Friday, June 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअल जजीरा का पत्रकार निकला हमास का टॉप कमांडर, जंग में भी होता है...

अल जजीरा का पत्रकार निकला हमास का टॉप कमांडर, जंग में भी होता है शामिल: लैपटॉप से खुले राज, इजरायल बोला- पत्रकारिता की आड़ में आतंक

इजरायल डिफेंस फोर्स ने दावा किया है कि कुछ हफ्ते पहले गाजा में एक ऑपरेशन के दौरान उन्होंने मोहम्मद वाशाह का लैपटॉप बरामद किया था। इस लैपटॉप की तलाशी के दौरान उन्हें कुछ तस्वीरें मिलीं।

इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग के मध्य इजरायल की डिफेंस फोर्स ने बड़ा दावा किया है। उन्होंने बताया है कि कैसे पत्रकारिता की आड़ में आतंक का खेल चल रहा है। उन्होंने दावा किया रहै कि अल जजीरा का मोहम्मद वाशाह नाम का पत्रकार हमास का सीनियर कमांडर है।

इजरायल डिफेंस फोर्स ने कहा है कि कुछ हफ्ते पहले गाजा में एक ऑपरेशन के दौरान उन्होंने मोहम्मद वाशाह का लैपटॉप बरामद किया था। इस लैपटॉप की तलाशी के दौरान उन्हें कुछ तस्वीरें मिलीं। ये तस्वीरें बताती है कि वो हमास का कमांडर है और उनकी ओर से जंग में कई बार शामिल हो चुका है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, आईडीएफ के प्रवक्ता (अरबी भाषा) लेफ्टिनेंट कर्नल अविचाई अद्रे ने बताया कि वाशाह के खिलाफ लारे सबूत उसके लैपटॉप से ही मिले हैं। उसकी पहचान बताते हुए आईडीएफ प्रवक्ता ने कहा कि वो अल जजीरा के ब्रॉडकॉस्ट में भी नजर आ चुका है। वो अल जजीरा का पत्रकार है।

उन्होंने इस पूरे दावे के साथ ये भी बताया कि कैसे उन्होंने वाशाह का लैपटॉप बरामद किया था। उन्होंने बताया कि कुछ हफ्ते पहले उत्तरी गाजा में हमास के एक कैंप में उनकी फोर्स ने ऑपरेशन को अंजाम दिया था। यहीं से उन्हें वाशाह का लैपटॉप मिली। छानबीन हुई तो जानकारी मिली कि हमास की टैंक रोधी मिसाइल यूनिट में वाशाह टॉप कमांडर था।

उन्होंने ये भी बताया कि 2022 के अंत में ही वाशाह ने हमास की एयर यूनिट के लिए रिसर्च एंड डेवलपमेंट का काम शुरू किया था। पड़ताल में पता चला कि उसके हमास के साथ सीधे लिंक मिले हैं। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि पत्रकारिता की आड़ में और भी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा हो।

IDF ने इस खुलासे के बाद अल जजीरा के लिए लिखा- “अरे अल जजीरा हमें लगता है कि आपके पत्रकारों को सारे हालातों पर निष्पक्ष रिपोर्टिंग देनी चाहिए, न कि उन्हें हमास की तरह आगे खड़े होकर जंग लड़ना चाहिए।”

उल्लेखनीय है कि ये पहली बार नहीं है कि इजरायल ने किसी पत्रकार का कनेक्शन हमास या फिलीस्तीन के आतंकी संगठन से जोड़कर बताया हो। इससे पहले भी अल जजीरा के 2 पत्रकार, जो इजरायली एयरस्ट्राइक में मारे गए थे, उन्हें लेकर इजरायल की डिफेंस फोर्स ने दावा किया था कि उनका कनेक्शन हमास और फिलीस्तीन इस्लामिक जिहाद जैसे आतंकी संगठन से था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -