Friday, June 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयवह भारतीय अपने कमरे में मृत मिला, जिसने T20 वर्ल्ड कप में बनाई न्यूजीलैंड-अफगानिस्तान...

वह भारतीय अपने कमरे में मृत मिला, जिसने T20 वर्ल्ड कप में बनाई न्यूजीलैंड-अफगानिस्तान मैच की पिच: उत्तराखंड के रहने वाले थे मोहन सिंह

शेख जायद स्टेडियम के विकेट पर ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, पाकिस्तान, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज की टीमें खेल चुकी हैं और सभी विकेटों को मोहन सिंह ने ही बनाया था।

टी20 विश्वकप में न्यूजीलैंड और अफगानिस्तान के बीच का मैच रविवार (7 नवंबर 2021) को अबुधाबी के शेख जायद स्टेडियम में हुआ था। इस मैच में न्यूजीलैंड ने अफगानिस्तान को 8 विकेट से हराकर भारत के सेमीफाइनल में पहुँचने की उम्मीदों को खत्म कर दिया था। जिस पिच पर यह मैच खेला गया उसे तैयार करने वाले भारतीय क्यूरेटर मोहन सिंह की संदिग्ध हालात में मौत की खबर आई है। मैच से पहले उन्हें अपने कमरे में मृत पाया गया था। मौत के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। 

अबुधाबी क्रिकेट और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है। अबुधाबी क्रिकेट ने एक बयान में कहा है, “हमें यह बताते हुए बहुत दुख हो रहा है कि मुख्य क्यूरेटर मोहन सिंह का आज निधन हो गया है। मोहन 15 साल से अबुधाबी क्रिकेट के साथ जुड़े हुए थे। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने इस आयोजन स्थल की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मोहन के परिवार और हमारे ग्राउंडस्टाफ की सहमति से रविवार को अफगानिस्तान बनाम न्यूजीलैंड का आईसीसी टी20 विश्व कप के सुपर 12 मैच का आयोजन यहाँ तय कार्यक्रम के मुताबिक हुआ।”

अबुधाबी क्रिकेट ने आगे लिखा, “मोहन को श्रद्धांजलि और उनकी अविश्वसनीय उपलब्धियों को आने वाले दिनों में सम्मानित किया जाएगा। हमारी संवेदनाएँ मोहन के परिवार के साथ है और हम मीडिया से इस दुखद समय में उनकी निजता का सम्मान करने की अपील करते हैं।”

इस मामले में अभी तक आधिकारिक तौर पर मौत की वजहों के लेकर कुछ नहीं कहा गया है। लेकिन समाचार एजेंसी पीटीआई ने विश्व कप से जुड़े सूत्रों के हवाले से बताया है कि जब मोहन तय समय पर मैदान नहीं पहुँचे तो साथी उनके कमरे में गए, जहाँ इस हादसे ने सबको चौंका दिया। सूत्रों के मुताबिक, “मोहन सिंह ने आज सुबह मैदान और पिच का निरीक्षण किया। उन्होंने व्यवस्थाओं के बारे में बात की और वापस चले गए। जब वह तय समय पर वापस मैदान पर नहीं पहुँचे तो लोग उनके कमरे में गए और उन्हें छत से लटका पाया गया। उनकी मौत का कारण आत्महत्या हो सकती है।”

इस बारे में जल्द ही एक विस्तृत बयान जारी होने की उम्मीद है। यूएई क्रिकेट ने अमीरात क्रिकेट बोर्ड के हवाले से ट्विटर पर लिखा, “अमीरात क्रिकेट बोर्ड इस मुश्किल वक्त में मोहन सिंह के परिवार और दोस्तों के साथ खड़ा है।”

शेख जायद स्टेडियम के विकेट पर ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, पाकिस्तान, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज की टीमें खेल चुकी हैं और सभी विकेटों को मोहन सिंह ने ही बनाया था। मोहन ने 2000 के दशक की शुरुआत में यूएई जाने से पहले मोहाली में बीसीसीआई के पूर्व मुख्य क्यूरेटर दलजीत सिंह की देखरेख में काम किया था। लगभग 22 साल तक भारतीय क्रिकेट की सेवा करने वाले दलजीत सिंह उनकी मौत की खबर सुनकर सदमे में हैं।

दलजीत ने कहा, “जब वह मेरे पास आए थे तो एक छोटे बच्चे की तरह थे। वह बहुत ही प्रतिभाशाली और मेहनती व्यक्ति थे। वह गढ़वाल के रहने वाले थे और मैं उन्हें पारिवारिक व्यक्ति के रूप में भी याद कर रहा हूँ। यूएई जाने के बाद, वह जब भी स्वदेश आते तो मुझसे मिलते थे, लेकिन पिछले कुछ समय से हमारी मुलाकात नहीं हुई। वह बहुत जल्द चले गए। यह वाकई में दुखद है।”

मोहन सिंह की मौत पर कई तरह के सवाल भी उठ रहे हैं। कई मीडिया रिपोर्ट्स इसे सुसाइड बता रही हैं तो कोई इस मौत को संदिग्ध बता रहा है। फिलहाल मौत किस कारण से हुई है इसका पता लगाने के लिए मामले की जाँच शुरू कर दी गई है। जानकारी के अनुसार, मोहन सिंह उत्तराखंड के गढ़वाल के रहने वाले थे। 

गौरतलब है कि पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कोच बॉब वूल्मर की 14 साल पहले रहस्यमय तरीके से मौत हुई थी। 18 मार्च 2007 को विश्व कप के दौरान बॉब वूल्मर किंग्स्टन के एक होटल में मृत पाए गए। उनकी रहस्यमय मौत पर क्रिकेट जगत सहित पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया था। वूल्मर की मौत किन हालात में हुई उसकी गुत्थी आज तक सुलझ नहीं पाई।  क्रिकेट विश्व कप 2007 के दौरान बॉब वूल्मर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच थे। इस विश्व कप 2007 में पाकिस्तान की टीम कुछ खास नहीं कर पाई और उसे पहले ही दौर में बाहर होना पड़ा था। जिसके चलते कोच बॉब वूल्मर सहित पाकिस्तान के कई सीनियर खिलाड़ियों की जमकर आलोचना हुई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -