Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजिस मौलाना ने राष्ट्रीय ध्वज को बताया 'शैतानी झंडा' उसे फ्रांस ने देश से...

जिस मौलाना ने राष्ट्रीय ध्वज को बताया ‘शैतानी झंडा’ उसे फ्रांस ने देश से निकाला, गृह मंत्री ने कहा- किसी को नहीं छोड़ेंगे

अफ्रीकी देश ट्यूनीशिया से 38 साल पहले फ्रांस आए महजूब महजूबी ने हाल ही में एक ऑनलाइन वीडियो में फ्रांस के तिरंगे झंडे को शैतानी बताया था। कुछ समय बाद इमाम की यह वीडियो वायरल हो गई और इमाम पर कार्रवाई की माँग होने लगी।

फ्रांस के तिरंगे झंडे को शैतानी बताने वाले इमाम को देश से निकाल दिया गया। इस इमाम ने एक ऑनलाइन वीडियो में झंडे को शैतानी बताया था, इमाम को पहले फ्रांस की सुरक्षा एजेंसियों ने गिरफ्तार किया, फिर उसे देश से निकाल बाहर फेंका। यह पूरी कार्रवाई 12 घंटे के भीतर हो गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अफ्रीकी देश ट्यूनीशिया से 38 साल पहले फ्रांस आए महजूब महजूबी ने हाल ही में एक ऑनलाइन वीडियो में फ्रांस के नीले, लाल और सफ़ेद रंग की पट्टियों वाले तिरंगे झंडे को शैतानी (Satanic) बताया था। उसने कहा यह झंडा शैतानी है और इसमें अल्लाह से जुड़ा कोई महत्व नहीं है।

कुछ समय बाद इमाम की यह वीडियो वायरल ही गई और इमाम पर कार्रवाई की माँग होने लगी। इसके बाद इमाम को गिरफ्तार कर लिया गया और उसे वापस ट्यूनीशिया भेजे जाने की कार्रवाई फ्रांस सरकार ने अगले 12 घंटों में ही पूरी करके उसे देश निकाला दे दिया।

महजूबी फ्रांस के एक छोटे शहर में एक मस्जिद का इमाम था। हालाँकि, इमाम ने झंडे को शैतानी बताने को लेकर माफ़ी भी मांगी। उसने कहा कि उसकी जुबान फिसल गई थी जिसके कारण उसने ऐसा कहा। इस विषय में फ्रेंच मीडिया ने उसे देश निकाला दिए जाने सम्बंधित आदेश की कॉपी भी प्रकाशित की।

इसमें बताया गया कि इमाम महजूबी मात्र फ्रांस के झंडे के खिलाफ ही नहीं बल्कि यहूदियों के खिलाफ भी जहर उगलता था। बताया गया कि वह महिला विरोधी बातें करता था और जिहादी मानसिकता को बढ़ावा देता था। उसका दृष्टिकोण फ्रांस के मूल्यों से मेल नहीं खा रहा था।

इमाम के निकाले जाने को लेकर कहा, “कट्टरपंथी इमाम महजूब महजूबी को देश की सीमाओं से 12 घंटे के भीतर बाहर कर दिया गया है। यह दिखाता है कि नए इमिग्रेशन कानून के बिना यह संभव नहीं होता, यह फ्रांस को मजबूत करता है। हम किसी को ऐसे ही नहीं छोड़ देंगे।”

फ्रांस के सरकारी मीडिया फ्रांस24 ने बताया कि मौलाना ने इस निर्णय के खिलाफ अपील करने को कहा है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि उसके फ्रांस में पाँच बच्चे 1980 से लेकर अब तक हो चुके हैं। उसके बच्चों के पास फ्रांस की नागरिकता है, उसे फ्रांस में रहने की अनुमति दी गई थी लेकिन अब यह हटा ली गई है। इमाम वापस ट्यूनीशिया पहुँच गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -