Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तानी संसद में जमकर चले लात-घूसे, महिला सांसदों को भी नहीं छोड़ा, लगे 'गो...

पाकिस्तानी संसद में जमकर चले लात-घूसे, महिला सांसदों को भी नहीं छोड़ा, लगे ‘गो नियाजी गो’ के नारे

संसद में हुए इस पूरे घटनाक्रम के दौरान वहाँ पर पाक राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री इमरान खान और सेनाध्यक्ष बाजवा भी मौजूद थे। लेकिन विपक्ष के नेता लगातार अपनी ऊँची आवाज में इमरान सरकार को आर्थिक, रक्षा और विदेशी मामलों समेत सभी मोर्चों पर फेल बताते रहे।

एक ओर पाकिस्तान भारत को परमाणु की धमकी दे रहा है, दूसरी ओर उसके खुद के मुल्क की संसद में नेता आपस में लात-घूसे चला रहे हैं और साथ में इमरान सरकार के ख़िलाफ़ नारे भी लगा रहे हैं। इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं। जिसके बाद पाकिस्तानी लोग नेताओं को खूब भला बुरा बोल रहे हैं और उनका मजाक भी उड़ा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इमरान खान सरकार के एक साल पूरा होने पर बुलाए गए संयुक्त अधिवेशन में राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के भाषण के दौरान सदन में इमरान खान के ख़िलाफ़ ही नारेबाजी शुरू हो गई। जैसे ही राष्ट्रपति अल्वी ने इमरान सरकार को एक साल पूरा करने पर बधाई दी, कि तभी संसद में हंगामा शुरू हो गया।

विपक्ष के नेता इमरान की विदेश नीतियों पर सवाल उठाने लगे, कश्मीर मामले पर फजीहत होने के लिए इमरान सरकार को कोसने लगे और ‘गो नियाजी गो’ के नारे लगते रहे, यहाँ उल्लेखनीय है कि इमरान खान का नाम इमरान अहमद खान नियाजी हैं। जिसके कारण विपक्षी उनकी तुलना इस नारे के बहाने जेनरल नियाजी से कर रहे थे। वो नियाजी, जिनकी अगुआई में पाकिस्तान को भारत से मुँह की खानी पड़ी थी।

संसद में हुए इस पूरे घटनाक्रम के दौरान वहाँ पर पाक राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री इमरान खान और सेनाध्यक्ष बाजवा भी मौजूद थे। लेकिन विपक्ष के नेता लगातार अपनी ऊँची आवाज में इमरान सरकार को आर्थिक, रक्षा और विदेशी मामलों समेत सभी मोर्चों पर फेल बताते रहे।

विपक्षी पार्टियों को नारेबाजी करते देख सत्ताधारी पार्टी पीटीआई के सांसद भी आक्रामक हो गए और वह नारेबाजी कर रहे सांसदों के साथ धक्का-मुक्की करने लगे। इस दौरान महिला सांसद के साथ भी धक्का-मुक्की की बात सामने आई। इसके बाद ये हंगामा थमने की बजाए और भी ज्यादा बढ़ गया। गो नियाजी गो से पाकिस्तानी संसद गूँजती रही, मार्शलों को भी मामला शांत करवाने के लिए बुलवाया गया, लेकिन नेता अपने काबू से बाहर होकर एक दूसरे पर लात-घूसा चलाते रहे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe