Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारतीय उच्चायोग को सुरक्षा देने में विफल रही ब्रिटेन सरकार': खालिस्तानियों के हमले पर...

‘भारतीय उच्चायोग को सुरक्षा देने में विफल रही ब्रिटेन सरकार’: खालिस्तानियों के हमले पर विदेश मंत्री S जयशंकर की दो टूक

बीजेपी एमपी तेजस्वी सूर्या द्वारा आयोजित BJYM के कार्यक्रम में सवालों का जवाब देते हुए एस जयशंकर ने कहा कि दूतावास या उच्चायोग के परिसर की सुरक्षा और सम्मान का ध्यान रखना उस देश का कर्तव्य है, जहाँ वह स्थित है।

ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर हमले और तिरंगे के अपमान पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन की सरकार भारतीय दूतावास को सुरक्षा देने में विफल रही है। विदेश मंत्री ने कहा कि भारत सुरक्षा के अलग-अलग मानकों को स्वीकार नहीं कर सकता। एस जयशंकर शुक्रवार (24 मार्च 2023) को बेंगलुरु में भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

बीजेपी एमपी तेजस्वी सूर्या द्वारा आयोजित BJYM के कार्यक्रम में सवालों का जवाब देते हुए एस जयशंकर ने कहा कि दूतावास या उच्चायोग के परिसर की सुरक्षा और सम्मान का ध्यान रखना उस देश का कर्तव्य है, जहाँ वह स्थित है। उस देश का उत्तरदायित्व है कि वह एक राजनयिक (Diplomats) को काम करने के लिए सुरक्षा प्रदान करे। ब्रिटेन में इन दायित्वों को पूरा नहीं किया गया। इसे लेकर हमारी ब्रिटिश सरकार से बातचीत हुई है।

विदेश मंत्री ने कहा कि जिस दिन उपद्रवी हाई कमीशन के आगे जमा हुए, उस दिन उच्चायोग की सुरक्षा में कमी रह गई थी। एस जयशंकर ने आगे कहा कि कई देश इसे लेकर लापरवाह हैं। अपनी सुरक्षा को लेकर वे अलग सोचते हैं जबकि दूसरों की सुरक्षा पर उनकी अलग राय है। उन्होंने कहा, “एक विदेश मंत्री के तौर पर मैं आपको बता दूँ कि हम इस तरह के अलग-अलग मानकों को स्वीकार नहीं करने वाले हैं।”

लंदन में क्या हुआ था?

दरअसल, खालिस्तान समर्थक भगोड़े अमृतपाल के खिलाफ भारत में कार्रवाई हो रही है। इस कार्रवाई के विरोध में खालिस्तान समर्थकों ने ब्रिटेन की राजधानी लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया था। इस प्रदर्शन के दौरान खालिस्तानियों ने उच्चायोग में लगे भारतीय तिरंगे को हटा कर खालिस्तानी झंडा लगाने की कोशिश की थी। इस दौरान खालिस्तानियों ने उच्चायोग में तोड़फोड़ भी की थी।

इस घटना के बाद भारत ने अंग्रेजी राजदूत को तलब करते हुए सख्ती दिखाई थी। इसके बाद राजदूत समेत ब्रिटेन के विदेश मंत्री और लंदन के मेयर ने घटना की निंदा की थी। भारत स्थित ब्रिटिश उच्चायोग और उच्चायुक्त आवास के बाहरी सुरक्षा घेरे में भी कटौती की खबरें आई थीं। जिसके बाद ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग के बाहर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी और बैरिकेडिंग भी लगाए गए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -