Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इस्लाम की फतह, मोदी की टीम को हराया, कुफ्र तोड़ा': Pak की जीत के...

‘इस्लाम की फतह, मोदी की टीम को हराया, कुफ्र तोड़ा’: Pak की जीत के बाद मंत्री से कमेंटेटर तक की ये कैसी जुबान

पाकिस्तानी कमेंटेटर बाजिद खान ने तो अपनी खुशी जाहिर करने के लिए ऑन टीवी ये तक कहा कि ये कुफ्र की हार है। बाजिद ने बाबर का इंटरव्यू लेते हुए कहा, “लेकिन कुफ्र तो टूट गया...।” इस पर आजम ने कहा, “सब अल्लाह का करम है।”

T20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की जीत के बाद से सोशल मीडिया पर बड़े-बड़े बोल बोले जा रहे हैं। कोई इस्लाम जिंदाबाद के नारे बुलंद कर रहा है तो कोई इसे काफिरों की हार बता कर खुश हो रहा है और कुछ लोग तो ऐसे हैं जो इसे पीएम मोदी की हार करार दे रहे हैं। इस सूची में मंत्री से लेकर क्रिकेटर और यूट्यूबर-डायरेक्टर सब शामिल हैं।

गृहमंत्री शेख रशीद ने पाक टीम की जीत कहा- इस्लाम की फतह

24 अक्टूबर को पाकिस्तान की जीत पर खुशी जाहिर करते हुए वहाँ के गृह मंत्री शेख रशीद ने एक वीडियो जारी कर दावा किया कि भारत के मुसलमानों के जज्बात भी पाकिस्तानी टीम के साथ थे। इस वीडियो में शेख रशीद ने टीम को मुबारकबाद देते हुए कहा,

“…मुझे अफसोस है कि यह पहला भारत-पाकिस्तान मैच है, जिसे मैं कौमी जिम्मेदारियों की वजह से ग्राउंड में नहीं खेल सका। लेकिन मैंने तमाम ट्रैफिक को कह दिया है कि कंटेनर हटा दिए जाएँ ताकि कौम जश्न मना सके। पाकिस्तान की टीम और कौम को यह जीत मुबारक। आज हमारा फाइनल था। हिंदुस्तान सहित दुनिया के तमाम मुसलमानों के जज्बात पाकिस्तानी टीम के साथ थे। इस्लाम को फतह मुबारक हो।”

मुबाशेर लुकमान ने उगला जहर

पाकिस्तानी डायरेक्टर व यूट्यूबर मुबाशेर लुकमान ने अपने यूट्यूब चैनल पर वीडियो जारी करते हुए कहा कि वो हमेशा से उम्मीद करते थे कि पाकिस्तान भारत को वर्ल्ड कप मैचों में हराए। ऐसे में जिस तरह पाक ने भारत को 24 अक्टूबर को हराया उनका मानना है कि पाकिस्तान ने पूरा वर्ल्ड कप ही जीत लिया है। लुकमान कहते हैं कि उन्हें खुशी है कि पाकिस्तान ने मोदी की टीम को हार दी है जो हमेशा विज्ञापनों में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ प्रचार करते थे।

लुकमान ने बताया कि कैसे उन्होंने पाकिस्तान की जीत पर सट्टेबाजी की हुई थी। अपनी वीडियो में अपनी टीम की तारीफ करते हुए वह लगातार भारत के ख़िलाफड बोलते रहे और रिजवान द्वारा पिच पर नमाज पढ़े जाने को ऐतिहासिक बात कही। साथ ही बताया कि आकिब जावेद ने उन्हें बता दिया था कि इस बार पाकिस्तान जीत सकती है क्योंकि पिच ऐसी है कि गेंदबाजों को इसका फायदा होगा। इसके बाद लुकमान ने भारतीय मुसलमानों का जिक्र किया और कहा कि भारत में मुसलमानों पर अत्याचार हो रहा है। ऐसे में अब उन्हें पता चला होगा कि जब उनके लिए मुल्क बना था और वो यहाँ नहीं आए तो अब उनको पता चलेगा कि मुसलमानों के अपने मुल्क की जीत की खुशी क्या होती है। लुकमान बातों ही बातों में इतना गिर गए कि उन्होंने शमी से बॉलिंग करवाने के फैसले को भी हिंदू-मुसलमान कर दिया और बताया कि ऐसा इसलिए हुआ ताकि जब भारत को भला-बुरा बोला जाए तो सारा ठीकरा एक मुसलमान यानी शमी पर फोड़ें।

‘लेकिन कुफ्र तो टूट गया…’: कमेंटेटर बाजिद खान का विवादित बयान

इसके बाद बाजिद खान, जो कि एक पाकिस्तानी कमेंटेटर और पूर्व क्रिकेटर हैं उन्होंने तो अपनी खुशी जाहिर करने के लिए ये तक कहा कि ये कुफ्र की हार है। बाजिद ने बाबर का इंटरव्यू लेते हुए कहा, “लेकिन कुफ्र तो टूट गया…।” इस पर आजम ने कहा, “सब अल्लाह का करम है।” अब सोशल मीडिया पर ये वीडियो तेजी से शेयर हो रही है। लोगों की शिकायत है की आखिर आईसीसी प्रेजेंटेटर ऐसी भाषा कैसे बोल सकता है। लोगों पूछ रहे हैं कि क्या आईसीसी बाजिद को सस्पेंड करेगा। कुछ लोग बता रहे हैं कि कुफ्र का मतलब गैर मुस्लिमों से है। इसका इस्तेमाल एक कहावत से निकला है जिसमें कहा जाता है, “लाए उस बुत को इल्तेजा करके। कुफ्र टूटा खुदा-खुदा करके।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe