Wednesday, September 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'सीरिया की जेलों में बंद ISIS जिहादियों को बिना किसी मुकदमे के दी जा...

‘सीरिया की जेलों में बंद ISIS जिहादियों को बिना किसी मुकदमे के दी जा सकती है फाँसी’

असद की इस टिप्पणी का ज़िक्र पेरिस मैच पत्रिका में उनके एक साक्षात्कार में की गई थी। सीरियन डेमोक्रेटिक फ़ोर्सेस, जिन्होंने मार्च में अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन की मदद से ISIS को हराया था, वर्तमान में 2,000 विदेशियों सहित 10,000 से अधिक आतंकवादियों को पकड़ रखा है।

सीरिया में जेलों में बंद जिहादियों को बिना किसी मुक़दमे के फाँसी की सज़ा दी जा सकती है। राष्ट्रपति बशर अल-असद ने कहा कि वह विशेष आतंकवादी अदालतें स्थापित कर रहे हैं, जहाँ क़ैदियों को ‘सीरियाई क़ानून’ के अधीन किया जाएगा। सीरिया में इस्लामिक स्टेट (IS) का सदस्य होने पर फाँसी की सज़ा का प्रावधान है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, हज़ारों क़ैदियों को गुपचुप तरीके से कुख्यात सैदनया जेल के अंदर दमिश्क के पास मार दिया गया है। कहा जाता है कि यातना और भुखमरी से हज़ारों लोग वहाँ मारे गए थे।

क़ैदियों को नियमित रूप से बेरहमी से पीटा जाता है, उन पर विद्युत और यौन हमले किए जाते हैं। कुछ को जानवरों की तरह काम करने और एक दूसरे को मारने तक के लिए मजबूर किया गया।

असद की इस टिप्पणी का ज़िक्र पेरिस मैच पत्रिका में उनके एक साक्षात्कार में की गई थी। सीरियन डेमोक्रेटिक फ़ोर्सेस, जिन्होंने मार्च में अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन की मदद से ISIS को हराया था, वर्तमान में 2,000 विदेशियों सहित 10,000 से अधिक आतंकवादियों को पकड़ रखा है।

ख़बर के अनुसार, अधिकांश सीरियाई और इराक़ी हैं, जिन्हें जेलों के भीतर रखा जा रहा है, जिनमें तथाकथित जिहादी जैक सहित लगभग 2,000 विदेशी शामिल हैं।

अक्टूबर में, एक आतंकी को टीवी समाचार रिपोर्ट में सीरियाई नरकहोल जेल की फ़र्श पर धमाके करते देखा गया था। उसे उसके माता-पिता ने भी देखा था। जैक लेट्स नाम के इस शख़्स का फुटेज भी सामने आया था, जिसमें उसने ख़ुद को “ब्रिटेन का दुश्मन” घोषित कर दिया था। 23 वर्षीय जैक ने सीरिया में ISIS में शामिल होने के लिए एक आलीशान मध्यवर्गीय जीवन छोड़ दिया था। लेकिन, उसे कुर्द बलों द्वारा पकड़ लिया गया था।

पकड़े जाने के बाद, उसने नम्रतापूर्वक अपने ऑक्सफ़ोर्ड शायर घर में यह कहते हुए वापस जाने की गुहार लगाई कि उसका “ब्रिटेनियों को उड़ाने का कोई इरादा नहीं है।”

हालाँकि, ब्रिटेन लौटने की उसकी संभावनाओं पर ज़ोरदार प्रहार हुआ, जब एसडीएफ ने अमेरिका द्वारा त्याग दिए जाने के बाद मदद के लिए असद का रुख़ किया। अधिकांश यूरोपीय देश अपने नागरिकों को वापस लेने से इनकार कर रहे हैं और इराक में कई फ्रांसीसी ISIS क़ैदियों को पहले ही मौत की सज़ा दी जा चुकी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe