता होगा कि कौन इस समय आईपीएल खेल रहा है। मैं किसी का नाम नहीं लेना चाहता हूँ। बस मैं चाहता हूँ वो अपना काम एक हफ्ते के लिए छोड़ दें और प्रदर्शन के समर्थन में आएँ।”

श्रीलंका की गिरती अर्थव्यवस्था और बढ़ती महंगाई ने वहाँ की जनता को सड़कों पर उतरकर सरकार के विरोध में प्रदर्शन करने को मजबूर कर दिया है। लोगों की माँग है कि राष्ट्रपति गोटाहया राजपक्षे अपना इस्तीफा दें और अपने घर जाएँ। नागरिकों में बिजली, पानी, खाना आदि बुनियादी जरूरतें न मिल पाने की वजह से काफी गुस्सा है। इसी क्रम में श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर व हाल में मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले अर्जुना राणातुंगा ने भी आवाज उठाई। हालाँकि, वह प्रत्यक्ष रूप से इस प्रदर्शन का हिस्सा नहीं बने लेकिन उन्होंने मंगलवार को अपने देश के क्रिकेटरों को संदेश दिया कि वो लोग इंडियन प्रीमियर लीग खेलना छोड़ें और आकर देश के साथ खड़े हों, इस प्रदर्शन का हिस्सा बनें।

IPL छोड़ो, देश के साथ खड़े हो: अर्जुना राणातुंगा

समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए अर्जुना राणातुंगा ने कहा, “मुझे सच में नहीं पता लेकिन कुछ क्रिकेटर हैं जो शान से आईपीएल खेल रहे हैं और देश में बारे में एक शब्द नहीं कह रहे। दुर्भाग्य से ये लोग सरकार के विरुद्ध बोलने से डरते हैं। ये क्रिकेटर भी मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले क्रिकेट बोर्ड के लिए काम करते हैं और अपनी जॉब बचाना चाहते हैं। लेकिन अब इन्हें कदम उठाना होगा क्योंकि कई युवा क्रिकेटर आगे आए हैं और प्रदर्शन को समर्थन दिया है।”

उन्होंने कहा, “जब कुछ गलत होता है तो आपमें इतना दम होना चाहिए कि आप सामने आकर बोलें वो भी बिन अपने काम के बारे में सोचें। लोग कहते हैं कि आखिर मैं प्रदर्शन में क्यों नहीं हूँ। ये सिर्फ इसलिए क्योंकि मैं 19 साल से राजनीति में हूँ और ये कोई राजनीति संबंधी मसला नहीं है। अब तक कोई भी पॉलिटिकल पार्टी या राजनेता इस प्रदर्शन में नहीं गया। यही इस देश के लोगों की सबसे बड़ी ताकत है।”

आईपीएल खेलने वाले क्रिकटरों के लिए उन्होंने कहा, “मुझे मालूम है कि आपको पता होगा कि कौन इस समय आईपीएल खेल रहा है। मैं किसी का नाम नहीं लेना चाहता हूँ। बस मैं चाहता हूँ वो अपना काम एक हफ्ते के लिए छोड़ दें और प्रदर्शन के समर्थन में आएँ।”

PM मोदी की तारीफ

इससे पहले 1996 CSX BF अर्जुना राणातुंगा ने अपने देश के मौजूद हालात को लेकर पीएम मोदी की तारीफ की थी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जाफना इंटरनेशनल एयरपोर्ट को शुरू करने में हमारी मदद की थी। भारत का फोकस सिर्फ पैसे देने पर नहीं, बल्कि हमारी जरूरतों को समझने पर भी है। इसी वजह से भारत हमें पेट्रोल-दवाई जैसी चीजों की मदद पहुँचा रहा है, जिसकी कमी हमें आगे आने वाले समय में हो सकती है।

श्रीलंका की हालत

बता दें कि कर्ज में डूबने के कारण श्रीलंका की अर्थव्यवस्था लगातार गिरती जा रही है। खाने से लेकर गैस-सिलेंडर की दिक्कत से इस समय श्रीलंका बुरी तरह जूझ रहा है। जरूरी सामानों के लिए पड़ोसी देशों की जरूरत पड़ रही हैं। लोग सड़कों पर उतर आए हैं। प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से उनका इस्तीफा माँगा जा रहा है। वहीं सरकार लोगों को आश्वासन दे रही है कि वो ये सारी चीजें न करें क्योंकि सरकार स्थिति से निपटने की कोशिश कर रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के कारण टूटा संगठन: BKU से निकलने के बाद टिकैत भाइयों के बयानों में फूट, एक ने मढ़ा BJP पर इल्जाम, दूसरा...

भारतीय किसान यूनियन में हुई फूट के मुद्दे पर राकेश टिकैत ने सरकार को दिया दोष, तो नरेश टिकैत ने किसी भी प्रकार की राजनीति होने से इंकार किया।

बॉलीवुड फिल्मों के फेल होने के पीछे कंगना ने स्टार किड्स को बताया जिम्मेदार, बोलीं- उबले अंडे जैसी शक्ल होती है इनकी, कौन देखेगा

कंगना रनौत ने एक बार फिर से स्टार किड्स को लेकर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि स्टार किड्स दर्शकों से कनेक्ट नहीं कर पाते। उनके चेहरे उबले अंडे जैसे लगते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
185,988FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe