Thursday, February 25, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय नेपाल के विवादित नक्शे के विरोध का सांसद सरिता गिरी पर गाज, पार्टी ने...

नेपाल के विवादित नक्शे के विरोध का सांसद सरिता गिरी पर गाज, पार्टी ने की उनकी सदस्यता समाप्त करने की सिफारिश

सांसद सरिता गिरी का क़सूर केवल इतना है कि उन्होंने नए नक्शे के लिए संविधान में संशोधन के लिए सरकार से सवाल कर दिया। वह केवल इतना जानना चाहती थीं कि किस आधार पर तमाम इलाकों को नेपाल में शामिल करने का दावा किया जा रहा है? उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा कि कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा पर दावा करने के लिए सरकार के पास कोई आधार नहीं है।

नेपाल की सांसद सरिता गिरी को नेपाल के एक संवेदनशील मुद्दे पर अपनी बात रखने की भारी कीमत चुकानी पड़ी है। दरअसल, सरिता गिरी ने भारत के कुछ इलाकों को नेपाल में शामिल करने वाले मानचित्र का विरोध किया था। जिसके बाद उनके राजनीतिक दल समाजवादी पार्टी ने उनकी सदस्यता समाप्त करने की सिफारिश कर दी है। 

मंगलवार के दिन समाजवादी पार्टी के महासचिव राम सहाय प्रसाद यादव की अगुवाई में दल के एक टास्क फ़ोर्स ने सरिता गिरी की पार्टी सदस्यता और संसदीय सीट समाप्त करने की सिफारिश की। इस टास्क फ़ोर्स के दूसरे सदस्य मोहम्मद इश्तियाक के अनुसार सरिता गिरी ने दल के संसदीय निर्देशों का पालन नहीं किया जिसके आधार पर उनके खिलाफ यह माँग उठाई गई है। यह संविधान संशोधन विधेयक कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा समेत मानचित्र में तमाम संशोधन करने के लिए प्रस्तावित किया गया था। जिसका सांसद गिरी ने विरोध किया और यह हमारे दल के निर्देशों का उल्लंघन था।  

हालाँकि, सांसद सरिता गिरी ने विधेयक पर एक संशोधन का प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया था। जिस प्रस्ताव को उनके दल के मुख्य सचेतक उमा शंकर अरगारिया ने वापस लेने का निर्देश दिया था। जिसे गिरी ने सिरे से अस्वीकार कर दिया था, इसके बाद उनके दल के तमाम नेता उनके विरोध में उतर आए थे। 

दरअसल, पिछले कुछ समय से नेपाल के भीतर सरकार को कई मोर्चे पर चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। इन चुनौतियों और विरोध के स्वरों को दबाने के लिए केपी ओली शर्मा ने यह पैंतरा आज़माया था। क्योंकि मुद्दा राष्ट्र-वाद से जुड़ा हुआ था इसलिए कोई विरोध में खुल कर सामने नहीं आया लेकिन सभी के ठीक विपरीत सांसद सरिता गिरी ने अपनी आवाज़ उठाई। 

इसके बाद वह एक-एक करके लगभग सारे ही राजनीतिक दलों के निशाने पर आ गईं। उन्हें चौतरफा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, उनके घर पर हमला हुआ और उन्हें लगातार धमकियाँ मिल रही हैं। यहाँ तक कि उन पर खुद की पार्टी के लोग तक तंज कस रहे हैं, उन्हें भारत की भक्त तक कहा जा रहा है। 

सांसद सरिता गिरी का क़सूर केवल इतना है कि उन्होंने नए नक्शे के लिए संविधान में संशोधन के लिए सरकार से सवाल कर दिया। वह केवल इतना जानना चाहती थीं कि किस आधार पर तमाम इलाकों को नेपाल में शामिल करने का दावा किया जा रहा है? उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा कि कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा पर दावा करने के लिए सरकार के पास कोई आधार नहीं है। 

इतना ही नहीं यह सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के भी खिलाफ है, जिस आदेश के मुताबिक़ अगर सरकार किसी राष्ट्रीय प्रतीक में बदलाव करना चाहती है तो उसके लिए आधार अनिवार्य रूप से होना चाहिए। सरकार ने इस विधेयक में नए मानचित्र को शामिल करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं दी हैं। ऐसे तो हमारा सीमा विवाद चीन के साथ भी है, हम उस क्षेत्र की ज़मीन को नेपाल में शामिल क्यों नहीं कर पा रहे है? 

अंत में उन्होंने नए मानचित्र का विरोध करते हुए अपनी पार्टी के खिलाफ जाकर सदन में एक संशोधन प्रस्ताव भी पेश किया। साथ ही इस बात की पुरजोर माँग उठाई कि पुराना मानचित्र ही प्रभावी रहे। जिसके बाद अध्यक्ष ने प्रतिनिधि सभा की रूल बुक की धारा 122 का हवाला देते हुए उनके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। अंत में सांसद सरिता गिरी सदन से बाहर की ओर चली गईं। 

जून की शुरुआत में नेपाल संसद की प्रतिनिधि सभा में संविधान संशोधन का प्रस्ताव पेश किया गया था। नेपाल के केपी शर्मा ओली सरकार की तरफ से जिस दिन विवादित मानचित्र संबंधित संविधान संशोधन प्रस्ताव को संसद में पेश किया गया था, उसी दिन नेपाल के राजपत्र में इसे प्रकाशित भी कर दिया गया था। इससे पहले इस विवादित नक्शे का विरोध करने के लिए समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय जनता पार्टी का विलय कराकर नई पार्टी जनता समाजवादी पार्टी बनाई गई थी। इसी पार्टी से सरिता गिरि सांसद हैं।

लेकिन, इसके बाद संभावित विरोध की इस हालात में उनकी पार्टी उनके साथ नहीं खड़ी हुई थी। प्रमुख प्रतिपक्षी दल नेपाली कॉन्ग्रेस तो पहले ही इस प्रस्ताव का समर्थन करने का ऐलान किया था। यह बात हैरान करने वाली थी कि अक्सर भारत के पक्ष में रहने वाली नेपाल की मधेशी पार्टी ने भी संसद में इस बिल का विरोध नहीं किया था। जनता समाजवादी पार्टी की सांसद सरिता गिरि ऐसी पहली सांसद सामने आईं जिन्होंने इस संविधान संशोधन का विरोध किया था। सरिता गिरि ने ये भी दावा किया था कि नेपाल की जनता भी नहीं चाहती है कि मानचित्र को लेकर भारत के साथ कोई विवाद हो। उनकी राय थी कि नेपाल का नया मानचित्र जारी करने से पहले नेपाल को भारत से बातचीत करनी चाहिए थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज 500+ मामले वापस लेगी केरल की वामपंथी सरकार

2018-19 में सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश सम्बन्धी विवाद के दौरान हुए विरोध प्रदर्शनों के दौरान करीब 68000 श्रद्धालुओं के खिलाफ मामले दर्ज हुए थे।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

गोडसे की पूजा करने वाले हिन्दू महासभा के नेता को कमलनाथ ने दिलाई कॉन्ग्रेस की सदस्यता

2019 में चौरसिया ने गोडसे की तस्वीर की आरती उतार कर माल्यार्पण किया था और उनके अंतिम अदालती बयान को पाठ्यक्रम में शामिल करने की माँग की थी।

राहुल गाँधी ने केरल की जनता से ‘उत्तर-दक्षिण’ कर वही किया जो उनके नेता उनसे करते हैं, जो उनको पसंद है – चापलूसी

असल में कॉन्ग्रेस नेता तो झूठ और सच के फेर में नहीं फँसते- वे तो बस वही बोलते हैं जो राहुल गाँधी को पसंद होता है। केरल की जनता के साथ भी राहुल यही प्रयोग कर रहे हैं।

बंगाल: PM मोदी ने जिस मैदान में रैली की, TMC नेताओं ने वहाँ किया गंगाजल छिड़ककर ‘शुद्धिकरण’

PM मोदी ने सोमवार को हुगली के जिस मैदान में जनसभा को संबोधित किया था वहाँ रैली के अगले ही दिन TMC के कार्यकर्ताओं ने जाकर गंगाजल छिड़का और उसका 'शुद्धिकरण' किया।

वोटर समझदार होता है, हमें उनका सम्मान करना चाहिए: राहुल के उत्तर-दक्षिण वाले बयान पर कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल

राहुल गाँधी के बयान पर कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें मतदाताओं का सम्मान करना चाहिए, चाहे वो उत्तर से हो या दक्षिण से, वोटर्स समझदार होते हैं।

प्रचलित ख़बरें

उन्नाव मर्डर केस: तीसरी लड़की को अस्पताल में आया होश, बताई वारदात से पहले की हकीकत

विनय ने लड़कियों को कीटनाशक पिलाकर बेहोश किया और बाद में वहाँ से चला गया। बेहोशी की हालत में लड़कियों के साथ किसी तरह के सेक्सुअल असॉल्ट की बात सामने नहीं आई है।

ई-कॉमर्स कंपनी के डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को बनाया शिकार: फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल, फिर ब्लैकमेल और रेप

उसने ज्यादातर गृहणियों को अपना शिकार बनाया। वो हथियार दिखा कर रुपए और गहने भी छीन लेता था। उसने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

महिला ने ब्राह्मण व्यक्ति पर लगाया था रेप का झूठा आरोप: SC/ST एक्ट में 20 साल की सज़ा के बाद हाईकोर्ट ने बताया निर्दोष

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा, "पाँच महीने की गर्भवती महिला के साथ किसी भी तरह की ज़बरदस्ती की जाती है तो उसे चोट लगना स्वाभाविक है। लेकिन पीड़िता के शरीर पर इस तरह की कोई चोट मौजूद नहीं थी।”

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

लोगों को पिछले 10-15 सालों से थूक वाली रोटियाँ खिला रहा था नौशाद: पूरे गिरोह के सक्रीय होने का संदेह, जाँच में जुटी पुलिस

नौशाद के साथ शादी समारोह में लगे ठेकेदारों की जानकारी भी जुटाई जा रही है। वो शहर की कई मंडपों और शादियों में खाना बना चुका है।

UP: भीम सेना प्रमुख ने CM आदित्यनाथ, उन्नाव पुलिस के खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत दर्ज की FIR

भीम सेना प्रमुख ने CM योगी आदित्यनाथ और उन्नाव पुलिस अधिकारियों पर गुरुग्राम में SC/ST एक्ट के तहत शिकायत दर्ज करवाई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

291,971FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe