Sunday, May 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'क्षेत्रीय अखंडता से कोई समझौता नहीं': 'Hyundai' विवाद पर भारत ने दक्षिण कोरियाई राजदूत...

‘क्षेत्रीय अखंडता से कोई समझौता नहीं’: ‘Hyundai’ विवाद पर भारत ने दक्षिण कोरियाई राजदूत को तलब किया, अलापा था पाकिस्तानी राग

कोरिया के विदेश मंत्री चुंग यूई-योंग ने केंद्रीय विदेश मंत्री को फोन किया। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर की गई पोस्ट के कारण भारत के लोगों और सरकार को नकारात्मक प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा, इसका हमें खेद है।

कोरिया की दिग्गज कंपनी ‘हुंडई मोटर्स’ की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। भारत सरकार ने मंगलवार (8 फरवरी, 2022) को हुंडई विवाद (Hyundai) पर दक्षिण कोरिया के राजदूत को तलब किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची (Arindam Bagchi) ने तथाकथित कश्मीर एकजुटता दिवस पर हुंडई पाकिस्तान के सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर मीडिया के सवालों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

उन्होंने कहा, “हमने तथाकथित कश्मीर एकजुटता दिवस पर हुंडई पाकिस्तान द्वारा सोशल मीडिया पर की गई पोस्ट देखी। रविवार (6 फरवरी 2022) को इस पोस्ट को सोशल मीडिया पोस्ट करने के तुरंत बाद सियोल में हमारे राजदूत ने हुंडई मुख्यालय से संपर्क किया और उनसे स्पष्टीकरण माँगा, जिसके बाद इस आपत्तिजनक पोस्ट को तुरंत ​हटा दिया गया था।”

अरिंदम बागची ने कहा, “कोरिया के राजदूत को विदेश मंत्रालय ने सोमवार (7 फरवरी 2022) को तलब किया था। हुंडई पाकिस्तान द्वारा किए गए पोस्ट को लेकर हमने उन्हें अवगत कराया कि यह बिल्कुल भी सही नहीं है। साथ ही बताया कि यह मामला भारत की क्षेत्रीय अखंडता से संबंधित है, जिससे कोई समझौता नहीं किया सकता है। हमें उम्मीद थी कि कंपनी इन मुद्दों को ठीक से हल करने के लिए उचित कार्रवाई करेगी।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत विभिन्न क्षेत्रों में विदेशी कंपनियों के निवेश का स्वागत करता है। लेकिन, उनसे यह भी उम्मीद की जाती है कि ऐसी कंपनियाँ और उनके सहयोगी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के मामलों पर झूठी और भ्रामक टिप्पणियों से परहेज करेंगे।”

बागची ने कहा कि कोरिया के विदेश मंत्री चुंग यूई-योंग ने आज सुबह विदेश मंत्री को फोन किया। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर की गई पोस्ट के कारण भारत के लोगों और सरकार को नकारात्मक प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा, इसका हमें खेद है।

इससे पहले हुंडई मोटर्स इंडिया ने अपने आधिकारिक बयान में कहा था, “कश्मीर के बारे में पोस्ट साझा करने वाला एक इंडिपेंडेट डिस्ट्रीब्यूटर था और इसका हुंडई इंडिया से इससे कोई लेना देना नहीं था। उन्होंने कहा कि हम राष्ट्रवाद का सम्मान करने की अपनी प्रकृति के पीछे मजबूती से खड़े हैं।” कंपनी ने कहा, “हुंडई मोटरइंडिया 25 से अधिक सालों से भारतीय बाजार में प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है और वह राष्ट्रवाद का सम्मान करने के लिए मजबूती से खड़े हैं।”

हुंडई से जुड़ा पूरा विवाद

गौरतलब है कि हुंडई पाकिस्तान (Hyundai Pakistan) ने बीते दिनों एक ट्वीट किया था। ट्वीट कश्मीर को लेकर था। इस ट्वीट को लेकर भारत की ऑटोमोबाइल कंपनी हुंडई इंडिया (Hyundai Motor India) सवालों के घेरे में आ गई थी और सोशल मीडिया पर देखते ही देखते #BoycottHyundai ट्रेंड होने लगा। कई यूजर्स ने कंपनी की इस हरकत पर अपनी नाराजगी जाहिर की और कई यूजर्स ने शिकायत की कि भारत की हुंडई इस मामले में ट्वीट करने पर सवाल करने पर उन्हें ब्लॉक कर रही है।

काफी लताड़ लगने के बाद शाम के समय कंपनी का यह बयान आया। लेकिन यूजर्स इससे भी संतुष्ट नहीं हैं। लोगों का कहना है कि कंपनी अपने सबसे बड़े बाजार की आँख में धूल झोंकने की कोशिश कर रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe