Friday, May 20, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल की जमीनों पर कब्जा कर चीन ने खड़ी की 8 इमारतें, अधिकारी हैरान;...

नेपाल की जमीनों पर कब्जा कर चीन ने खड़ी की 8 इमारतें, अधिकारी हैरान; ओली ने साध रखी है चुप्पी

रिपोर्ट के अनुसार, हुमला के लापचा-लिमी क्षेत्र की हालिया तस्वीरों से पता चला है कि चीन ने क्षेत्र में अब तक आठ इमारतें बना ली हैं। बावजूद इसके भारतीय इलाकों पर दावा ठोकने वाले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने अपनी जमीनों पर हो रहे अतिक्रमण पर चुप्पी साध रखी है।

चीन एक तरफ नेपाल के साथ तेजी से अपनी दोस्ती मजबूत कर रहा है। दूसरी तरफ अपना विस्तारवादी चरित्र दिखाते हुए नेपाल के इलाकों पर अतिक्रमण कर इमारतों का निर्माण भी कर रहा है।

खबर हब की एक रिपोर्ट के अनुसार, हुमला के लापचा-लिमी क्षेत्र की हालिया तस्वीरों से पता चला है कि चीन ने क्षेत्र में अब तक आठ इमारतें बना ली हैं। बावजूद इसके भारतीय इलाकों पर दावा ठोकने वाले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने अपनी जमीनों पर हो रहे अतिक्रमण पर चुप्पी साध रखी है।

हुमला के सहायक मुख्य जिला अधिकारी दलबहादुर हमाल इस क्षेत्र की हाल की तस्वीरों को देखकर हैरान रह गए और मामले की जाँच शुरू की है। स्थानीय नेपाली लोगों ने चीनी सेना के हाथों हुए उत्पीड़न की शिकायत भी की है। नेपाली जिला के अधिकारियों ने 30 अगस्त से 9 सितंबर तक क्षेत्र का निरीक्षण किया था।

IFE न्यूज नेटवर्क के सूत्रों के अनुसार, जिला प्रशासन ने पीएम ओली को इस मामले की खबर देते हुए चिंता जाहिर की, लेकिन अब तक उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है। स्थानीय लोगों को डर है कि नेपाली प्रशासन ने गुप्त सौदा करते हुए क्षेत्र में चीनी सेना को इसके लिए अनुमति दी है।

रिपोर्ट्स से पता चलता है कि इमारतें दूर से दिखाई देती हैं। हालाँकि, पीएलए सैनिकों की भारी उपस्थिति के कारण जिले के अधिकारियों को करीब से देखने का मौका नहीं मिला।

नेपाल की मीडिया रिपोर्ट्स से पता चलता है कि घटना के बारे में जानने के बाद, नेपाल के गृह मंत्रालय (MoHA) ने मामले को नेपाल के विदेश मंत्रालय को फॉरवर्ड कर दिया है। खबर हब ने निगरानी टीम के एक सदस्य के हवाले से कहा, “हम दूर से इमारतों को देख सकते थे। हमने चीन द्वारा वहाँ बनाई जा रही 1 इमारत के बारे में अफवाहें सुनी थीं, लेकिन निरीक्षण के बाद वहाँ ऐसी 8 बिल्डिंग्स पाई गई हैं।”

बता दें मामले की आगे की जाँच के लिए, सीडीओ चिरंजीवी गिरि और चार सुरक्षा निकायों के प्रमुख की एक टीम एक सप्ताह के लिए लापचा का दौरा करेगी।

गौरतलब है कि ऐसे वक़्त में भी नेपाल के कम्युनिस्ट प्रधानमंत्री केपी ओली भारतीय भूमि पर विचित्र दावे करने में व्यस्त हैं। कुछ दिनों पहले नेपाल ने आधिकारिक बयानों में कहा था कि नैनीताल, देहरादून, लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा सहित भारतीय क्षेत्र उसका हिस्सा हैं। जून में ऐसी खबरें आई थीं कि चीन ने नेपाल में 10 से अधिक स्थानों पर कब्जा कर लिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस पर प्रशांत किशोर का डायरेक्ट वार: चिंतन शिविर पर उठाए सवाल, कहा- गुजरात-हिमाचल में भी होगी हार

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इस चिंतन शिविर से पार्टी में कुछ बदलाव नहीं आने वाला है।

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,460FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe