Monday, June 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयरूस-यूक्रेन युद्ध में तीसरे देश की एंट्री: पुतिन के समर्थन में ये देश भेजेगा...

रूस-यूक्रेन युद्ध में तीसरे देश की एंट्री: पुतिन के समर्थन में ये देश भेजेगा अपनी सेना, परमाणु हथियार भी करेगा तैनात

बेलारूस का इतना बड़ा फैसला उस समय सामने आया है जब रूस ने यूक्रेन के ख़िलाफ़ अपनी परमाणु डेटरेंट फोर्स को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं।

यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच बेलारूस का एक बड़ा कदम सामने आया है। अमेरिकी खुफिया एजेंसी के अधिकरियों ने जहाँ दावा किया है कि हो सकता है रूस की कार्रवाई को समर्थन देते हुए बेलारूस यूक्रेन के विरुद्ध अपने सैनिक भी सीमा पर भेजे। वहीं खुद बेलारूस ने यह जानकारी दे दी है कि उन्होंने रविवार को संवैधानिक जनमत संग्रह करके अपने गैर परमाणु स्टेटस को खत्म कर दिया है। 

मालूम हो कि बेलारूस का इतना बड़ा फैसला उस समय सामने आया है जब रूस ने अपनी परमाणु डेटरेंट फोर्स को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए। घटनाक्रमों से साफ हो रहा है कि बेलारूस इस पूरे विवाद में रूस के साथ है वो भी तब जब देश के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको को खुद फ्रांस के राष्ट्रपति ने फोन करके कहा था कि वो किसी कीमत पर रूस की मदद न करें।

इसके अलावा ये निर्णय मॉस्को और कीव के प्रतिनिधि मंडल की बेलारूस में होने वाली मुलाकात से ठीक पहले आया है। समाचार एजेंसी आईएएनएस ने भी यूक्रेन के खुफिया सूत्रों के हवाले से कहा कि बेलारूस रूस के आक्रमण में रूसियों को अपने क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति देने के साथ-साथ उन्हें यूक्रेन में सीमा पार करने की अनुमति देने के अलावा ‘शायद सीधे भाग’ लेने के लिए तैयार है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले खबर आई थी कि बेलारूस के राष्ट्रपति के प्रयासों के चलते रूस और यूक्रेन के प्रतिनिधि के दूसरे से मिलकर बात करने को तैयार हुए। लेकिन यूक्रेन राष्ट्रपति जेलेंसकी की ओर से ये कहा गया था कि वो उस जमीन पर कोई बात नहीं करेंगे जहाँ से उनके ऊपर मिसाइलें दागी जा रही हैं। इसके बाद मुलाकात की जगह बेलारूस तय हुई।

बता दें कि रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का आज 5वाँ दिन हैं। रूसी सेना लगातार यूक्रेन में अपना नियंत्रण बनाने की कोशिश कर रही हैं। इस बीच यूक्रेन की ओर से दावा सामने आया है कि बेलारूस के पेराट्रूपर्स को यूक्रेन के खिलाफ तैनात किया गया है। कहा जा रहा है कि उन पेराट्रूपर्स को Ilyushin Il-76 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट से भेजा जा रहा है। ये दावा न्यूज वेबसाइट Kyiv Independent से किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -