Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमिशनरी सेवा से गर्भवती होकर वापस लौटीं दो नन: कैथोलिक चर्च ने दिए जाँच...

मिशनरी सेवा से गर्भवती होकर वापस लौटीं दो नन: कैथोलिक चर्च ने दिए जाँच के आदेश

चर्च ने इन दोनों ही नन पर नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए जाँच शुरू कर दी है। ईसाईयों में नन और बिशप दोनों को अविवाहित जीवन की शपथ लेनी होती है जिसके बाद शारीरिक सम्बन्ध बनाने की आज़ादी नहीं रह जाती।

एक कैथोलिक चर्च की नन जब मिशनरी का काम करने के बाद वापस पहुँचीं तो चर्च में हंगामा खड़ा हो गया। यह मामला उस वक़्त सामने आया जब समाजसेवा के नाम पर मिशनरी की ओर से काम करने गईं चर्च की दोनो नन अपने-अपने घर चली गईं मगर बाद में उन्हें इस बात का पता चला कि वह गर्भवती हैं और इस अवस्था में उन्हें कई दिन हो गए हैं।

जब यह मामला चर्च तक पहुँचा तो जाँच के आदेश दिए गए, पता चला कि मिशनरी के काम पर बाहर निकली इन दोनों औरतों और किसी पुरुष के बीच शारीरिक सम्बन्ध बनाए गए थे जिसके चलते यह स्थिति सामने आई और दोनों गर्भवती हो गईं। दो अलग-अलग पंथ को मानने वाली इन दोनों महिलाओं को अपने गर्भवती होने का जब आभास हुआ तब तक काफी देर हो चुकी थी। इनमें से एक महिला को अपनी गर्भवती होने की जानकारी तब हुई जब वह पेट में दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल गई। इसके बाद जाँच में पाया गया कि वह गर्भवती हैं।

अफ़्रीकी महाद्वीप के सिसिली की रहने वाली यह नन बच्चे को जन्म देने के इतना करीब पहुँच गई कि उसने आखिर में अपना ठिकाना पलेर्मो को बना लिया। वहीं दूसरी नन को जब तक इस बात की जानकारी मिली तब तक वह अपने घर मेडागास्कर पहुँच चुकी थी। दरअसल यह महिला नन वाले अपने जीवन को छोड़ने पर विचार भी कर रही थी।

वहीं दूसरी ओर चर्च ने इन दोनों ही नन पर नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए जाँच शुरू कर दी है। ईसाईयों में नन और बिशप दोनों को अविवाहित जीवन की शपथ लेनी होती है जिसके बाद शारीरिक सम्बन्ध बनाने की आज़ादी नहीं रह जाती। बहुत सी नन महिलाओं ने कैथोलिक चर्च और मिशनरियों में पादरी द्वारा उनका शारीरिक शोषण करने के चौंकाने वाले खुलासे भी किए हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में भी ऐसे ही कई मामले हैं जिनमें से एक के सामने आने के बाद हड़कंप मच गया था। इस कड़ी में सबसे अहम केस बिशप फ्रांको का है। इसी साल की शुरुआत में कई नन महिलाओं द्वारा ईसाई मिशनरियों में होने वाले शारीरिक शोषण को लेकर कई खुलासे किए गए थे जिसके बाद खुद पोप फ्रांसिस ने भी इस बात को स्वीकार किया था कि बहुत से बिशप-पादरियों ने कई नन महिलाओं का यौन उत्पीड़न किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe