Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय20 साल पुराने निर्जन टापू पर रखे जाएँगे 1 लाख रोहिंग्या, चारों तरफ फैला...

20 साल पुराने निर्जन टापू पर रखे जाएँगे 1 लाख रोहिंग्या, चारों तरफ फैला है पानी

अधिकारियों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में स्थित इस द्वीप में बाढ़ से बचाव के लिए मकान, अस्पताल और मस्जिदें बनाई गई हैं। अगस्त 2017 के बाद लगभग 700,000 रोहिंग्या म्यामांर से बांग्लादेश आए हैं।

म्यांमार से भाग कर बांग्लादेश पहुँचे रोहिंग्याओं में से 100,000 शरणार्थियों को अब सरकार ‘भसन चार’ नाम के बांग्लादेशी द्वीप पर रखने के लिए तैयार है। अधिकारियों ने गुरुवार (जनवरी 16, 2019) को इसकी जानकारी दी। हालाँकि फिलहाल इन शरणार्थियों को द्वीप पर भेजने के तारीख की घोषणा नहीं की गई है। बता दें कि भसन चार एक छोटा सा निर्जन द्वीप है, जिस पर बाढ़ और तूफान आने का खतरा हमेशा ही बना रहता है। इस द्वीप के चारों ओर पानी ही पानी फैला है।

अधिकारियों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में स्थित इस द्वीप में बाढ़ से बचाव के लिए मकान, अस्पताल और मस्जिदें बनाई गई हैं। बांग्लादेश शरणार्थी, राहत और प्रत्यावर्तन आयोग के प्रमुख महबूब आलम तालुकदार ने बताया, “लोगों को भसन चार में रखने की तैयारी पूरी हो चुकी है। यहाँ पर सारी व्यवस्थाएँ कर दी गईं हैं।”

इस द्वीप को केवल उन लाखों रोहिंग्याओं में से 100,000 शरणार्थियों के लिए तैयार किया गया है, जो म्यांमार से यहाँ आए हैं। बता दें कि अगस्त 2017 के बाद लगभग 700,000 रोहिंग्या म्यामांर से बांग्लादेश आए हैं। जानकारी के मुताबिक, विदेशी मीडिया को भसन चार में जाने से प्रतिबंधित किया गया है। बांग्लादेश के एक स्वतंत्र पत्रकार सालेह नोमान, जिन्होंने हाल ही में द्वीप का दौरा किया था, ने वहाँ के समुदाय के बारे में बताया।

सालेह नोमान ने कहा, “मैंने वहाँ के मार्केट में लगभग 10 किराने की दुकानों और सड़क के किनारे चाय की दुकानों को देखा। कुछ लोग मछली और सब्जियाँ भी बेच रहे थे। वहाँ पर सोलर पावर सिस्टम और वाटर सप्लाई लाइन के साथ ही सारी व्यवस्था कर दी गई है।” बता दें कि करीब 20 साल पहले बंगाल की खाड़ी में यह द्वीप सतह पर उभरकर आया था। इस निर्जन द्वीप पर मानसून में हमेशा बाढ़ का खतरा बना रहता है।

गौरतलब है कि महबूब आलम तालुकर ने अक्टूबर 2019 में कहा था कि वो अगले महीने की शुरुआत तक पुनर्वास शुरू करना चाहते हैं। न्यूज़ एजेंसी रायटर्स से बात करते हुए उन्होंने कहा था कि शरणार्थियों को विभिन्न चरणों में स्थानांतरित किया जाएगा।

यह खबर ऐसे वक़्त में सामने आई है जब अंडमान निकोबार द्वीप समूह में रोहिंग्या घुसते पकड़े गए हैं। सोमवार (जनवरी 13, 2020) को पुलिस को सूचना मिली थी कि तरमुगली द्वीप पर कुछ संदिग्ध लोगों को नाव के साथ देखा गया। जिसके बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 66 लोगों को हिरासत में लिया, जो बाद में रोहिंग्या मुस्लिम निकले। हिरासत में लिए गए सभी आरोपित बांग्लादेश से आए थे।

बांग्लादेश ने अब और रोहिंग्या शरणार्थियों को लेने से किया इंकार

भारत में हमले का बड़ा प्लान: 40 रोहिंग्या का दस्ता, पाकिस्तान दे रहा ट्रेनिंग

बांग्लादेशी या रोहिंग्या इस देश का नहीं है, उसकी पहचान कर, अलग करना समय की माँग

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिन्दू देवी-देवताओं के अपमान पर ‘मत देखो’, इस्लामी कुरीति पर सवाल उठाना ‘आपत्तिजनक’: PK और ‘हमारे बारह’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दोहरा रवैया...

राधा व दुर्गा के साथ 'सेक्सी' शब्द जोड़ने वालों और भगवान शिव को बाथरूम में छिपते हुए दिखाने वालों पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कार्रवाई की थी? इस्लामी कुरीति दिखाने पर भड़क गया सर्वोच्च न्यायालय, हिन्दू धर्म के अपमान पर चूँ तक नहीं किया जाता।

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -