Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयन शिक्षा, न स्वास्थ्य, न स्थिरता… हर फैक्टर पर पाकिस्तान का कराची पिछड़ा: बना...

न शिक्षा, न स्वास्थ्य, न स्थिरता… हर फैक्टर पर पाकिस्तान का कराची पिछड़ा: बना दुनिया में सबसे कम रहने लायक शहर, इंडेक्स में पाया 169वाँ स्थान

ये इंडेक्स दुनिया भर के शहरों की पोस्ट कोविड रिकवरी पर केंद्रित है। जिसमें लोगों के रहने की स्थिति को पाँच श्रेणियों के आधार पर रेट किया गया है। ये 5 श्रेणियाँ स्थितरता, स्वास्थ्य, संस्कृति और पर्यावरण, शिक्षा और बुनियादी ढाँचे हैं।

पाकिस्तान का कराची रहने लायक जगह नहीं है। ऐसा कहना है इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा जारी की गई रिपोर्ट का। इसमें पाकिस्तान के कराची को दुनिया के शीर्ष पाँच ‘सबसे कम रहने योग्य’ शहरी केंद्रों में शामिल किया गया है।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, ईआईयू के ग्लोबल लिवेबिलिटी इंडेक्स 2023 पर, कराची कुल 173 शहरों में से 169 वें स्थान पर है। केवल लागोस, अल्जीयर्स, त्रिपोली और दमिश्क कराची से नीचे हैं।

बताया जा रहा है कि ये इंडेक्स दुनिया भर के शहरों की पोस्ट कोविड रिकवरी पर केंद्रित है। जिसमें लोगों के रहने की स्थिति को पाँच श्रेणियों के आधार पर रेट किया गया है। ये 5 श्रेणियाँ स्थितरता, स्वास्थ्य, संस्कृति और पर्यावरण, शिक्षा और बुनियादी ढाँचे हैं।

रेट करने के लिए 1-100 की सीमा के भीतर शहरों का मूल्यांकन होता है। इनमें 1 रेटिंग तो बहुत बेकार होती है जबकि 100 आदर्श मानी जाती है। ऐसे में कराची का पाँचों फैक्टर आँकने के बाद कुल मूल्यांकन 42.5 हुआ है। स्थिरता के नाम पर शहर को 20 नंबर मिले हैं। 2022 में भी इन्हें इतने ही मिले थे। इसके अलावा स्वास्थ्य में इन्हें 50 आए हैं। संस्कृति और पर्यावरण में इनके पास 38.7 हैं, शिक्षा के नाम पर 75 है और बुनियादी ढाँचे के नाम पर 51.8 मिला है।

बता दें कि इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट इकोनॉमिस्ट ग्रुप का रिसर्च और एनालिसिस डिविजन है। इसका कार्य अपनी रिसर्च अनुसंधान और विश्लेषण के माध्यम से पूर्वानुमान और सलाहकार सेवाएँ प्रदान करना है। इससे पहले भी EIU का इंडेक्स बहुत अच्छा नहीं था। 2019 में 140 देशों की लिस्ट में उन्हें 136वाँ स्थान मिला था। जबकि 2020 में कोई रिपोर्ट पब्लिश नहीं हुई। 2022 में कराची की रैंकिंग 134वीं थी।

उल्लेखनीय है कि इस इंडेक्स लिस्ट में ऑस्ट्रिया की राजधानी विएना सबसे ज्यादा रहने योग्य शहरों में से एक है। वहीं डेनमार्क की राजधानी कोपनहेगन और स्विट्जरलैंड का ज्यूरिख क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। स्विट्जरलैंड का एक अन्य शहर जिनेवा छठे स्थान पर रहा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -