Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकोरोना एज में भी मेड इन चाइना फ्लॉप: स्पेन को 6 लाख किट बेच...

कोरोना एज में भी मेड इन चाइना फ्लॉप: स्पेन को 6 लाख किट बेच लगाया चूना, संक्रमित को भी बता रहा स्वस्थ

इन टेस्टिंग किट्स का एक्यूरेसी प्रतिशत सिर्फ 30% है। 70% बार ये टेस्टिंग किट्स किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के बारे में सही जानकारी नहीं दे पाते हैं। स्पेन ने शिकायत की है कि ये टेस्टिंग किट्स कोरोना वायरस को डिटेक्ट करने में अक्षम है। कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट भी इनमें नेगेटिव आ रही है। इसके कारण कोरोना ज़्यादा से ज़्यादा लोगों में फैलता जा रहा है।

‘मेड इन चाइना’ उत्पाद अक्सर अपनी घटिया गुणवत्ता के कारण चर्चा का विषय होते हैं। लेकिन शायद किसी ने यह नहीं सोचा होगा कि पूरी दुनिया को कोरोना महामारी देने वाला चीन आपदा के दौरान भी अन्य देशों के साथ ऐसे छल करेगा। दुनिया में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच सबसे बड़ा सवाल ‘मेड इन चाइना’ कोरोना टेस्ट किट की गुणवत्ता पर उठ रहे हैं।

दरअसल चीन ने कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहे स्पेन को तेजी से जाँच के लिए ‘मेड इन चाइना’ कोरोना टेस्ट किट दिया था। लेकिन स्पेन की तरफ से आ रही शिकायत के मुताबिक वह किट कोरोना पॉजिटिव मरीजों को डिटेक्ट ही नहीं कर पा रही है। इससे स्पेन को बड़ा झटका लगा है। एक रिपोर्ट के अनुसार, 10 से 15 मिनट में नतीजे देने का दावा करने वाली इस चीनी जाँच किट को स्पेन के माइक्रोबायलॉजी के विशेषज्ञों ने रिजेक्ट कर दिया है। उनके मुताबिक यह किट सही रिजल्ट देने में असमर्थ है। बता दें कि चीनी जाँच किटों ने ऐसे समय पर स्पेन को धोखा दिया है, जब स्पेन में तेजी से मामले बढ़ रहे हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण से इटली के बाद सबसे ज्यादा मौतें स्पेन में ही हुई है। अभी तक स्पेन में करीब 5,138 लोगों की जान जा चुकी है। स्पेन ने दक्षिण कोरिया और चीन से छह लाख 40 हजार जाँच किट खरीदे हैं। चीनी जाँच किट चीन की कंपनी बायोइजी ने बनाए हैं। इससे पहले चेक रिपब्लिक भी चीनी किट्स की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठा चुका है।

पता चला है कि इन टेस्टिंग किट्स का एक्यूरेसी प्रतिशत सिर्फ 30% है। 70% बार ये टेस्टिंग किट्स किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के बारे में सही जानकारी नहीं दे पाते हैं। स्पेन ने शिकायत की है कि ये टेस्टिंग किट्स कोरोना वायरस को डिटेक्ट करने में अक्षम है। कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट भी इनमें नेगेटिव आ रही है। इसके कारण कोरोना ज़्यादा से ज़्यादा लोगों में फैलता जा रहा है।

स्पेन के स्वास्थ्य विभाग ने अब चीनी जाँच किट के आँकड़ों को इस्तेमाल नहीं करने का फैसला किया है। स्पे‍न के एक स्वास्थ्य अधिकारी फेरनांडो सिमोन ने बताया कि स्पेन में इन चीनी किट से 9 हजार जाँच की गई है, लेकिन उनके परिणाम सही नहीं है। उन्होंने कहा कि हम इन जाँच किट को लौटाने जा रहे हैं। उधर, चीन ने जाँच किट बनाने वाली कंपनी से पल्ला झाड़ते हुए कहा है कि बायोइजी कंपनी के पास आधिकारिक लाइसेंस ही नहीं है। हालाँकि स्पेन के स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी बताया कि उन्होंने यह जाँच किट चीन से प्रत्यक्ष रूप से नहीं खरीदे थे, बल्कि स्पेन की ही एक सप्लाई चेन द्वारा ऑर्डर करवाई थी।

स्पेन में कोरोना वायरस से 65,719 से अधिक नागरिक इससे संक्रमित हैं। स्वास्थ्य अधिकारी फेरनांडो सिमोन ने बताया है कि आने वाले समय में इसकी संख्या और बढ़ने की आशंका है। स्पेन में 14 मार्च से ही लॉकडाउन है। बावजूद इसके आँकड़ा लगातार बढ़ रहा है। वहीं चीन दुनियाभर में अपनी छवि सुधारने के लिए तमाम देशों को मेडिकल उपकरण दे रहा है, लेकिन अब इस पर से सभी देशों का भरोसा डगमगा रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ब्रेअकप के बाद भी मेडिकल छात्रा का पीछा करता था राखिल, केस नहीं दर्ज कराना चाहता था परिवार: सिर व छाती में गोली मार...

हत्यारा राखिल और मृतक छात्रा मनसा 1 साल तक रिलेशनशिप में थे। इसके बाद मनसा ने राखिल से दूरी बनाने का मन बना लिया था। केरल में हत्या की घटना।

‘छोटी काशी’ का श्री ग्यारह रुद्री मंदिर: भारत का इकलौता जहाँ विराजमान हैं 11 रुद्र, श्रीकृष्ण ने की थी स्थापना

हरियाणा के कैथल में स्थित इस शिव मंदिर को भगवान श्री कृष्ण ने बनवाया था और यहाँ स्थापित किए थे 11 रुद्र। यही कारण है कि मंदिर को...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,104FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe