Saturday, October 16, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयब्लैक लिस्ट होने के डर से पाक का नया पैंतरा: दिखावे के लिए हाफिज...

ब्लैक लिस्ट होने के डर से पाक का नया पैंतरा: दिखावे के लिए हाफिज सईद के 4 टॉप आतंकी किए गिरफ्तार

खूंखार आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान की यह कार्रवाई एफएटीएफ की बैठक से पहले सामने आई है। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों एफएटीएफ से जुड़े एशिया पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) ने माना था कि पाकिस्तान ने यूएनएससीआर 1267 के प्रावधानों को उचित तरह से लागू नहीं किया।

आतंक के खिलाफ लड़ाई में हमेशा दोहरा चरित्र अपनाने वाले पाकिस्तान ने एक बार फिर से दुनिया को धोखा देने की साजिश रची है। जहाँ एक ओर पाकिस्तान पर फाइनैंशियल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) की तरफ से ब्लैक लिस्ट होने का खतरा मंडरा रहा है, वहीं दूसरी और पाकिस्तान ने इससे बचने के लिए फिर से एक दिखावा किया है।

दरअसल, पाकिस्तान ने आतंक के खिलाफ लड़ाई का ढोंग करते हुए गुरुवार (अक्टूबर 10, 2019) को मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज सईद के संगठन लश्कर-ए-तैयबा के चार टॉप आतंकियों को गिरफ्तार किया है। चारों को टेरर फंडिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार चारों आतंकी की पहचान प्रोफेसर जफर इकबाल, याहया अजीज, मुहम्मद अशरफ और अब्दुल सलाम के रूप में हुई है। पाकिस्तान प्रशासन ने दावा किया है कि आतंकी फंडिंग के मामले में लश्कर-ए-तैयबा और हाफिज सईद के संगठन जमात उद दावा (जेयूडी) के पूरे शीर्ष नेतृत्व पर कार्रवाई की जाएगी।

खूंखार आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान की यह कार्रवाई एफएटीएफ की बैठक से पहले सामने आई है। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों एफएटीएफ से जुड़े एशिया पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) ने माना था कि पाकिस्तान ने यूएनएससीआर 1267 के प्रावधानों को उचित तरह से लागू नहीं किया। वह मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज समेत दूसरे आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने में नाकाम रहा है। ऐसे में अगले हफ्ते पेरिस में होने वाली बैठक में उसे ग्रे लिस्ट से हटाकर ब्लैक लिस्ट में रखा जा सकता है। यह बैठक 12 से 15 अक्टूूबर के बीच होनी है।

एफएटीएफ टेरर फंडिंग और आतंकवाद के चलते पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल चुका है। अब एफएटीएफ पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में डालने की प्लानिंग बना रहा है। इससे पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ गई है। वह इससे बचने के लिए आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई का नाटक कर रहा है।

काउंटर टेरोरिज्म डिपार्टमेंट (CTD) के प्रवक्ता ने कहा कि प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैय्यबा के टॉप आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया है. इन आतंकियों को सीटीडी पंजाब ने नेशनल एक्शन प्लान (NAP) के तहत टेरर फंडिंग के आरोप में गिरफ्तार किया है। सीटीडी ने कहा कि लश्कर-ए-तैय्यबा और जमात-उद-दावा का सरगना हाफिज सईद पहले से ही लाहौर की कोट लखपत जेल में बंद है। 2008 के मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 17 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था। उसके खिलाफ केस चलाया जा रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून, बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,004FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe