Tuesday, June 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअविश्वास प्रस्ताव के जरिए कुर्सी खोने वाले पाकिस्तान के पहले PM बने इमरान खान:...

अविश्वास प्रस्ताव के जरिए कुर्सी खोने वाले पाकिस्तान के पहले PM बने इमरान खान: शहबाज लेंगे शपथ, बोले- नहीं होगी बदले की कार्रवाई

नई सरकार को समर्थन देने वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के प्रमुख बिलावल भुट्टो ने कहा कि लोकतंत्र से बढ़कर कुछ नहीं है। देशवासियों का 'पुराना पाकिस्तान' में स्वागत है।

पाकिस्तान (Pakistan) में जारी सियासी ड्रामे का शनिवार (9 अप्रैल 2022) को अंतत: पटाक्षेप हो गया और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के प्रमुख इमरान खान (Imran Khan) जाते-जाते इतिहास रच गए। शनिवार की देर रात और रविवार के तड़के तक पाकिस्तान में चली गहमा-गहमी और संसद में मारपीट के बाद इमरान खान अविश्वास प्रस्ताव हार गए और वे मुल्क के पहले ऐसे प्रधानमंत्री बन गए, जो जिनकी कुर्सी विश्वास मत हारकर गई है।

देर रात तक सुप्रीम कोर्ट और सेना सत्ता और विपक्षी दलों की कार्यवाही पर नजर बनाए रखा। इस दौरान 342 सदस्यीय संसद में अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 174 वोट पड़े। मतदान से कुछ देर पहले स्पीकर द्वारा इस्तीफा देने के बाद PML-N के अयाज सादिक ने स्पीकर के रूप में संविधान के अनुरूप इमरान खान के पावर सीज का ऐलान कर दिया।

इमरान खान पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं, जिनकी कुर्सी अविश्वास प्रस्ताव हारने के बाद गई है। इसके पहले साल प्रधानमंत्री के रूप में 1989 में बेनजीर भुट्टो और साल 2006 में शौकत अजीज अविश्वास प्रस्ताव जीत गए थे।

स्पीकर ने विपक्ष के संयुक्त नेता और PML-N के अध्यक्ष शहबाज शरीफ (Shahbaz Sharif) को प्रधानमंत्री के रूप में आमंत्रित किया। शहबाज सोमवार को सदन में अपना बहुमत साबित करेंगे। इस दौरान शहबाज शरीफ ने कहा कि वे बदले की राजनीति में विश्वास नहीं करते। उन्होंने कहा, “मैं अतीत की कड़वाहट में वापस नहीं जाना चाहता। हम उन्हें भूलकर आगे बढ़ना चाहते हैं। हम बदला नहीं लेंगे या अन्याय नहीं करेंगे। हम लोगों को बिना किसी कारण के जेल नहीं भेजेंगे। कानून और न्याय अपना काम करेगा।”

नई सरकार को समर्थन देने वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के प्रमुख बिलावल भुट्टो ने कहा कि लोकतंत्र से बढ़कर कुछ नहीं है। देशवासियों का ‘पुराना पाकिस्तान’ में स्वागत है। नई सरकार में मौलाना फजलुर्रहमान की भी महत्वपूर्ण भूमिका है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

न दुख-न पश्चाताप… पवित्रा का यह मुस्कुराता चेहरा बताता है कि पर्दे के सितारों में ‘नायक’ का दर्शन न करें, हर फैन के लिए...

'फैन हत्याकांड' मामले से लोगों को सबक लेने की जरूरत है कि पर्दे पर दिखने वाले लोग जरूरी नहीं जैसा फिल्मों में दिखाए जाते हैं वैसे ही हों।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -