Friday, December 3, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा2 को मारा, 80 घायल: POK में उठी आज़ादी की माँग, पाकिस्तानी सेना ने...

2 को मारा, 80 घायल: POK में उठी आज़ादी की माँग, पाकिस्तानी सेना ने बरपाया कहर

POK और गिलगित बाल्टिस्तान के लोग आज के दिन इकट्ठे होकर अपना विरोध प्रदर्शन करते हैं। इस साल पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकर्ताओं के ऊपर न केवल आँसू गैस से हमला कर दिया, बल्कि लाठीचार्ज भी किया।

पाकिस्तान ने अब भारत के बाद अपनी खुद की गुलामी में पड़े पाकिस्तान ऑक्युपाइड कश्मीर (POK) में भी हिंसा और दमन का चक्र शुरू कर दिया है। POK के मुज़फ़्फ़राबाद में पाकिस्तान के अवैध कब्जे के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन पर पाकिस्तान के सशस्त्र सुरक्षा बलों ने भयंकर हिंसा की है। दो लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है, और 80 लोग घायल हो गए हैं। गौरतलब है कि POK में 22 अक्टूबर की तारीख को ‘काला दिवस’ (‘Black Day’) मनाया जाता है। उस ही तारीख को 1947 में पाकिस्तानी सेना ने महाराज हरी सिंह के जम्मू और कश्मीर राज्य पर हमला किया था।

पाकिस्तान से आजादी पाने के लिए POK में सक्रिय सभी राजनीतिक पार्टियों के गठबंधन All Independent Parties Alliance (AIPA) ने इस रैली का आयोजन किया गया था। इसका मकसद पाकिस्तान के अवैध कब्ज़े के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था।

POK और गिलगित बाल्टिस्तान के लोग आज के दिन इकट्ठे होकर अपना विरोध प्रदर्शन करते हैं। इस साल पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकर्ताओं के ऊपर न केवल आँसू गैस से हमला कर दिया, बल्कि लाठीचार्ज भी किया।

और यह हमला किया भी उस समय गया जब पाकिस्तान का विदेश कार्यालय पत्रकारों और विदेशी राजनयिकों का एक प्रतिनिधिमंडल ले कर भारत के खिलाफ प्रोपेगंडा करने उन्हें POK के पास दौरे पर ले कर गया था।

इसके अलावा पाकिस्तान ने POK में आम जनता और नेताओं के अलावा पत्रकारों पर भी हमला किया और उनके साथ हिंसा की। मुज़फ़्फ़राबाद के प्रेस क्लब में Jammu Kashmir People’s National Alliance (JKPNA) नामक पार्टी मीडिया ब्रीफिंग कर रही थी। पुलिस ने उस पर भी हमला बोल कर लाठीचार्ज किया और पत्रकारों के साथ मारपीट करने के अलावा उनके रिकॉर्डिंग इक्विपमेंट भी तोड़ दिए।

इसके बाद बिफरे पत्रकारों ने भी पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe