Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइस्लामी कट्टरपंथ के बाद सेक्स से भी सकते में फ्रांस: एड्स-STI रोकने के लिए...

इस्लामी कट्टरपंथ के बाद सेक्स से भी सकते में फ्रांस: एड्स-STI रोकने के लिए युवाओं को FREE कंडोम, नाबालिगों के लिए भी आएगी स्कीम

फ्रांसीसी सरकार ने इस साल 25 साल तक की सभी लड़कियों और महिलाओं के लिए गर्भ-निरोधक फ्री कर दिए थे। इसका उद्देश्य यह था कि कोई भी महिला पैसे की कमी की वजह से गर्भ-निरोधक से वंचित ना रहे।

इस्लामी कट्टरपंथ के उभार से चिंतित फ्रांस ने हाल ही में इस पर अंकुश के लिए कई कठोर फैसले लिए हैं। इसी तरह असुरक्षित सेक्स भी उसकी चिंता का नया सबब बनकर उभरा है। यौन रोगों से बचाव के लिए सरकार ने युवाओं को अब फ्री में कंडोम मुहैया कराने का फैसला किया है। आने वाले दिनों में इस सुविधा का लाभ नाबालिगों को भी मिल सकता है।

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने युवाओं को मुफ्त में कंडोम बाँटने का फैसला किया है। फ्रांस सरकार का कहना है कि देश में बढ़ते यौन रोगों से बचाव के लिए उसने ये कदम उठाया है। इसकी शुरुआत नए साल, यानी 1 जनवरी, 2023 से होगी। मैक्रों के मुताबिक, 18-25 साल के युवाओं को फ्री में कंडोम बाँटा जाएगा। बता दें कि इस्लामी कट्टरपंथ से जूझ रहे फ़्रांस ने कई मस्जिदों को बंद करने समेत कई कड़े फैसले लिए हैं।

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने युवाओं के साथ एक एक स्वास्थ्य चर्चा में गुरुवार (8 दिसंबर, 2022) को यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि गर्भ-निरोधन की दिशा में यह एक छोटी सी क्रांति है। राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि सरकार 18-25 साल के युवाओं के लिए मेडिकल की दुकानों पर पर मुफ्त कंडोम मुहैया कराएगी। उनका कहना है कि इस फैसले की वजह फ्रांस में एड्स और दूसरे सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (एसटीआई) को फैलने से रोकना है। साथ ही इस फैसले का उद्देश्य अनचाही प्रेग्नेंसी पर भी लगाम लगाना भी है।

फ्रांसीसी सरकार ने इस साल 25 साल तक की सभी लड़कियों और महिलाओं के लिए गर्भ-निरोधक फ्री कर दिए थे। इसका उद्देश्य यह था कि कोई भी महिला पैसे की कमी की वजह से गर्भ-निरोधक से वंचित ना रहे। इसका फायदा करीब 30 लाख लड़कियों और महिलाओं को मिल रहा है। इससे पहले 18 साल से कम उम्र की लड़कियों को ही गर्भ-निरोधक फ्री में मिलते थे।

ऐसा नहीं है कि सरकार ने एसटीआई को रोकने के लिए अभी कदम उठाया है। फ़्रांस की सरकार ने साल 2018 से ही लोगों को कंडोम के पैसे वापस करना शुरू किया था। हालाँकि, इसके लिए डॉक्टर की मंजूरी ज़रूरी होती थी और इसके बाद राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रणाली (NHS) द्वारा कंडोम लेने वाले शख्स को पैसा वापस लौटाया जाता था।

मैक्रों की इस संबंध में घोषणा के बाद एक फ्रांसीसी टीवी एंकर ने राष्ट्रपति से शुक्रवार (9 दिसंबर, 2022) को सोशल मीडिया पर सवाल किया कि मुफ्त कंडोम नाबालिगों के लिए क्यों नहीं उपलब्ध है, जिसके बाद राष्ट्रपति ने भी इस बाबत कार्यक्रम को विस्तार देने पर सहमती जताई। मैक्रों ने एक सेल्फी वीडियो में कहा, “चलिए इसे भी करते हैं।” उन्होंने कहा कि कई नाबालिगों भी यौन संबंध बनाते हैं। उन्हें भी खुद को बचाने की जरूरत है।”

उल्लेखनीय है कि 2020 और 2021 में फ्रांस में एसटीआई दर में 30 फीसदी का इजाफा हुआ था। मैक्रों ने भी इस पर चिंता जाहिर की है। मैक्रों ने कहा था कि सेक्सुअल एजुकेशन को लेकर फ्रांस के सामने चुनौतियाँ हैं। उन्होंने स्वीकार किया था कि इस विषय में फ़्रांस का रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं है। उन्होंने कहा कि वास्तविकता थ्योरी से अलग होती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -