Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों पर अत्याचार के लिए बनाए जाते हैं ईश निंदा कानून,...

पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों पर अत्याचार के लिए बनाए जाते हैं ईश निंदा कानून, दुनिया के लिए चिंता का विषय: UN में भारत

"मानवाधिकार उल्लंघन और धार्मिक रूप से अल्पसंख्यकों को लेकर जैसा रवैया पाकिस्तान का रहा है वह देश ही नहीं बल्कि दुनिया के तमाम देशों के लिए चिंता का विषय है। पाकिस्तान में ईश निंदा से संबंधित कई तरह के क़ानून बनाए जा चुके हैं जिनकी मदद से वहाँ मौजूद अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का हनन किया जाता है।"

गुरूवार (10 सितंबर 2020) को भारत ने संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच पर पाकिस्तान की आलोचना की। आलोचना करते हुए भारत ने कहा पाकिस्तान को भारत के विरुद्ध नफ़रत की भाषा बोलना बंद करना चाहिए। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ जिस तरह का व्यवहार हो रहा है उस पर खुद का मूल्यांकन करना चाहिए। इसके अलावा भारत ने कहा कि पाकिस्तान ईश निंदा संबंधी क़ानून बना कर अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का हनन कर रहा है। 

संयुक्त राष्ट्र संघ के उच्च स्तरीय फोरम (संस्कृति और शांति) पर अपने विचार रखते हुए भारत के स्थाई मिशन की सदस्य पॉलोमी त्रिपाठी ने कई अहम बातें कहीं। उन्होंने कहा कि साफ़ तौर पर देखा सकता है कि कैसे पाकिस्तान का प्रतिनिधि मंडल संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच का इस्तेमाल भारत के विरुद्ध नफ़रत फैलाने के लिए कर रहा है। इतना ही नहीं पाकिस्तान अक्सर संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच पर भारत के विरुद्ध ‘हेट स्पीच’ देता है। 

ऐसा ज़्यादातर तब होता है जब पाकिस्तान सीमा के भीतर और बाहर ‘हिंसा की संस्कृति’ को बढ़ावा देता है। पाकिस्तान को भारत पर किसी भी तरह का आरोप लगा लेने से पहले यह समझना चाहिए कि भारत में संविधान से ऊपर कोई नहीं है। भारत का संविधान सभी को बराबर का अधिकार देता है। इसलिए पाकिस्तान को पहले अपने देश के भीतर हालात सुधारने चाहिए फिर आरोप लगाना चाहिए। 

इसके बाद पॉलोमी त्रिपाठी ने कहा, “मानवाधिकार उल्लंघन और धार्मिक रूप से अल्पसंख्यकों को लेकर जैसा रवैया पाकिस्तान का रहा है वह देश ही नहीं बल्कि दुनिया के तमाम देशों के लिए चिंता का विषय है। पाकिस्तान में ईश निंदा से संबंधित कई तरह के क़ानून बनाए जा चुके हैं जिनकी मदद से वहाँ मौजूद अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का हनन किया जाता है। खासकर जिस तरह पाकिस्तान में लोगों की धार्मिक स्वतंत्रता के साथ खिलवाड़ किया जाता है वह निंदनीय है।” पॉलोमी त्रिपाठी ने ईश निंदा के क़ानून पर आगे बोलते हुए कहा इसका इस्तेमाल ज़्यादातर पाकिस्तान में मौजूद हिंदुओं, सिखों और ईसाईयों के विरुद्ध किया जाता है। 

इसके बाद पॉलोमी त्रिपाठी ने पाकिस्तान में महिलाओं के साथ हो रहे भयावह बर्ताव का उल्लेख किया। उनके मुताबिक़ पाकिस्तान में महिलाओं की स्थिति हमेशा से बुरी रही है लेकिन हाल फ़िलहाल में दयनीय हो चुकी है। वहाँ लड़कियों और महिलाओं का अपहरण होता है, उनके साथ बलात्कार क्या जाता है, उनका धर्म परिवर्तन कराया जाता है। अंत में उनका विवाह आरोपित से ही करा दिया जाता है। महामारी के दौरान पाकिस्तान में हालात और बदतर हो चुके हैं।   

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe