Monday, March 1, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय रेप, गर्भपात, गुप्तांगों में मिर्ची का पेस्ट: चीन में उइगरों की स्थिति, सामने आया...

रेप, गर्भपात, गुप्तांगों में मिर्ची का पेस्ट: चीन में उइगरों की स्थिति, सामने आया Video, पढ़ें आपबीती

वीडियो के अलावा कैंप से किसी तरह भागी दो उइगर मुस्लिम महिलाओं की आपबीती भी है - रोंगटे खड़े कर देने वाली! गुलजिरा के भ्रूण को बिना एनेस्थेसिया दिए चीर दिया गया था जबकि रुकैया के साथ 4 साल तक हर रात बलात्कार...

चीन में उइगर मुस्लिमों पर होती बर्बरता का लगातार खुलासा हो रहा है। अभी हाल में वहाँ के यातना गृह से भागकर दुनिया के सामने आने वाली मुस्लिम महिलाओं ने इन कैंपों की हकीकत का खुलासा किया है। उन्होंने विदेशों में शरण पाने के बाद बताया है कि कैसे चीन के यातना कैंपों में उनके साथ बलात्कार होते थे, उनके गर्भपात कराए जाते थे और भयावह तरीके से उनकी नसबंदी होती थी।

इसके अलावा चीन में मुस्लिमों की दशा को दिखाता एक वीडियो भी सामने आया है। जिसे वॉर ऑन फियर नाम के यूट्यूब चैनल पर पिछले महीने अपलोड किया गया है। इसमें देखा जा सकता है कि कई सौ की तादाद में कैसे मुस्लिमों को बंदी बनाकर, उनकी आँखों को मूँदकर ट्रेन से शियानजिंग में स्थांतरित किया जा रहा है।

हालाँकि, चीन इन कॉन्संट्रेशन कैंम्पों को प्रशिक्षण केंद्र मानता है। चीन का कहना है कि मुस्लिम लोगों को अतिवाद से बाहर निकालने और उन्हें नए स्किल देने के लिए ये कैंप चला रहा है। वहीं केवल कैंप से भागी हुई महिलाएँ ही नहीं, बल्कि वहाँ स्थानीय अधिकार समूह भी बताते हैं कि इन कैंपो में महिलाओं के गुप्तांगों में मिर्ची का पेस्ट लगाना जैसी चीजें बेहद आम है।

डेलीमेल की एक रिपोर्ट में ऐसी ही दो महिलाओं की आपबीती का उल्लेख है। जिनमें से एक रुकैया परहेट हैं और दूसरी गुलजिरा मॉगदिन। रुकैया को साल 2009 में शिनजियांग में हिरासत में लिया गया था, जिसके बाद उन्होंने 4 साल तक चीनी अधिकारियों की प्रताड़ना झेलीं। आज वो तुर्की में हैं।

रुकैया बताती हैं कि चीन में 35 साल से कम उम्र के हर आदमी और हर औरत का बलात्कार किया जाता है। कैंप के गार्ड जिसके साथ रात गुजारना चाहते हैं, उसके सिर पर बैग रखते हैं और फिर खींचते हुए बाहर ले जाते है। फिर पूरी रात उसका बलात्कार होता है। रुकैया का दावा है कि चीन में गिरफ्तारी के दौरान जो महिलाएँ गर्भवती होती हैं, उनका बर्बता से गर्भपात करवा दिया जाता है।

रुकैया के अलावा इस कैंप से भागकर कजाकिस्तान में शरण लेने वाली गुलजिरा मॉगदिन भी बताती हैं कि इन कैंपों में भयंकर तरीके से गर्भपात किया जाता है। वे अपना अनुभव साझा करते हुए कहती हैं कि उनके भ्रूण को बिना एनेस्थेसिया दिए चीर दिया गया था।

इतनी बर्बरता और क्रूरता का वीडियो सहित खुलासा होने के बाद भी चीन प्रशासन अपने अधिकारियों की कार्रवाई को एक सामान्य टास्क बता रहा है। जबकि ड्रोन से लिए गए वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि बंदियों को ट्रेन से ले जाया जा रहा है और उन सभी के सर मुंडे हुए है, आँख काली पट्टी से ढकी हुई है और हाथ बंधे हुए हैं। बताया जा रहा है कि यह वीडियो अमेरिकी अधिकारियों द्वारा प्रमाणित है।

मुस्लिम महिलाओं के साथ रात को सोते हैं चीनी अधिकारी: खिलाते हैं सूअर का माँस, पिलाते हैं शराब

यहाँ बता दें कि चीन के इन कैंपों में महिलाओं के प्राइवेट पार्ट्स पर मिर्ची का पेस्ट लगाने वाली क्रूरता का खुलासा होने से पहले भी कई भयावह सच्चाईयाँ सामने आ चुकी हैं। इन कैंपों में प्रताड़ना झेल चुके पूर्व बंदियों ने बताया था कि उइगर मुस्लिमों को वहाँ सुअर का माँस जबरन खिलाया जाता है और मंदारिन बोलने का दबाव बनाया जाता है।

इसके अलावा चीन इन उइगर मुस्लिमों के लिए रोज नए नियम-क़ानून बना रहा है। वहाँ इस्लामी टोपी लगा कर घूमने पर पाबन्दी है, नमाज भी पुलिस की निगरानी में अनुमति लेकर ही पढ़ी जा सकती है और इस्लामिक रीति-रिवाजों पर प्रतिबन्ध है। चीन के शिनजियांग प्रान्त में ख़ास करके उइगर मुस्लिमों को डिटेंशन कैम्प में रखा जाता है, जहाँ उनका ‘चीनीकरण’ किया जाता है।

जानकारी के मुताबिक चीन में जिन मुस्लिमों को डिटेंशन कैम्प में भेजा जाता है, उनके घर की निगरानी रखने के लिए चीनी नागरिकों को हायर किया गया है। ये चीनी नागरिक उइगर मुस्लिमों के घर पर निगरानी रखते हैं। निगरानी के नाम पर इन उइगरों के घर-परिवार के साथ क्या-क्या होता है, यह जानकर आपको आश्चर्यचकित रह जाएँगे, आपको सदमा लगेगा। निगरानी रखने वाले चीनी नागरिक उइगर मुस्लिमों की पत्नियों के साथ बिस्तर पर सोते हैं।

उइगर मुस्लिम परिवारों के लिए नियम बनाया गया है कि वो नियमित रूप से चीनी अधिकारियों को अपने घर पर आमंत्रित करें और अपने मजहबी और राजनीतिक विचारों से उन्हें अवगत कराएँ। इसीलिए, चीन ने ‘पेअर अप एंड बिकम फैमिली’ योजना लागू की है, जिसमें हर उइगर परिवार को एक चीनी असाइन किया गया है। यह कुछ और नहीं बल्कि उइगरों के घर जाकर सेक्स स्लेव (यौन दासी) के साथ मनोरंजन करने की आड़ में बनाया गया कानून है।

182 कन्सेंट्रेशन कैंप, 209 जेल, 74 लेबर कैंप, 10 लाख+ हिरासत में: चीन में उइगरों की हालत

अभी हाल ही में उइगर कार्यकर्ताओं ने भी दावा किया है कि उन्होंने जातीय समूह को हिरासत में लेने के लिए चीन द्वारा चलाए जा रहे करीब 500 शिविर और जेल देखे हैं। जिसे देखकर उनका दावा है कि चीन के इन कैंपों में रह रहे लोगों की संख्या 10 लाख बताई जाती रही है लेकिन यह आँकड़ा इससे कहीं ज्यादा हो सकता है। इसके अलावा ‘द ईस्ट तुर्किस्तान नेशनल अवेकनिंग मूवमेंट’ नाम के समूह ने 182 संदिग्ध ‘‘हिरासत शिविरों’’ के बारे में संकेत दिए हैं, जहाँ उइगरों पर उनकी संस्कृति छोड़ने के लिए कथित तौर पर दबाव बनाया जाता है। और समूह ने गूगल अर्थ पर मौजूद ताजा तस्वीरों का आकलन करने के बाद कहा है कि उसने मंगलवार को 209 संदिग्ध जेल और 74 संदिग्ध श्रम शिविर देखे, जिनके संबंध में वह बाद में जानकारियाँ साझा करेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी में सभी को दी जाएगी एक यूनिक हेल्थ आईडी, शहरों में हजारों गरीबों को घर देने की तैयारी में योगी सरकार

जल्द व बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश के सभी लोगों के स्वास्थ्य का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

सोनिया को राहुल बाबा को PM बनाने की चिंता, स्टालिन को उधयनिधि को CM- 2जी, 3जी, 4जी सब तमिलनाडु में: अमित शाह

गृह मंत्री ने कहा कि सोनिया गाँधी को राहुल बाबा को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता है और स्टालिन जी को उधयनिधि को मुख्यमंत्री बनाने की चिंता है। इन्हें ना देश की चिंता है और ना तमिलनाडु की, उनको बस अपने परिवार की चिंता है।

कॉन्ग्रेस ने वामपंथी रैली की पुरानी तस्वीरें शेयर कर नींद हराम करने का किया दावा, फर्जीवाड़े की पोल खुलते ही पार्टी सन्नाटे में

कॉन्ग्रेस आईटी सेल और कई अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा झूठे दावे के साथ साझा की गई दोनों तस्वीरें फर्जी निकलीं। जिसे रविवार (फरवरी 28, 2021) को कोलकाता में कॉन्ग्रेस पार्टी और वाम दलों की तथाकथित संयुक्त रैली में लेने का फर्जी दावा किया गया था।

‘किसानों के लिए डेथ वारंट है ये तीनों कृषि कानून, दिल्ली हिंसा में बीजेपी के लोग शामिल’: महापंचायत में केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि किसानों के उपर लाठियाँ बरसाई गई। यह केंद्र सरकार का ही प्‍लान था। भाजपा समर्थक ही दिल्‍ली की घटना में शामिल थे। केंद्र सरकार का प्‍लान था कि किसानों का रुट डायवर्ट कराकर दिल्‍ली में भेजा जाए। ताकि...

‘भैया राहुल आप छुट्टी पर थे, इसलिए जानकारी नहीं कि कब बना मछुआरों के लिए अलग मंत्रालय’: पुडुचेरी में अमित शाह

“कॉन्ग्रेस आरोप लगा रही है कि बीजेपी ने उनकी सरकार को यहाँ गिराया। आपने (कॉन्ग्रेस) मुख्यमंत्री ऐसा व्यक्ति बनाया था, जो अपने सर्वोच्च नेता के सामने ट्रांसलेशन में भी झूठ बोले। ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया गया।"

‘लद्दाख छोड़ो, सिंघू बॉर्डर आओ’: खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत पन्नू ने सिख सैनिकों को उकसाया, ऑडियो वायरल

“लद्दाख बॉर्डर को छोड़ दें और सिंघू सीमा से जुड़ें। यह भारत के लिए खुली चुनौती है, हम पंजाब को आजाद कराएँगे और खालिस्तान बनाएँगे।"

प्रचलित ख़बरें

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

जलाकर मार डाले गए 27 महिला, 22 पुरुष, 10 बच्चे भी रामभक्त ही थे, अयोध्या से ही लौट रहे थे

27 फरवरी 2002 की सुबह अयोध्या से लौट रहे 59 रामभक्तों को साबरमती एक्सप्रेस में करीब 2000 लोगों की भीड़ ने जलाकर मार डाला था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe