Wednesday, June 26, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचाँद नवाब-2: गर्दन तक पानी में डूबकर पाकिस्तानी रिपोर्टर ने बताया बाढ़ का हाल,...

चाँद नवाब-2: गर्दन तक पानी में डूबकर पाकिस्तानी रिपोर्टर ने बताया बाढ़ का हाल, Video वायरल

सोशल मीडिया पर तमाम लोग विडियो को लेकर मजाकिया टिप्पणियाँ कर रहे हैं। कई लोग ऐसे भी है जो हुसैन के काम की प्रशंसा कर रहे हैं और कई रिपोर्टर की जान खतरे में डालने के लिए समाचार चैनल की आलोचना कर रहे हैं।

पाकिस्तान एक ऐसा देश बनता जा रहा है जिसकी हर संस्था और घटना सोशल मीडिया पर मजाक का नया मुद्दा छेड़ देता है। आज ही पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री इमरान खान नान-रोटी के मुद्दे पर उच्चस्तरीय बैठक बुलाते देखे गए हैं। पाकिस्तान के पत्रकार भी अक्सर अपने कारनामों की वजह से सुर्खियों में रहते हैं। कुछ समय पहले पकिस्तान के एक पत्रकार चाँद नवाब सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बन गए थे। लेकिन अब चाँद नवाब को एक और पाकिस्तानी पत्रकार टक्कर दे रहा है।

दरअसल, आजकल पाकिस्तान के कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात हैं। इसी बाढ़ के दौरान एक पत्रकार की वीडियो वायरल हुआ है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में दिख रहा है कि पाकिस्तानी पत्रकार गर्दन तक गहरे बाढ़ के पानी में खड़ा होकर रिपोर्टिंग कर रहा है।

रिपोर्टिंग करते हुए रिपोर्टर की ये विडियो ट्विटर पर खूब पसंद की जा रही है। पाकिस्तानी पत्रकार जावेरिया सिद्दिकी ने अपने ट्विटर अकाउंट से वायरल वीडियो को शेयर किया है।

इस रिपोर्टर का नाम है अज़ादर हुसैन, जो पाकिस्तान के न्यूज़ चैनल जीटीवी (GTV) के लिए काम करते हैं। 0.41 सेकेंड के इस वीडियो में अज़ादर हुसैन पाकिस्तान के कोट चट्टा क्षेत्र में आई बाढ़ के बारे में बता रहे हैं। यूरो न्यूज़ के अनुसार, इस वीडियो में ये रिपोर्टर लगातार 6 दिन से हो रही बारिश के बाद इस क्षेत्र में हुए नुकसान के बारे में दर्शकों को दिखाने का प्रयास कर रहे हैं।

ये वीडियो जीटीवी के यूट्यूब चैनल पर 25 जुलाई को शेयर किया गया, जिसे अभी तक डेढ़ लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है। सोशल मीडिया पर तमाम लोग विडियो को लेकर मजाकिया टिप्पणियाँ कर रहे हैं। कई लोग ऐसे भी है जो हुसैन के काम की प्रशंसा कर रहे हैं और कई रिपोर्टर की जान खतरे में डालने के लिए समाचार चैनल की आलोचना कर रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -