Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयUN में जेहादी ऐलान का इमरान को इनाम: जॉर्डन की संस्था ने 'मुस्लिम मैन...

UN में जेहादी ऐलान का इमरान को इनाम: जॉर्डन की संस्था ने ‘मुस्लिम मैन ऑफ द ईयर’ से नवाजा

इमरान खान को यह अवॉर्ड मिलने की जानकारी उनकी पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल से भी दी है। जिसके बाद कुछ यूजर्स ने उन्हें इसके लिए बधाई दी और उन्हें इस अवॉर्ड के लिए सबसे योग्य बताया, तो कुछ ने मीम्स शेयर करते हुए उनकी खिल्ली उड़ाई है।

जम्मू-कश्मीर के मसले पर भारत के ख़िलाफ़ लगातार जहर उगलने के बीच और संयुक्त राष्ट्र में जाकर इस्लामी देशों की एकता की बात करने के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को एक बड़ा अवॉर्ड मिला है। इस अवॉर्ड का नाम ‘मुस्लिम मैन ऑफ द ईयर’ है। उन्हें ये सम्मान उस दौरान दिया गया है जब यूएन में उन्होने खुलकर अपने भाषण के दौरान जिहाद की बात की और परमाणु युद्ध की धमकी दी।

जॉर्डन की रॉयल इस्लामिक स्ट्रेटेजिक स्टडीज़ सेंटर नाम की संस्था ने इमरान को ये अवॉर्ड दिया है। इसमें उनके क्रिकेट के क्षेत्र में दिए योगदान और राजनैतिक करियर को अहम बताया गया है। इमरान के अलावा इस संस्था की ओर से अमेरिकी नेता राशिदा तैलब को वुमेन ऑफ द ईयर का अवॉर्ड मिला।

muslim-man_100919033250.jpg

जॉर्डन के इस संस्था ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने पहले खेल की दुनिया में अपना और देश का नाम रोशन करते हुए वर्ल्ड कप जीता। उसके बाद राजनीति में आए तो सीधे प्रधानमंत्री बन गए, इसलिए उनका जीवन मुस्लिम लोगों के लिए प्रेरणादायी है।

कश्मीर मुद्दे का जिक्र करते हुए जॉर्डन ने इमरान सरकार की तारीफ़ की। दावा किया गया है कि इमरान ने इस मसले पर भारत से बात करने का प्रयास किया है, लेकिन अभी तक उनके मनमुताबिक नतीजा सामने नहीं आया है।

अब जॉर्डन की इस संस्था इस्लामिक स्ट्रेटेजिक स्टडीज़ सेंटर की बात करें तो बता दें कि ये हर साल प्रभावशाली मुस्लिमों की लिस्ट निकालती है। जिनमें टॉप 500 मुस्लिमों के नाम होते हैं, इसी में इस वर्ष इमरान खान का भी नाम आया है। संस्था द्वारा जारी लिस्ट में महिलाओं और पुरुषों दोनों का नाम होता है। गत वर्ष इस संस्था ने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैय्यप एर्दोगन को मुस्लिम मैन ऑफ द ईयर का अवॉर्ड दिया था।

गौरतलब है कि इमरान खान को यह अवॉर्ड मिलने की जानकारी उनकी पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल से भी दी है। जिसके बाद कुछ यूजर्स ने उन्हें इसके लिए बधाई दी और उन्हें इस अवॉर्ड के लिए सबसे योग्य बताया, तो कुछ ने मीम्स शेयर करते हुए उनकी खिल्ली उड़ाई है।

एक यूजर ने उनके ट्वीट पर कमेंट किया है कि इस अवॉर्ड से बेहतर उन्हें ‘बेगर ऑफ द ईयर’ कहना बेहतर रहेगा, जिसने पूरे मुल्क को बेगर बना दिया।

वहीं, एक यूजर ने लिखा जबसे पाकिस्तान अस्त्तिव में आया तबसे ये अवॉर्ड उसकी सबसे बड़ी उपलब्धि है। बहुत खूब पाकिस्तान।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

33 साल पहले जहाँ से निकाली थी एकता यात्रा, अब वहीं साधना करने पहुँचे PM नरेंद्र मोदी: पढ़िए ईसाइयों के गढ़ में संघियों ने...

'विवेकानंद शिला स्मारक' के बगल वाली शिला पर संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा की स्थापना का विचार एकनाथ रानडे का ही था, क्योंकि उन्हें आशंका थी कि राजनीतिक इस्तेमाल के लिए बाद में यहाँ किसी की मूर्ति लगवाई जा सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -