Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयदेर से आए पीरियड, इसीलिए गोली खा रहीं फिलिस्तीन की औरतें: गाजा में इजरायली...

देर से आए पीरियड, इसीलिए गोली खा रहीं फिलिस्तीन की औरतें: गाजा में इजरायली बमबारी से हाइजीन की दिक्कत, अधिकतर अस्पताल भी बंद

ये महिलाएँ अस्पताल भी डॉक्टरों की सलाह लेने नहीं जा पा रही हैं क्योंकि अधिकांश अस्पताल गाजा में घायलों का इलाज कर रहे हैं या फिर बंद हो गए हैं।

इस्लामी आतंकी संगठन हमास के 7 अक्टूबर को इजरायल पर हमले के बाद अब गाजा की महिलाएँ परेशानी में पड़ गई हैं। इजरायल-हमास के हमले के जवाब में गाजा पर बमबारी कर रहा जिसके कारण महिलाएँ अपना पीरियड आगे बढ़ा रही हैं।

दरअसल, इसके पीछे गाजा में साफ़-सफाई, पानी की कमी और बाकी दवाइयों का ना होना बड़ा कारण है। गाजा की नाकेबंदी के कारण कोई भी सामान वहाँ नहीं पहुँच रहा है। गाजा में इन महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन, मेंस्टुरल कप और पीरियड्स के दौरान होने वाली समस्याओं से बचाने वाली दवाइयाँ उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं।

ये महिलाएँ अस्पताल भी डॉक्टरों की सलाह लेने नहीं जा पा रही हैं क्योंकि अधिकांश अस्पताल गाजा में घायलों का इलाज कर रहे हैं या फिर बंद हो गए हैं। ऐसे में ये महिलाएँ इसी पीरियड लेट करवाने वाली दवाई का सहारा दर्द और बाकी समस्याओं से बचने के लिए ले रही हैं। हालाँकि, इस तरह की दवाएँ इनके स्वास्थ्य को नुकसान भी पहुँचा सकती हैं।

फिलिस्तीनी महिलाओं की इस हालत के पीछे इस्लामी आंतकी संगठन हमास बड़े स्तर पर जिम्मेदार है। जहाँ एक ओर युद्ध की वजह से महिलाओं को दवाइयाँ और बाकी जरूरी वस्तुएँ नहीं मिल पा रहीं वहीं हमास के आतंकी गाजा के भीतर पहुँचने वाली मदद को भी लूट रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र और बाकी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा गाजा के भीतर गया राहत का सामान लगातार आतंकी हितों कि पूर्ति के लिए लूटा जा रहा है। हमास के आतंकी पहले से गोदामों में रखा हुआ सामान भी लूट रहे हैं। इन करतूतों में गाजा के नागरिक भी शामिल हैं। वहीं इजरायल ने भी गाजा के भीतर आतंकियों को निशाना बनाने और हवाई हमलों में तेजी लाई है। इजरायली सुरक्षा बलों ने गाजा के भीतर जबालिया कैम्प पर हमला किया है जिसमें बड़ी संख्या में आतंकियों के मारे जाने की सूचना है।

7 अक्टूबर को हमास के हमले के जवाब में इजरायल द्वारा किए गए हवाई हमलों में अब तक गाजा के भीतर 8000 से अधिक आतंकियों की मौत हो चुकी है। इजरायल छोटे स्तर पर गाजा के भीतर जमीनी ऑपरेशन भी कर रहा है। इस बीच गाजा और मिस्र के बीच की राफाह क्रॉसिंग से विदेशियों की निकासी 1 नवम्बर से चालू हो गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -