Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअयोध्या दीपोत्सव: फिजी की मंत्री ने गाया- मंगल भवन अमंगल हारी, कहा- वहाँ के...

अयोध्या दीपोत्सव: फिजी की मंत्री ने गाया- मंगल भवन अमंगल हारी, कहा- वहाँ के हर नागरिक का भारत आने का सपना

“फिजी एक छोटा सा द्वीप है, लेकिन हमने भारतीय संस्कृति और भाषा को संरक्षित रखा है। हम दिवाली, दशहरा और अन्य भारतीय त्योहार मनाते हैं।”

राम की नगरी अयोध्या में शनिवार (अक्टूबर 26, 2019) को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से आयोजित दीपोत्सव में मुख्य अतिथि बनकर आई फिजी की मिनिस्टर वीणा कुमार भटनागर ने कार्यक्रम के संबोधन के दौरान रामचरित मानस की चौपाई ‘मंगल भवन अमंगल हारी’ गाया। वीणा ने जब सुरीली आवाज में चौपाई गायन शुरु किया तो उनके साथ कार्यक्रम में उपस्थिति भक्तजनों ने भी सुर में सुर मिलाते हुए चौपाई का गायन किया।

इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। बता दें कि अयोध्या में आयोजित हुए इस बार के दीपोत्सव को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो गया। दीपोत्सव में इस बार 5 लाख 51 हजार दीप जलाकर विश्व रिकार्ड बनाया गया। राम की पैड़ी के घाटों पर 4 लाख 10 हजार और अन्य 11 चुनिंदा स्थलों पर 1 लाख 51 हजार दीप जलाए गए।

फिजी की मंत्री और डिप्टी स्पीकर वीणा भटनागर सभा को संबोधित करते हुए ने कहा कि उन्हें भगवान राम के शहर में आने का अवसर मिला। इसके लिए वह खुद को भाग्यशाली मानती हैं। उन्होंने कहा कि वो बचपन से अयोध्या के बारे में सुनती आ रही हैं आज वो अयोध्या में हैं। भटनागर ने कहा कि वो यहाँ आकर धन्य हो गई। भटनागर ने यह विश्वास भी दिलाया कि अयोध्या में एक दिन भगवान राम के शासन में प्रचलित शासन की पौराणिक अवधारणा रामराज्य स्थापित होगी।

वहीं अपने भारत कनेक्शन के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि वो भले ही फिजी में रह रही हैं, लेकिन वो यहाँ भी हैं। उन्होंने कहा कि उनके पूर्वज भारत से फिजी चले गए, लेकिन वहाँ भी उनलोगों ने भारतीय मूल्यों, परंपराओं और संस्कृति को सहेज कर रखा है। वहाँ भी वो लोग भारतीय संस्कृति के साथ ही रहते हैं। उन्होंने कहा, “फिजी एक छोटा सा द्वीप है, लेकिन हमने भारतीय संस्कृति और भाषा को संरक्षित रखा है। हम दिवाली, दशहरा और अन्य भारतीय त्योहार मनाते हैं।”

वीणा भटनागर ने 1879 में फिजी में भारतीय प्रवास को याद करते हुए कहा कि वे उन्हें बाहरी न समझें। उन्होंने कहा, “मैं आप में से एक हूँ। मेरे पूर्वज यहीं के यूपी और बिहार से थे। भारतीय संस्कृति इतनी समृद्ध है कि हमने इसे सहेज कर रखा है। फिजी का हर नागरिक मरने से पहले कम से कम एक बार भारत आने का सपना देखता है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,052FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe