Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'कानून से बढ़कर कोई नहीं': वर्ल्ड नंबर 1-9 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता, फिर भी...

‘कानून से बढ़कर कोई नहीं’: वर्ल्ड नंबर 1-9 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता, फिर भी ऑस्ट्रेलिया ने नोवाक जोकोविच को एयरपोर्ट से लौटाया

बताया जा रहा है कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार के फैसले को वे अदालत में चुनौती दे सकते हैं। यह खबर भी आई थी कि ऑस्ट्रेलियन ओपन में हिस्सा लेने के लिए जोकोविच को वैक्सीनेशन नियमों में छूट दी गई थी।

टेनिस खिलाडी नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) को ऑस्ट्रेलिया (Australia) में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है। ऐसा उनके फुली वैक्सीनेटेड (Corona Vaccine) नहीं होने के कारण किया गया है। उनके वीज़ा को भी रद्द कर दिया गया है। यह जानकारी ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन (Scott Morrison) ने 6 जनवरी (गुरुवार) को दी। ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) में हिस्सा लेने के लिए पहुँचे जोकोविच को मेलबोर्न एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया था।

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने कहा है, “जोकोविच का वीज़ा (Visa) कैंसिल कर दिया है। हमारे देश के अंदर जो कानून है वह लागू होगा। कानून से बढ़कर कोई भी नहीं है। इन्ही कड़े कानूनों से ही हमारे देश में कोरोना काल में दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर रही थ। हम कानूनों का उललंघन नहीं होने देंगे।?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑस्ट्रेलियन ओपन के लिए कुल मिला कर लगभग 3000 खिलाडियों और स्टाफ ने आवेदन किया था। इसमें से 26 लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई थी। जोकोविच पर वैक्सीन संबंधी झूठे कागज़ात पेश करने का भी आरोप लगा है। ऐसे में उन्हें लम्बे समय तक एयरपोर्ट पर रोका गया। इस पूरे घटनाक्रम पर जोकोविच ने एयरपोर्ट से ट्वीट भी किया है। यह भी बताया जा रहा है कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार के फैसले को वे अदालत में चुनौती दे सकते हैं। यह खबर भी आई थी कि ऑस्ट्रेलियन ओपन में हिस्सा लेने के लिए जोकोविच को वैक्सीनेशन नियमों में छूट दी गई थी।

गौरतलब है कि नोवाक जोकोविच 9 बार के ऑस्ट्रेलियन ओपन चैम्पियनशिप के विजेता हैं। उन्हें बुधवार को ऑस्ट्रेलियन बॉर्डर फ़ोर्स ने एयरपोर्ट पर रोक लिया था। इस दौरान स्टेट विक्टोरिया गर्वनमेंट से सम्पर्क किया गया। आखिरकार लगभग 10 घंटे तक चली लम्बी जद्दोजहद के बाद उनको वापस भेजने का फैसला किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -