Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाफ़्रांस के नेशनल डे पर स्पेशल गेस्ट होंगे PM मोदी: राष्ट्रपति मैक्रों ने ट्विटर...

फ़्रांस के नेशनल डे पर स्पेशल गेस्ट होंगे PM मोदी: राष्ट्रपति मैक्रों ने ट्विटर पर डाली तस्वीर, जानें क्यों मनाई जाती है बैस्टिल पर हमले की बरसी

14 जुलाई 1789 को फ्रांस के लोगों ने वहाँ की राजशाही से जुड़े बैस्टिल पर हमला कर दिया था। इसके बाद फ्रांसीसी क्रांति की शुरुआत हुई थी। यह घटना फ्रांस के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। इस घटना को फ्रांस अपने राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 14 जुलाई 2023 को फ्रांस की राजधानी पेरिस (Paris, France) में होने वाली बैस्टिल डे परेड में खास मेहमान के रूप में शामिल होंगे। विदेश मंत्रालय ने इसकी पुष्टि की है। इस परेड में भारत की सशस्त्र बल की एक टुकड़ी फ्रांसीसी सेना के साथ परेड में भाग लेगी।

फ्रांस का निमंत्रण स्वीकार करने पर राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने खुशी जाहिर की। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी तस्वीर साझा करते हुए ट्विटर पर लिखा, “प्रिय नरेंद्र, 14 जुलाई की परेड के सम्मानित अतिथि के रूप में तुम्हारा पेरिस में स्वागत करके मुझे बहुत खुशी होगी।”

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के ट्वीट का प्रधानमंत्री मोदी ने भी जवाब दिया। पीएम मोदी ने शुक्रवार (5 मई 2023) को फ्रेंच में लिखा, “धन्यवाद मेरे दोस्त @EmmanuelMacron! मैं आपके और फ्रांस के लोगों के साथ 14 जुलाई और हमारे रणनीतिक साझेदारी को सेलिब्रेट करने के लिए उत्साहित हूँ।”

विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी की 25 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने बैस्टिल डे परेड में स्पेशल गेस्ट के रूप में शामिल होंगे। प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा से रणनीतिक, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग के लिए नए और महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को निर्धारित कर भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी के अगले स्तर पर पहुँचने की उम्मीद है

विदेश मंत्रालय के अनुसार, भारत और फ्रांस का शांति और सुरक्षा पर साझा दृष्टिकोण है, खासकर यूरोप और हिंद-प्रशांत में। बयान में आगे कहा गया कि दोनों देश संयुक्त राष्ट्र के चार्टर (UN Charter) के उद्देश्यों और सिद्धांतों को लेकर भी साझा दृष्टिकोण रखते हैं, जो हिंद-प्रशांत क्षेत्र में उनके सहयोग का आधार है।

बता दें कि 14 जुलाई 1789 को फ्रांस के लोगों ने वहाँ की राजशाही से जुड़े बैस्टिल पर हमला कर दिया था। इसके बाद फ्रांसीसी क्रांति की शुरुआत हुई थी। यह घटना फ्रांस के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। इस घटना को फ्रांस अपने राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -