Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयPAK में 'गृहयुद्ध': सेना के खिलाफ लगे सड़कों पर नारे, नवाज शरीफ के दामाद...

PAK में ‘गृहयुद्ध’: सेना के खिलाफ लगे सड़कों पर नारे, नवाज शरीफ के दामाद की गिरफ्तारी पर आर्मी चीफ को देने पड़े जाँच के आदेश

ऐसे ही खींचतान के बीच द इंटरनेशनल हेराल्ड ने ट्विटर पर एक वीडियो डाली। इस वीडियो में बाजवा के ख़िलाफ़ नारे लग रहे थे। ट्वीट में कैप्शन देते हुए पाकिस्तान की स्थिति को 'सिविल वॉर' करार दिया। बाद में खबर आई कि इस झड़प में 10 कराची पुलिस ऑफिसर मारे गए।

पाकिस्तान में इमरान सरकार और पाक सेना को लेकर विपक्ष का गुस्सा कम होने का नाम नहीं ले रहा। ताजा खबर है कि पाकिस्तान के आर्मी चीफ ने अपनी सेना पर लग रहे आरोपों के मद्देनजर जाँच के आदेश दे दिए हैं। पाक आर्मी पर आरोप है कि उन्होंने सिंध के पुलिस चीफ का अपहरण किया ताकि वह पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शऱीफ के दामाद की गिरफ्तारी करवा सकें।

अपने बयान में मिलिट्री ने कहा आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने कराची की पोर्ट सिटी में मिलिट्री पर लग रहे आरोपों की जाँच शुरू करने के आदेश दिए हैं।

मंगलवार (अक्टूबर 20, 2020) को ऐसे ही खींचतान के बीच द इंटरनेशनल हेराल्ड ने ट्विटर पर एक वीडियो डाली। इस वीडियो में बाजवा के ख़िलाफ़ नारे लग रहे थे। ट्वीट में कैप्शन देते हुए पाकिस्तान की स्थिति को ‘सिविल वॉर’ करार दिया। बाद में खबर आई कि इस झड़प में 10 कराची पुलिस ऑफिसर मारे गए। हालाँकि, पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने अपने वेबसाइट पर ऐसी कोई खबर पब्लिश नहीं की।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में यह सारी हलचल ठीक तब शुरू हुई जब विपक्ष ने प्रधानमंत्री इमरान खान के प्रशासन के खिलाफ़ रैली निकाली और नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार कर लिए गए।  सफदर को तो कोर्ट ने बाद में बेल देकर रिहा कर दिया, पर इस बीच पाकिस्तान आर्मी पर आरोप लगने लगे कि पाक सेना ने उन्हें गिरफ्तार किया व सिंध प्रांत के पुलिस चीफ मुश्ताक मेहर का अपहरण करके सफदर की गिरफ्तारी के लिए दवाब बनाया।

वैसे बता दें कि अभी तक इन आरोपों पर न किसी जवान ने और न पीएम इमरान खान ने कोई टिप्पणी की है। मगर, मेहर के साथ हुए दुर्व्यवहार से वहाँ कई पुलिस अधिकारियों में गुस्सा है। अधिकारियों का कहना है कि पुलिस ने शुरू में ही सफदर को गिरफ्तार करने से मना किया था। 

इस संबंध में 20 अक्टूबर को सिंध पुलिस ने कई ट्वीट किए हैं। एक ट्वीट में उन्होंने बताया कि 18/19 अक्टूबर को हुई घटना ने सिंध पुलिस को आहत किया है। इस घटना के बाद सिंध पुलिस चीफ ने छुट्टी पर जाने का निर्णय लिया लेकिन बाद में जाँच हेतु फैसला बदल लिया। उन्होंने यह नहीं बताया है कि किसने उनका अपहरण करके किसने उन्हें रेंजर्स के पास पहुँचाया। 

सिंध पुलिस ने अपने ट्वीट थ्रेड में चीफ के साथ हुई घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। साथ ही मामले में जाँच का आदेश देने के लिए आर्मी चीफ का आभार व्यक्त किया। ज्ञात हो कि नवाज शरीफ के दामाद को कराची में उनके होटल से गिरफ्तार किया गया था।

सिंध पुलिस के ट्वीट

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी की फेक फोटो से फैलाया झूठ, इंटरव्यू भी काट कर चलवाया… पूर्व IAS जवाहर सरकार को राज्यसभा भेजेगी TMC

TMC ने राज्यसभा के लिए जवाहर सरकार को नामांकित किया है। हाल ही में वह पीएम मोदी की छवि को धूमिल करने के लिए नीता अंबानी के साथ उनकी फोटोशॉप्ड तस्वीर शेयर करके चर्चा में आए थे।

खुले मंच से हिंदुओं के लिए घृणा, PM मोदी और अमित शाह के लिए बहुत ही गंदी बात: पादरी जॉर्ज पोन्नैया गिरफ्तार

पादरी जॉर्ज पोन्नैया को धार्मिक समूहों के बीच नफरत फैलाने, पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार कर...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,978FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe