Sunday, June 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'मैंने अपने हाथों से 10 यहूदियों को मारा है, आप WhatsApp खोलो और देखो':...

‘मैंने अपने हाथों से 10 यहूदियों को मारा है, आप WhatsApp खोलो और देखो’: बेटे ने कॉल कर बताया तो अब्बा बोला- अल्लाहू अकबर

"मैं आपको किब्बुत्ज (जहाँ हमला हुआ था) से फ़ोन कर रहा हूँ। आप व्हाट्सएप खोलो और कत्ल किए गए लोगों को देखो। देखो मैंने कितने लोगों को अपने हाथों से मारा है। तुम्हारे बेटे ने यहूदियों को मारा है।"

7 अक्टूबर 2023 को इस्लामी आतंकी संगठन हमास ने अचानक हमला कर इजरायल में सैकड़ों लोगों की हत्या कर दी थी। आतंकियों ने इस दौरान काफी बर्बरता दिखाई और ​आम लोगों की हत्या का जश्न भी मनाया। ऐसे ही एक आतंकी ने अपने घर फोन कर अब्बा को सूचना दी कि उसने अपने हाथों से 10 यहूदियों को मार दिया है। जवाब में उसके अब्बा ने ‘अल्लाहू अकबर’ के नारे लगाए।

इजरायल के विदेश मंत्रालय ने इस फोन कॉल की रिकॉर्डिंग एक्स ट्विटर पर शेयर की है। कॉल करने वाले आतंकी की पहचान महमूद के तौर बताई है। इस आतंकी ने 7 अक्टूबर को दक्षिणी इजरायल में कत्लेआम मचाया था।

कत्लेआम के बाद अपने अब्बा को कॉल कर इस्लामी आतंकी कहता है, “मैं आपको किब्बुत्ज (जहाँ हमला हुआ था) से फ़ोन कर रहा हूँ। आप व्हाट्सएप खोलो और कत्ल किए गए लोगों को देखो। देखो मैंने कितने लोगों को अपने हाथों से मारा है। तुम्हारे बेटे ने यहूदियों को मारा है।”

आगे वह कहता है, “मैं तुम्हें एक मारे हुए यहूदी के फोन से कॉल कर रहा हूँ। मैंने उसे और उसके पति को मार दिया। मैंने अपने हाथों से 10 यहूदियों को मारा है। व्हाट्सएप खोलिए और देखिए मैंने कितने लोगों को मारा है।”

रिकॉर्डिंग सुनने से ऐसा लगता है कि इस बर्बरता से आतंकी का पिता भी प्रसन्न होता है। वह अपने बेटे की बातों के जवाब में ‘अल्लाहू अकबर’ बार बार दोहराता है। वह बेटे की सलामती की बात भी फोन कॉल के दौरान करता है। गौरतलब है कि 7 अक्टूबर को दक्षिणी इजरायल के किब्बुत्ज इलाके में हमास आतंकियों ने घर-घर में घुसकर लोगों को मारा था।

हमास के इस हमले में करीब 1400 इजरायलियों की मौत हुई है। 3000 से अधिक लोग घायल हैं। हमास आतंकियों की कुछ फुटेज भी सामने आई थी, जिसमें हत्या के बाद वे जश्न मनाते दिखे थे।

हमास एक मजहबी तंजीम, लक्ष्य यहूदियों का खात्मा

हमास के आतंकियों की बर्बरता की नई कहानियाँ रोज सामने आ रही हैं। इस्लामी आतंकी संगठन हमास के संस्थापक शेख हसन युसूफ के पुत्र मोसाब हसन युसूफ ने हमास की प्लानिंग को दुनिया के सामने रखा है।

मोसाब ने बताया है कि हमास कोई राजनीतिक संगठन नहीं है। यह एक मजहबी संगठन है। उसने बताया बताया है कि उसके अब्बा यहूदियों को समाप्त कर दुनिया भर में शरिया कानून लागू करना चाहते हैं। मोसाब ने कहा कि हमास की असलियत कहने में आज का मीडिया डरता है। हमास इजरायल से मजहबी जंग लड़ रहा है। हमास ने ही यह जंग चालू की है और जब भी उन्हें पैसों की जरूरत होती है वह इजरायल पर हमला करते हैं।

मोसाब ने कहा कि इजरायल को बेरुत और दोहा में बैठे हमास के आतंकी सरगनाओं का सर साँप की तरह काट कर कुचल देना चाहिए, क्योंकि वह ISIS से भी खतरनाक है। मोसाब अपने पिता की जिहादी विचारधारा से ताल्लुक नहीं रखते और इजरायल के लिए जासूस का काम कर चुके हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -