Thursday, July 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल की ओली सरकार ने 'विवादित नक़्शे' के विरोध का सांसद सरिता गिरी को...

नेपाल की ओली सरकार ने ‘विवादित नक़्शे’ के विरोध का सांसद सरिता गिरी को दी सजा: सदन की सदस्यता से किया मुक्त

इस मामले पर अब भारत भी सक्रिय हो चुका है, भारत ने एक कूटनीतिक दाँव खेलते हुए नेपाल के नए मानचित्र के कदम पर विरोध दर्ज कराया है। इसके बाद विदेश मंत्रालय ने राष्ट्रीय सदन की डेलीगेट, मैनेजमेंट एंड गवर्नमेंट एश्योरेंस कमेटी को भारत द्वारा भेजे गए पत्र के बारे में सूचित किया। जिसके बाद गुरूवार के दिन हुई समिति की बैठक में.........

आख़िरकार नेपाल की समाजवादी पार्टी की पूर्व नेता और सांसद सरिता गिरी को नेपाल के नए नक़्शे का अपने विरोध का नतीजा भुगतना ही पड़ा। उनकी सदन की सदस्यता आधिकारिक तौर पर रद्द कर दी गई है। जिसके साथ ही उनकी लॉ-मेकर की भूमिका भी छीन ली गई है। 

इसके पहले उनके राजनीतिक दल ने उन्हें दल से निकाल दिया था और प्रतिनिधि सदन से बाहर का रास्ता दिखा दिया था। दल के मुताबिक़ अब पूर्व सांसद सरिता गिरी ने उस संवैधानिक संशोधन का विरोध किया था जिसके तहत नेपाल का नया मानचित्र लागू किया जाना है। 

नेपाल की समाजवादी पार्टी ने संघीय संसद के सचिवालय को एक पत्र लिखकर इस बात का ज़िक्र किया था कि सरिता गिरी को इसकी सूचना दे दी जाए कि उन्हें दल से बाहर निकाल दिया गया है।इसके बाद संघीय संसद के सचिव भरत राज गौतम ने सरिता गिरी को एक अधिसूचना जारी की। उसमें उन्होंने लिखा कि सरिता गिरी को अब लॉ-मेकर की भूमिका से मुक्त कर दिया गया है। फिलहाल यह पद पूर्णतः रिक्त है। 

इस मामले पर अब भारत भी सक्रिय हो चुका है, भारत ने एक कूटनीतिक दाँव खेलते हुए नेपाल के नए मानचित्र के कदम पर विरोध दर्ज कराया है। इसके बाद विदेश मंत्रालय ने राष्ट्रीय सदन की डेलीगेट, मैनेजमेंट एंड गवर्नमेंट एश्योरेंस कमेटी को भारत द्वारा भेजे गए पत्र के बारे में सूचित किया। जिसके बाद गुरूवार के दिन हुई समिति की बैठक में राम नारायण बिदारी ने संसदीय समिति को भारत के इस कूटनीतिक विरोध के बारे में बताया। 

बिदारी ने कहा, “भारत ने नेपाल के नए मानचित्र पर विरोध दर्ज कराया है, साथ ही भारत ने इस नए मानचित्र में किए गए बदलावों को सिरे से नकारा है।” नेपाल ने राजनीतिक और प्रशासनिक रूप से परिवर्तित इस मानचित्र को 20 मई के दिन जारी किया था। 

नेपाल सरकार द्वारा जारी किए गए मानचित्र में कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाल का हिस्सा बताया गया था। वहीं सरिता गिरी ने भारत के कुछ इलाकों को नेपाल में शामिल करने वाले मानचित्र का विरोध किया था। जिसके बाद उनके राजनीतिक दल समाजवादी पार्टी ने उनकी सदस्यता समाप्त करने की सिफारिश कर दी थी। 

इसके बाद समाजवादी पार्टी के महासचिव राम सहाय प्रसाद यादव की अगुवाई में दल के एक टास्क फ़ोर्स ने सरिता गिरी की पार्टी सदस्यता और संसदीय सीट समाप्त करने की सिफारिश की। इस टास्क फ़ोर्स के दूसरे सदस्य मोहम्मद इश्तियाक के अनुसार सरिता गिरी ने दल के संसदीय निर्देशों का पालन नहीं किया 

जिसके आधार पर उनके खिलाफ यह माँग उठाई गई है। यह संविधान संशोधन विधेयक कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा समेत मानचित्र में तमाम संशोधन करने के लिए प्रस्तावित किया गया था। जिसका सांसद गिरी ने विरोध किया और यह हमारे दल के निर्देशों का उल्लंघन था।  

सांसद सरिता गिरी का क़सूर केवल इतना था कि उन्होंने नए नक्शे के लिए संविधान में संशोधन के लिए सरकार से सवाल कर दिया। वह केवल इतना जानना चाहती थीं कि किस आधार पर तमाम इलाकों को नेपाल में शामिल करने का दावा किया जा रहा है? उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा कि कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा पर दावा करने के लिए सरकार के पास कोई आधार नहीं है। 

इसके बाद वह एक-एक करके लगभग सारे ही राजनीतिक दलों के निशाने पर आ गईं। उन्हें चौतरफा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, उनके घर पर हमला हुआ और उन्हें लगातार धमकियाँ मिलने लगी। यहाँ तक कि उन पर खुद की पार्टी के लोग तक तंज कस रहे हैं, उन्हें भारत की भक्त तक कहा जाने लगा। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,735FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe