Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसूअर की चर्बी, नसबंदी, नामर्दी... पोलियो के टीके से डरते हैं पाकिस्तानी मुस्लिम, फिर...

सूअर की चर्बी, नसबंदी, नामर्दी… पोलियो के टीके से डरते हैं पाकिस्तानी मुस्लिम, फिर किया टीम पर हमला, 1 सुरक्षाकर्मी घायल

5 मार्च को आतंकियों ने फिर पोलियो टीम पर हमला किया। घटना में अज्ञात बंदूकधारी मोटरसाइकल पर आए और तब उन्होंने पोलियो की टीम पर गोली चलाई। इसमें उनकी सुरक्षा में तैनात पुलिस वाला घायल हो गया।

पाकिस्तान में पोलियो की दवाई को लेकर फैली अफवाहों के कारण एक बार फिर पोलियो का टीका लगाने वाली टीम के ऊपर जानलेवा हमला हुआ। इस हमले में उनकी सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी घायल हो गया। घटना मरदान के पीरसादी की है। मंगलवार (5 मार्च 2024) को वहाँ एक अज्ञात बंदूकधारी ने पोलियो की टीम पर हमला किया।

सद्दार के पुलिस अधीक्षक खालिस खान ने बताया कि अज्ञात लोगों ने मोटरसाइकिल से आकर हमला किया था। इसके बाद वह लोग फरार हो गए। घायल पुलिकर्मी की पहचान जोहार कय्यूम के तौर पर हुई है।

डॉन में प्रकाशित जानकारी बताती है कि पोलियो का टीका लगाने वाली टीम 5 दिवसीय अभियान के तहत प्रांत में घूम रही थी। इसी दौरान वह पोलियो का टीका लगाने जब एक घर में घुसे तभी बाहर से उनके ऊपर हमला हुआ। पुलिस की टीम जानकारी पाते ही मौके पर पहुँची। घायल पुलिस वाले को तहसील हेडक्वार्टर के अस्पताल ले जाया गया और आगे का इलाज हुआ।

पोलियो टीम पर हमला पाकिस्तान में आम

इससे पहले जनवरी में एक पोलियो का टीका लगाने वाले कर्मचारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वहीं उनकी सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी भी घायल हुआ था। मामला खैबर पख्तूनख्वा बाजौर जिले का था। उससे पहले जनवरी में ही एक पुलिसकर्मी के वाहन को निशाना बनाया गया था क्योंकि वो मनमोंद तहसील में पोलियो में वैक्सीनेटर्स को सुरक्षा दे रहा था।

क्यों होता है पोलियो वर्कर्स पर हमला

गौरतलब है कि पाकिस्तान में पोलियो का टीका लगाने वाली टीम पर हमले नई बात नहीं है। वहाँ पोलियो वाली टीम के साथ सुरक्षाकर्मी देना इसलिए जरूरी होता है क्योंकि आतंकी संगठन उन्हें अपना निशाना बनाते हैं। कट्टर इस्लामवादियों में ऐसा भ्रम है कि पोलियो की वैक्सीन सूअर की चर्भी, शराब की सामग्री से बनती है और इसका टीका लगवाने से नसबंदी होती है, नामर्दी आती है।

इसके अलावा एक दूसरा कारण ये भी है कि पाकिस्तान में पोलियो वैक्सीनेटर्स को इसलिए निशाना बनाया जाता है क्योंकि अमेरिकी की सीआईए ने आतंकी ओसामा बिन लादेन का पता लगाने के लिए ऐसा ही फेक कैंपेन चलाया था। इसलिए यूएस से सतर्क रहने के नाम पर ये आतंकी अब पोलियो टीम पर हमला करते हैं।

पाकिस्तान में तामाम पोलियो वर्कर और सिक्योरिटी गार्ड मारे जा चुके हैं। एक ओर पूरा विश्व है जो ऐसी बीमारियों से लड़ने के लिए दिन रात एक कर रहा है। वहीं पाकिस्तान और अफगानिस्तान जैसे देश इससे निजात पाने की बजाय उन्हीं लोगों को मार रहे हैं जो इसकी दवाई उन्हें पिला रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2018, 2019, 2023, 2024… साल दर साल ‘ये मोदी सरकार का अंतिम बजट’ कह-कह कर थके संजय झा: जिस कॉन्ग्रेस ने अनुशासनहीन कह कर...

संजय झा ने 2023 के वार्षिक बजट को उबाऊ बताया था और कहा था कि ये 'विनाशकारी' भाजपा को बाय-बाय कहने का समय है, इसे इनका अंतिम बजट रहने दीजिए।

मानहानि मामले में यूट्यूबर ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली कोर्ट ने जारी किया समन, BJP नेता की शिकायत के बाद सुनवाई: अदालत ने कहा-...

ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली की एक कोर्ट ने मानहानि मामले में समन जारी किया है। ये समन भाजपा नेता सुरेश करमशी नखुआ द्वारा द्वारा शिकायत के बाद जारी हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -