Sunday, June 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभूकंप से काँपा मालदीव! PM मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद चर्चा में हिन्द...

भूकंप से काँपा मालदीव! PM मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद चर्चा में हिन्द महासागर में स्थित देश, 2023 में अकेले भारत से पहुँचे थे 2.09 लाख पर्यटक

इस भूकंप का केंद्र मालदीव की राजधानी माले से 896 किलोमीटर पश्चिम की तरफ था। पिछले साल 29 दिसंबर को भी मालदीव भूकंप से काँपा था।

पर्यटन से अपनी रोजी-रोटी चलाने वाले मालदीव में भूकंप आया है। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.4 मापी गई है। दक्षिण एशिया में हिन्द महासागर में सहित ये देश कई कारणों से आजकल चर्चा में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप का दौरा कर के वहाँ की सुंदरता के बारे में दुनिया को बताया, जिसके बाद मालदीव के कट्टरपंथी भड़क गए और उन्होंने लक्षद्वीप को भला-बुरा कहना शुरू कर दिया। बता दें कि लक्षद्वीप कई मायनों में मालदीव से भी आकर्षक माना जाता है।

मालदीव एक द्वीपीय समूह है, जहाँ कई सेलेब्रिटी पर्यटन के लिए पहुँचते हैं। कोरोना काल में बॉलीवुड के कई सेलेब्स यहाँ का दौरा करते हुए दिखे थे। साफ़-सुथरे समुद्री पानी और रिजॉर्ट-कॉलेज के दम पर मालदीव ने वर्षों से पर्यटकों को लुभाया है। अब शनिवार (6 जनवरी, 2024) को 5:16::34 बजे मालदीव को भूकंप का सामना करना पड़ा है। भूकंप की गहराई 10 किलोमीटर मापी गई है। इसका लोकेशन 3.06 लैटीट्यूड और 65.51 लॉन्गीट्यूड पर पाया गया।

इस भूकंप का केंद्र मालदीव की राजधानी माले से 896 किलोमीटर पश्चिम की तरफ था। पिछले साल 29 दिसंबर को भी मालदीव भूकंप से काँपा था। तब हिन्द महासागर में एक साथ 4 भूकंप के झटका महसूस किए गए थे। US जियोलॉजिकल सर्वे में बताया था कि इन झटकों की तीव्रता रिक्टर स्केल पर क्रमशः 4.8, 5.2, 5.8 और 5.0 मापी गई थी। साथ ही इनकी गहराई 7.7 किलोमीटर से लेकर 10 किलोमीटर तक मापी गई थी।

हालाँकि, भूकंप के ताज़ा झटके में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। बता दें कि 2023 में 18.78 लाख पर्यटक मालदीव पहुँचे, जो कि 2022 के 16 लाख के आँकड़े से ज़्यादा है। इनमें से 2.09 लाख पर्यटक अकेले भारत से पहुँचे थे। इतनी ही संख्या रूस से मालदीव जाने वाले पर्यटकों की थी। इसके बाद चीन, यूके, जर्मनी और इटली का नंबर आता है। अब पीएम मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद गूगल सर्च में भी ये केंद्र शासित प्रदेश टॉप पर आ गया है। मालदीव की सरकार चीन समर्थक मानी जाती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

‘मोदी के दिए घरों में रहते हैं, 100% वोट कॉन्ग्रेस को देते हैं’: बोले असम CM सरमा – राज्य पर कब्ज़ा करना चाहते हैं...

सीएम हिमंता ने कहा कि बांग्लादेशी मूल के अल्पसंख्यकों ने कॉन्ग्रेस को इसलिए वोट दिया, क्योंकि अगले 10 सालों में वे राज्य को कब्जा चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -