Saturday, November 27, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट पर नेपाली-चीनी मजदूरों के बीच झड़प, लगाए 'गो बैक टू चीन'...

नेपाल हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट पर नेपाली-चीनी मजदूरों के बीच झड़प, लगाए ‘गो बैक टू चीन’ के नारे

गाँव वालों ने चीनी नागरिकों को अपने गाँव में प्रवेश करने से रोक दिया ताकि अनावश्यक आवाजाही को रोका जा सके। हालाँकि, जब हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट की निर्माण सामग्री में इस्तेमाल किए जा रहे दो ट्रकों ने ब्लॉकेज (रोकने के लिए लगाई गई तारों) को हटाकर गाँव में प्रवेश करने की कोशिश की तो गुस्साए युवक बाहर आ गए और विरोध शुरू कर दिया।

नेपाल में काम करने वाले चीनी और स्थानीय नेपाली लोगों के बीच मंगलवार (मार्च 31, 2020) को झड़प हो गई। दोनों के बीच झड़प ऐसे समय पर हुई है जब कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए हिमालयी देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई है। इसके अलावा सरकार ने पड़ोसी देशों के साथ लगने वाली अपनी सीमाओं को सील किया हुआ है।

लामजुंग में हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट का निर्माण करने वाली एक चीनी कंपनी के मालिकों के साथ नेपाल के मार्यांगडी के स्थानीय लोग भिड़ गए। ग्रामीणों ने लामजुंग जिले के मंगरंगी ग्रामीण नगर पालिका-6 में थुलोबेसी स्थित न्यादी हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट के लिए निर्माण सामग्री ले जाने वाले ट्रकों की आवाजाही का विरोध किया। साथ ही लोगों ने ‘गो बैक टू चीन’ के नारे भी लगाए। यह जानकारी एक ऑनलाइन मीडिया पोर्टल खाबारहुब ने दी।

स्थानीय लोगों ने उनका विरोध इसलिए किया क्योंकि वे सभी चीन से वापस लौटे हैं। चीन को कोरोना वायरस के प्रसार के लिए जिम्मेदार माना जाता है क्योंकि पिछले साल वुहान में इसका पहला मामला सामने आया था। वहाँ से यह वायरस पूरी दुनिया में फैला और अब तक हजारों लोगों की जान जा चुकी है। साथ ही यह महामारी कई देशों की अर्थव्यस्था को प्रभावित कर चुका है। 

गाँव वालों ने चीनी नागरिकों को अपने गाँव में प्रवेश करने से रोक दिया ताकि अनावश्यक आवाजाही को रोका जा सके। हालाँकि, जब हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट की निर्माण सामग्री में इस्तेमाल किए जा रहे दो ट्रकों ने ब्लॉकेज (रोकने के लिए लगाई गई तारों) को हटाकर गाँव में प्रवेश करने की कोशिश की तो गुस्साए युवक बाहर आ गए और विरोध शुरू कर दिया। 

चीनी नागरिकों ने स्थानीय लोगों को धमकाने के लिए स्वदेशी खंजर ‘खुखरी’ दिखाई। नेपाली पत्रकार नबीन कुइनकेल ने कहा कि स्थानीय लोगों ने उस समय अपना आपा खो दिया जब निर्माणाधीन हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट के लिए निर्माण सामग्री लाने के लिए परिवहन ने सड़क किनारे लगाए गए कंटीले तारों को हटा दिया।

स्थानीय नागरिक करण थापा ने कहा कि जब स्थानीय प्रशासन ने लॉकडाउन के उल्लंघन पर आपत्ति जताई तो चीनी नागरिकों ने हम पर हमला किया। उन्होंने कहा, “स्थानीय लोगों ने चीन के लोगों द्वारा सरकारी आदेश का उल्लंघन करने पर विरोध किया।” इस बीच पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच बैठक कर समाधान निकालने की कोशिश की।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ट्रैक्टर लेकर संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहरा दो’: SFJ ने किया ₹94 लाख के इनाम का ऐलान, दिल्ली पुलिस सतर्क

प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस के चीफ गुरुपवंत सिंह पन्नू ने देश की संसद पर खालिस्तानी झंडा लहराने के लिए उकसाया है।

गुरु नानक की जयंती मनाने Pak गई शादीशुदा सिख महिला ने गूँगे-बहरे इमरान से कर लिया निकाह, बन गई ‘परवीन सुल्ताना’: रिपोर्ट

कोलकाता की एक शादीशुदा सिख महिला गुरु नानक की जयंती मनाने पाकिस्तान गईं, लेकिन वहाँ एक प्रेमी के झाँसे में आकर इस्लाम अपना लिया। वीजा समस्याओं के कारण भेजा गया वापस।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
139,998FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe