Friday, August 19, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनाम 'मो​हम्मद' तो गुरुवार को दारू फ्री: ऑफर देने वाले बार चेन को बंद...

नाम ‘मो​हम्मद’ तो गुरुवार को दारू फ्री: ऑफर देने वाले बार चेन को बंद करवाया, कर्मचारियों को ‘ईशनिंदा’ में हो सकती है 10 साल जेल

बार चेन ने एक प्रमोशनल ऑफर में ऐलान किया था कि मोहम्मद और मारिया नाम के लोगों को फ्री में शराब दिया जाएगा। हंगामा मचने के बादबार चेन के 12 आउटलेट का परमिट रद्द कर उन्हें बंद करवा दिया गया।

सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश इंडोनेशिया में एक बार चेन के ऑफर पर बवाल मचा हुआ है। बार चेन के आउटलेट्स बंद करवा दिए गए हैं। यहाँ के 6 कर्मचारियों को ईशनिंदा के आरोप में जेल की सजा हो सकती है। बार चेन का नाम होलीविंग्स (Holywings) है।

दरअसल इस बार चेन ने एक प्रमोशनल ऑफर में ऐलान किया था कि मोहम्मद और मारिया नाम के लोगों को फ्री में शराब दिया जाएगा। यह ऑफर गुरुवार के दिन के लिए रखा गया था। इस पर हंगामा मचने के बाद राजधानी जकार्ता में बार चेन के 12 आउटलेट का परमिट रद्द कर उन्हें बंद करवा दिया गया।

विवाद पैदा होने के बाद 28 जून 2022 को जकार्ता के गवर्नर अनीस बसवेदन ने बार चेन के लाइसेंस को कैंसिल कर दिया। मजहबी संगठनों की शिकायत पर पुलिस भी जाँच कर रही है। ईशनिंदा के आरोपित 6 कर्मचारियों को अधिकतम 10 साल तक की जेल हो सकती है।

जकार्ता प्रशासन ने अपनी वेबसाइट पर होलीविंग्स के 12 आउटलेट्स बंद कराए जाने की जानकारी दी है। जकार्ता पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि बार चेन के पास शराब परोसने का लाइसेंस ही नहीं था। इस बीच होलीविंग्स ने माफी माँगते हुए कहा है कि प्रबंधन की जानकारी के बिना ऐसा किया गया था। इस ऑफर को लेकर जो सोशल मीडिया पोस्ट किया गया था, वह भी हटा लिया गया है।

इस घटना के बाद कई लोगों का यह भी कहना है कि सख्त ईशनिंदा कानूनों के इस्तेमाल इंडोनेशिया की सहिष्णुता और विविधता को खत्म करने का काम किया है। ह्यूमन राइट्स वॉच के इंडोनेशिया के शोधकर्ता एंड्रियास हार्सोनो ने कहा कि ईशनिंदा कानून और ऑनलाइन गतिविधि को नियंत्रित करने वाला कानून ‘तेजी से खतरनाक’ होता जा रहा है।

ह्यूमन राइट्स वॉच के आँकड़ों के अनुसार इंडोनेशिया में 1965 में ईशनिंदा कानून पारित हुआ था। इसके बाद से अब तक 150 से अधिक लोगों को जेल में डाल गया है। इनमें ज्यादातर धार्मिक अल्पसंख्यक हैं। उल्लेखनीय है कि देश की करीब 88% आबादी मुस्लिम है।

गौरतलब है कि इस्लामिक देश में ईशनिंदा कानून का इस्तेमाल ज्यादातर इस्लाम का अपमान करने वालों के खिलाफ किया गया है, जिसमें जकार्ता के पूर्व ईसाई गवर्नर बासुकी ‘अहोक’ पूर्णमा भी शामिल हैं। उन्हें 2017 में ईशनिंदा के आरोप में दो साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘10000 महिलाओं के साथ सोया हूँ’: विरोध करने पर रेप पीड़िता से पूर्व फुटबॉलर ने कहा था, आरोप – नंगा कर के 20 मिनट...

बेंजामिन मेंडी पर रेप का आरोप लगाने वाली एक पीड़िता ने बताया कि पूर्व फुटबॉलर ने उससे कहा था कि वह 10,000 महिलाओं के साथ सो चुका है।

‘कार खरीदी, गर्लफ्रेंड्स व सब्जी वालों का धन्यवाद’: व्यंग्य को सच समझ रवीश कुमार ने दी बधाई, जवाब मिला – मजाक है, वामपंथ की...

मधुर सिंह ने कार खरीदने वाली अपनी पोस्ट में अपनी एक्स व वर्तमान गर्लफ्रेंड्स एवं सब्जी वालों को धन्यवाद दिया। रवीश कुमार व्यंग्य को समझ नहीं पाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,277FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe