Wednesday, April 14, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय चीन से भारत का रुख करेंगी कई कम्पनियाँ, रूस से हुए समझौते: देश में...

चीन से भारत का रुख करेंगी कई कम्पनियाँ, रूस से हुए समझौते: देश में पैदा होंगे रोजगार के नए अवसर

कुछ ही दिनों में चीन में नौकरियों के लिए 90 लाख लोग आपस में प्रतियोगिता करेंगे। चीन में मार्च में 5.9% बेरोजगारी थी, जो अप्रैल में बढ़ कर 6.2% हो गई। हालाँकि, चीन में सरकारी डेटा भरोसेमंद नहीं होते हैं। वहाँ के जॉब मार्किट में कोविड-19 का भयानक असर पड़ा है, ऐसा कई विशेषज्ञों का मानना है।

कोरोना वायरस आपदा के बीच भारत सरकार देश में जॉब और उद्योग के लिए भी मेहनत कर रही है। कई कंपनियों से बातचीत की जा रही है, चीन से बोरिया-बिस्तर समेटने वाली कंपनियों को यहाँ बुलाया जा रहा है और आईटी क्षेत्र का हब होने का फायदा उठाते हुए कई कंपनियों को लुभाया जा रहा है। अमेरिकी कम्पनी वॉलमार्ट ने निर्णय लिया है कि वो इस साल भारत में 2800 कर्मचारियों को भर्ती करेगी। इसके अलावा भी रोजगार के कई नए अवसरों का सृजन होगा।

भारत में नौकरियाँ पैदा करेगा वॉलमार्ट

वॉलमार्ट यहाँ ज्यादा से ज्यादा नौकरी के मौके देने के लिए आक्रामक हायरिंग शुरू करेगी। रिटेल के क्षेत्र में सबसे बड़ा ब्रांड मानी जाने वाली वॉलमार्ट के भारत में 28 बड़े स्टोर हैं। भारतीय इ-कॉमर्स कम्पनी फ्लिपकार्ट में सबसे ज्यादा शेयर वॉलमार्ट का ही है। वॉलमार्ट लैब्स के लिए कई सॉफ्टवेयर प्रोफेशनल हायर किए जाएँगे। वॉलमार्ट के बेंगलुरु दफ्तर में फ़िलहाल 3500 लोग कार्यरत हैं।

बेंगलुरु में टेक्निकल फील्ड से जुड़े 2000 लोगों की हायरिंग की जाएगी। वॉलमार्ट बेंगलुरु की टीम इंजीनियरिंग, प्रोडक्ट डेवलपमेंट और साइंस प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही है। चेन्नई में भी कम्पनी का नया दफ्तर लॉन्च हुआ है, जहाँ 800 लोगों की हायरिंग की जानी है। वल्ल्वर के ग्लोबल डेटा को चेन्नई में ही प्रोसेस और रन किया जाएगा। इसीलिए, डेटा इंजीनियरिंग के लिए वहाँ वैकेंसी निकाली जा रही है।

चेन्नई में वॉलमार्ट का ऑफिस कैम्पस ढाई एकड़ में स्थित है। चेन्नई सेंटर को ‘ग्लोबल डेटा आर्गेनाईजेशन’ के रूप में विकसित किया जाएगा। वॉलमार्ट 28 देशों में 11,698 स्टोर्स के जरिए 26 करोड़ ग्राहकों को सेवाएँ देता है।

भारत-रूस में होंगे कई समझौते

कच्चा तेल और कोयला व्यापार के लिए भारत ने रूस के साथ ही कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। भारत अब रूस से क्रूड ऑइल इम्पोर्ट को बढ़ावा देगा, जिसके बाद दोनों देशों के बीच एनर्जी पार्टनरशिप में मजबूती आएगी। भारतीय स्टील इंडस्ट्री के लिए कोयला इम्पोर्ट करने के लिए भी रूस के साथ समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाने की योजना बनाई जा रही है। केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रूस के अपने समकक्ष से इस बाबत वीडियो कॉल पर चर्चा भी की है।

इस बैठक के दौरान फ़िलहाल चल रहे प्रोजेक्ट्स की भी समीक्षा की गई। भारत और रूस की एनर्जी कंपनियों के बीच परस्पर करार होंगे और वो एक-दूसरे का सहयोग करेंगे। सितम्बर 2019 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस गए थे, तभी दोनों देशों के बीच कोयला के इम्पोर्ट पर बातचीत हुई थी। रूसी आर्कटिक से कच्चे तेल लाने के लिए भारत एक नया समुद्री रास्ता अपनाने पर भी विचार कर रहा है।

इससे रूस से भारत एलएनजी लाने में भी कम समय लगेगा और ज्यादा परेशानी नहीं आएगी। रूसी कम्पनियाँ भारत में गैस इंफ्रास्ट्रक्चर, गैस बिजनेस और पेट्रोकेमिकल्स में निवेश करेगी। भारत हाइड्रोकार्बन्स के लिए बड़ा डिमांड सेंटर बना रहेगा।

चीनी कंपनियों का रुख भारत की ओर

अब आते हैं चीन पर, जहाँ से कम्पनियाँ अब बोरिया-बिस्तर समेट रही हैं और उनका रुख अब भारत की ओर है। असम सरकार जापानी, कोरियन और अमेरिकी कंपनियों को लुभाने के लिए नई रणनीति पर काम कर रही है। सरकार इस पर नज़र रख रही है कि उन्हें लुभाने के लिए इंडोनेशिया, वियतनाम, कम्बोडिया, मलेशिया और थाईलैंड जैसे देश क्या कर रहे हैं। ऐसे में सरकार को उनसे बेहतर प्रयास करने में मदद मिलेगी।

चीन के शंघाई में स्थित टेस्ला के प्लांट ने वहाँ प्रोडक्शन रोक दिया है और इससे ग्लोबल स्तर पर भी कम्पनी की गाड़ियों की सप्लाई रुक गई है। कुछ चाइनीज वेबसाइटों का कहना है कि उत्पादन के लिए कच्चा माल न मिलने के कारण ऐसा किया गया है। अमेरिका से बाहर ये टेस्ला का एकमात्र प्लांट है। मॉडल-3 के लिए इसे कलपुर्जे नहीं मिल रहे हैं। शटडाउन के कारण कम्पनी का कैलिफोर्निया स्थित प्लांट भी कई दिनों से बंद पड़ा हुआ है।

पत्रकारों को देश से निकाल रहा है चीन

कई देश चीन के साथ रिश्तों को तरजीह नहीं दे रहे हैं और वो नजदीकी घटाने में लग गए हैं, जो उसके लिए चिंता का विषय है। चीन में मानवाधिकार हनन और वहाँ कोरोना को लेकर की गई गड़बड़ियों के कारण सभी देश उससे हलकान हैं। वहाँ मीडिया पर अभी भी दबिश जारी है। विदेशी न्यूज़ रिपोर्टरों को निकाला जा रहा है। वहाँ 24 सालों से रह रहे वरिष्ठ पत्रकार क्रिस बकली को भी निकाल बाहर किया गया।

वे वुहान में ही रिपोर्टिंग कर रहे थे। दुनिया भर में कोरोना वायरस का केंद्र वुहान ही रहा है, जहाँ से ये महामारी शुरू हुई। फ़रवरी में उनका प्रेस कार्ड एक्सपॉयर हो गया था, जिसे चीन ने रिन्यू करने से इनकार कर दिया। पिछले 1 साल में 19 पत्रकारों को चीन बाहर निकाल चुका है। यहाँ तक कि अमेरिकी मीडिया संस्थानों में काम कर रहे चीनी नागरिकों को भी नौकरी छोड़ने को कहा गया। 18 लाख चीनी बेरोजगार हो चुके हैं।

अनुमानित आँकड़े कहते हैं कि कुछ ही दिनों में चीन में रोजगार, नौकरियों के लिए 90 लाख लोग आपस में प्रतियोगिता करेंगे। चीन में मार्च में 5.9% बेरोजगारी थी, जो अप्रैल में बढ़ कर 6.2% हो गई। हालाँकि, चीन में सरकारी डेटा भरोसेमंद नहीं होते हैं। वहाँ के जॉब मार्किट में कोविड-19 का भयानक असर पड़ा है, ऐसा कई विशेषज्ञों का मानना है। अनुमान लगाया गया है कि फ़िलहाल वहाँ 2.7 करोड़ लोग बेरोजगार हैं। भारत की स्थिति ऐसे में काफी मजबूत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुंबई में हो क्या रहा है! बिना टेस्ट ₹300 में कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट, ₹10000 देकर क्वारंटाइन से मिल जाती है छुट्टी: रिपोर्ट

मिड डे ने मुंबई में कोरोना की आड़ में चल रहे एक और भ्रष्टाचार को उजागर किया है। बिना टेस्ट पैसे लेकर RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट मुहैया कराई जा रही है।

कर्फ्यू का ऐलान होते ही महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की वापसी शुरू: स्टेशनों पर खचाखच भीड़, चलाई जा रही अतिरिक्त ट्रेनें

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात 8 बजे से अगले 15 दिनों तक धारा 144 लागू रहेगी। इसे देखते हुए प्रवासी मजदूर फिर से अपने घरों को लौटने लगे हैं।

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उद्धव को बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,188FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe