Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाली गर्लफ्रेंड वाले तारिक से लेकर कवर बिजनेस देखने वाले फिरोज तक: दाऊद इब्राहिम...

नेपाली गर्लफ्रेंड वाले तारिक से लेकर कवर बिजनेस देखने वाले फिरोज तक: दाऊद इब्राहिम गैंग के 11 गुर्गों की पूरी डिटेल

तारिक खुद दुबई में रहता है जबकि उसकी नेपाली गर्लफ्रेंड मुंबई के एक ब्यूटी पार्लर में काम करती है। फिरोज दक्षिण भारतीय है और काफी शिक्षित है, वो कवर बिजनेस संभालता है और तमिल, अरबी, हिन्दू और अंग्रेजी में बात करता है।

हाल ही में ख़बर आई थी कि आतंकी दाऊद इब्राहिम पाकिस्तान में है, ऐसा खुद इस्लामी मुल्क ने स्वीकार किया है। इसके बाद पाकिस्तान अपने ही कहे से पलट गया। इधर ड्रग से क्राइम सिंडिकेट तक दाऊद इब्राहिम का काम देखने वाले उसके गैंग के आतंकियों की एक सूची ‘मिड डे’ ने समाचार एजेंसी IANS के हवाले से प्रकाशित की है, जिसे हम सूचीबद्ध तरीके से आपके समक्ष पेश कर रहे हैं।

  • डॉक्टर जावेद चुटानी: ये पाकिस्तानी है, जो दाऊद के साथ लगातार संपर्क में रहता है। वो एक बुकी है लेकिन रियल एस्टेट में खासी दिलचस्पी रखता है। दाऊद इब्राहिम के साथ इसका पारिवारिक रिश्ता भी है। वो कराची में उसी क्षेत्र में रहता है, जहाँ उसका आका। उसकी बेटी यूके में रहती है। वो भी यूके का नंबर यूज करता है।
  • अमीस इब्राहिम: ये दुबई के नंबर का इस्तेमाल करता है। जब छोटा शकील की बेटी की शादी के लिए होटल नहीं मिल रहा था तो इसी ने उसके लिए जुगाड़ करने का प्रयास किया था। उसने मुंबई के किसी चौधरी से इस बारे में बात की थी। काफी ज्यादा अतिथियों के कारण होटल बुकिंग में दिक्कतें आ रही थीं। वह मनी ट्रांजैक्शंस भी करता रहा है।
  • छोटा शकील: ये दाऊद इब्राहिम का सबसे क़रीबी गुर्गा है। वह पाकिस्तान में ही रहता है। कुछ दिनों पहले वह अपने आके के जन्मदिन पर किसी को इन्वाइट करते हुए सुना गया था। वो लगभग डी-कम्पनी के सभी सदस्यों से संपर्क में रहता है।
  • जावेद भाई: ये ज्यादातर मौकों पर दाऊद के साथ ही रहता है। दाऊद के व्यक्तिगत फ़ोन कॉल्स भी यही रिसीव करता है। उसे मोती भाई या जवार भाई के नाम से भी जानते हैं। ये दाऊद के बैंकिंग और पेमेंट्स की भी डीलिंग करता है। ये दाऊद के बनाए सोसाइटीज और अपार्टमेंट्स को देखता है। एक फोन कॉल में वो तारिक के साथ एक डील की बातें करता हुआ सुना गया था।
  • तारिक: दाऊद का ये गुर्गा दुबई में रहता है। वो छोटा शकील और गैंग के अन्य सदस्यों के साथ संपर्क में रहता है। वो दुबई में उसके बिजनेस को देखता है। 2014 में उसके एक फोन कॉल से पता चला था कि दाऊद का भाई अनीस शारजाह में है। वो भी छोटा शकील के बेटी की शादी के बारे में बात करते सुना गया था। उसकी एक नेपाली गर्लफ्रेंड है, जो फ़िलहाल मुंबई के एक ब्यूटी पार्लर में कार्यरत है। वो दाऊद को यूके के किसी मित्र (म्यूजिक डायरेक्टर्स नदीम?) की गिरफ़्तारी की सूचना देते हुए सुना गया था। उसने दाऊद के लिए टोयटा लैंडक्रूजर्स को खरीद कर पाकिस्तान भेजा था। ये गाड़ियाँ बुलेटप्रूफ हैं। तारिक का अस्सिस्टेंट अल्ताफ है।
  • इकबाल: ये दुबई और पाकिस्तान में कंस्ट्रक्शन का बिजनेस करता है। एक इंटर्सेप्टेड कॉल के अनुसार, उसने दाऊद इब्राहिम के घर की मरम्मत का काम कराया था और इसके लिए कश्मीर से मजदूर मँगाए गए थे। इसका घर भी शायद कराची में ही है और वो दाऊद से मिलता-जुलता रहता है। वो अफ्रीकन देशों में डी-कम्पनी का काम देख रहा है। आसिफ और मुस्तफा उसके बेटे हैं। वो पाकिस्तान में रहता है। उसकी बेटी का नाम सना है।
  • अहमद जमाल: दाऊद का करीबी, जो कराची में रहता है। 2014 में उसकी बेटी की शादी हुई थी। अगस्त 2014 में 2 दिन दाऊद ने उसे किसी शादी के फंक्शन में बुलाया था। वो एक भारतीय माजिद बाबा के संपर्क में भी रहता है।
  • फिरोज: दाऊद गैंग का अहम सदस्य, जो उसका कवर बिजनेस देखता है और देश-विदेश में कम्पनियाँ चलाता है। उसे तमिल, अरबी, हिन्दू और अंग्रेजी में बात करते सुना गया है, जिससे पता चलता है कि वो दक्षिण भारतीय है और काफी शिक्षित है। वो अफ्रीका से हीरे की स्मगलिंग करता है। मुंबई में उसके कॉन्टेक्ट्स हैं।
  • सिराज: दाऊद, छोटा शकील और तारिक के बीच एक कड़ी है और इन तीनों का करीबी है। वो दाऊद के जन्मदिन पर 650 लोगों की उपस्थिति वाली एक पार्टी के आयोजन की बातें करते हुए सुना गया था।
  • अहमद: छोटा शकील का आदमी जो व्यापारियों से रुपए वसूलता है। हाल ही में ये किसी कम्पनी में रुपए के हेरफेर के लिए कर्मचारियों से बात करते हुए सुना गया था।
  • फहीम: छोटा शकील के साथ कराची में रहता है। वो जवाहर और रमेश के बीच रुपयों के विवाद को थामने के लिए किसी श्याम केशवानी से संपर्क में था।

ज्ञात हो कि आतंकी फंडिंग की निगरानी रखने वाली संस्था एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से बाहर निकलने के लिए पाकिस्‍तान ने एक और कवायद की है। पाकिस्तान ने 88 प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और हाफिज सईद, मसूद अजहर और दाऊद इब्राहिम समेत उनके आकाओं पर और तथाकथित कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाए हैं। यह पहली बार है जब पाकिस्‍तान ने खुले तौर पर स्‍वीकार किया है कि दाऊद उसके यहाँ है (बाद में मुकर गया, वो अलग बात है)।

माना जा रहा है कि पाकिस्‍तान ने यह कार्रवाई एफएटीएफ द्वारा ब्‍लैक लिस्‍ट किए जाने की आशंका से घबराकर की है। रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्‍तान ने 88 प्रतिबंधित आतंकी संगठनों और हाफिज, मसूद और दाऊद जैसे आतंकी आकाओं की सभी संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने के आदेश जारी किए हैं। उनकी विदेश यात्रा पर भी बैन लगा दिया गया है। हालाँकि, बाद में पाकिस्तान दाऊद को लेकर अपने दावों से पलट गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -