Saturday, May 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइजरायल में 'लोन वुल्फ अटैक': फिलिस्तीनी लड़की ने यहूदी महिला की पीठ में छूरा...

इजरायल में ‘लोन वुल्फ अटैक’: फिलिस्तीनी लड़की ने यहूदी महिला की पीठ में छूरा घोंपा, लोगों ने मार्च निकाल कहा- आतंकियों को मारा जाए

पिछले महीने आतंकी संगठन हमास के एक आतंकवादी ने येरुशलम के ओल्ड सिटी में अंधाधुन गोलियाँ बरसाया था, जिसमें इस्राइली नागरिक की मौत हो गई थी और चार अन्य लोग घायल हो गए थे। उसके बाद काउंटर अटैक में पुलिस ने हमलावर को मार गिराया था

इजरायल में बुधवार (8 दिसंबर 2021) को पूर्वी येरुशलम में एक हमलावर ने अपने बच्चों के साथ जा रही एक महिला को एक फिलिस्तीनी हमलावर चाकू मारकर घायल कर दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित वहाँ से फरार हो गया। घटना में 26 वर्षीय पीड़ित महिला बुरी तरह से घायल हो गई और उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना के बाद इजरायल के लोगों में आक्रोश फैल गया है और उन्होंने मार्च निकालकर आतंकियों को खत्म करने की माँग की है।

रिपोर्ट के मुताबिक, चाकू घोंपने की घटना पूर्वी येरुशलम के शेख जर्राह में उस वक्त हुई जब मारिया कोहेन (26) नाम की एक यहूदी महिला अपने 5 बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी। पुलिस का कहना है कि पीड़िता जब अपने बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी, उसी दौरान फिलिस्तीनी हमलावर ने पीछे से उसके पीठ में चाकू घोंप दिया। बुधवार को इस मामले में चैनल 12 न्यूज को कोहेन ने बताया, “मैं दर्द से चिल्लाई, जिसके बाद मेरे बेटे ने कहा कि माँ आपकी पीठ में चाकू लगी है।” इस मामले में पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें देखने पर ऐसा प्रतीत हो रहा है कि हमला करने वाली एक लड़की है। उसकी उम्र लगभग 15 साल बताई जा रही है।

ज्ञात हो कि यहाँ पर इजरायल और फिलिस्तीन के बीच दशकों से जंग चल रही है। यहाँ रहने वाले फिलिस्तीनियों को इस बात का डर सताता रहता है कि इजरायल उन्हें यहाँ से कभी भी बेदखल कर सकता है। कहा जा रहा है कि पिछले वसंत में फिलिस्तानी प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुए संघर्ष के बाद ही 11 दिवसीय गाजा युद्ध हुआ था।

इसी तरह पिछले महीने आतंकी संगठन हमास के एक आतंकवादी ने येरुशलम के ओल्ड सिटी में अंधाधुन गोलियाँ बरसाया था, जिसमें इस्राइली नागरिक की मौत हो गई थी और चार अन्य लोग घायल हो गए थे। उसके बाद काउंटर अटैक में पुलिस ने हमलावर को मार गिराया था।

बहरहाल, इस घटना के बाद सैकड़ों इजरायली सैकड़ों पर उतर आए हैं। इनमें अधिकतर किशोर और युवा इजरायली शामिल हैं। मार्च के दौरान लोगों ने आतंकियों की मौत की माँग की।

इन प्रदर्शनकारियों का नारा था ‘मुझे फिलिस्तीनियों से बदला लेने दो’। मार्च के दौरान प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ हाथापाई भी हुई। बाद में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने बल प्रयोग किया। बता दें कि शेख जर्राह में इजरायल और फिलिस्तीन के बीच विवाद का फ्लैश प्वाइंट बनकर उभरा है। हमले के मामले में 14 साल की एक फिलिस्तीनी लड़की को गिरफ्तार किया गया है। इस बात की जानकारी उसके वकील मोहम्मद महमूद ने द टाइम्स ऑफ इज़राइल को दी है। गौरतलब है कि बीते कुछ समय से इजरायल में ‘लोन वुल्फ’ अटैक के मामले बढ़े हैं।

आधे से अधिक इजरायली चाहते हैं ईरान पर हो हमला

वहीं, इजरायली लोगों का मन जानने के लिए इजरायल डेमोक्रेसी इंस्टीट्यूट ने हाल ही में एक सर्वे किया था। बुधवार को प्रकाशित इस सर्वे के मुताबिक, इजरायल की आधी से अधिक आबादी का मानना है कि अगर अमेरिका का साथ नहीं मिलता है तब भी इजरायल को ईरान पर हमला करना चाहिए। सर्वे के मुताबिक, 51 फीसदी लोगों का मानना है कि अगर इजरायल ईरान पर एकतरफा स्ट्राइक करता है तो वे उसका समर्थन करेंगे, जबकि, 31% ने कहा कि वे ऐसा नहीं करेंगे।

सर्वेक्षण के अनुसार, 54% इजरायलियों का मानना ​​है कि ईरान उसके अस्तित्व के लिए खतरा है। वहीं, 25% लोगों ने ईरान को ‘मध्यम खतरे’ के रूप में देखा, जबकि 13% लोग इस्लामी गणराज्य को केवल ‘छोटा खतरा’ मानते हैं। उधर, देश के प्रधानमंत्री नेफ्ताली बेनेट ने ईरान के संबंध में अपने एक्शन को लेकर वाशिंगटन को अवगत कराने पर सहमति व्यक्त की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -