Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइस्लामी आतंकियों का नरसंहार: 10 साल में 60000 को मार डाला, ताजा हमलों में...

इस्लामी आतंकियों का नरसंहार: 10 साल में 60000 को मार डाला, ताजा हमलों में 60 मरे, बोको हराम ने नाइजीरिया को खून से साना

इंटरनेशल कमिटी ऑन नाइजीरिया (Icon) के रिसर्च के हवाले से द इंटरनेशनल सोसायटी फॉर सिविल लिबर्टीज और रूल ऑफ लॉ ने बताया है कि 2010 के बाद से आतंकवाद की वजह से नाइजीरिया में साठ हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं। 43 हजार से ज्यादा लोगों की हत्या तो अकेले बोको हराम ने की है।

पश्चिमी अफ्रीकी देश नाइजीरिया में इस्लामिक आतंकियों का नरसंहार जारी है। शनिवार (13 जून 2020) को बोर्नो राज्य में दो अलग-अलग स्थानों पर हमले में 20 सैनिकों सहित 40 की मौत हो गई। बीते 10 साल में 60 हजार से ज्यादा लोग इस्लामी आतंकवाद की भेंट चढ़ चुके हैं।

इंटरनेशल कमिटी ऑन नाइजीरिया (Icon) के रिसर्च के हवाले से द इंटरनेशनल सोसायटी फॉर सिविल लिबर्टीज और रूल ऑफ लॉ ने बताया है कि 2010 के बाद से आतंकवाद की वजह से नाइजीरिया में साठ हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं। 43 हजार से ज्यादा लोगों की हत्या तो अकेले बोको हराम ने की है।

आतंकियों का ताजा हमला बोर्नो के मोनगुनो और नागनजई जिलों में हुआ है। द हिंदू के मुताबिक आतंकियों ने इलाके के सरकारी क्षेत्र को अपना निशाना बनाया। दो आपदा सहायता कार्यकर्ता और तीन स्थानीय नागरिकों ने रायटर को बताया कि शनिवार सुबह करीब 11 बजे आतंकवादी रॉकेट लॉन्चर सहित भारी हथियारों के साथ इलाके में आए।

उन्होंने 20 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। इस दौरान आतंकियों ने एक पुलिस स्टेशन और उस एरिया के संयुक्त राष्ट्र के ह्यूमैनेटेरियन हब को आग के हवाले कर दिया। स्थानीय लोगों ने बताया कि आतंकी इसके बाद भी इलाके में करीब तीन घंटे तक खुले में घूमते रहे। आतंकियों की गोलीबारी में सैकड़ों आम नागरिक घायल हो गए।

संयुक्त राष्ट्र के एक प्रवक्ता ने बताया कि आतंकियों ने स्थानीय भाषा ‘होसा’ में लिखे पर्चे वितरित किए। इसमें वहाँ के निवासियों को मिलिट्री, पश्चिमी श्वेत ईसाई और अन्य नास्तिकों के साथ काम न करने की चेतावनी दी गई है।

एक अन्य आतंकियों ने नागनजई में अंजाम दिया। आतंकी मोटरसाइकिल और ट्रकों पर सवार होकर पहुँचे थे। हमले में 40 से अधिक लोग मारे गए। पिछले दिनों इसी इलाके के गुबियो में आतंकवादियों ने हमला कर 69 लोगों को मार डाला था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe