Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयदेह का धंधा कैसे करें, सिखाएगी यूनिवर्सिटी: 'सेक्स वर्कर' ट्रेनिंग प्रोगाम पर बवाल, डरहम...

देह का धंधा कैसे करें, सिखाएगी यूनिवर्सिटी: ‘सेक्स वर्कर’ ट्रेनिंग प्रोगाम पर बवाल, डरहम यूनिवर्सिटी की सफाई- हम प्रोत्साहित नहीं कर रहे

छात्रों और स्टाफ को भेजे गए ईमेल में लिखा था कि सेक्स वर्क करने वाले छात्रों को किसी भी पूर्वाग्रह से मुक्त अच्छी जानकारी और समर्थन हासिल करने में किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना चाहिए।

ब्रिटेन की डरहम यूनिवर्सिटी सेक्स इंडस्ट्री के लिए छात्रों को ट्रेनिंग प्रोग्राम ऑफर कर रही है। खबर है कि वहाँ की स्टूडेंट यूनियन ने हाल ही में ईमेल के जरिए इस ट्रेनिंग विज्ञापन को जारी किया। हर छात्र और स्टाफ को भेजे गए ईमेल में लिखा था कि सेक्स वर्क करने वाले छात्रों को किसी भी पूर्वाग्रह से मुक्त अच्छी जानकारी और समर्थन हासिल करने में किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना चाहिए।

इस प्रोग्राम के जारी होने के बाद कुछ जगह इसका विरोध हो रहा है। सोशल मीडिया पर लोग इसे ‘वेश्या’ बनाने की ट्रेनिंग बता रहे हैं। वहीं ब्रिटेन की उच्च शिक्षा मंत्री मिशेल डोनेलन भी छात्र संघ की इस ट्रेनिंग के ख़िलाफ़ हैं। उन्होंने कहा, “यह ट्रेनिंग यौन कार्य को सामान्य कार्य के रूप में मान्यता देने का एक प्रयास है… मुझे इस बात को लेकर बेहद गंभीर चिंता है कि यूनिवर्सिटी एक ऐसे खतरनाक धंधे को वैध बना रहा है, जहाँ महिलाओं का शोषण होता है।” वह बोले, “यह ठीक है कि शोषण की शिकार पीड़िताओं को महत्वपूर्ण सपोर्ट दिया जाता है। लेकिन यह कोर्स सेक्स सेलिंग को सामान्य कार्य बनाने का प्रयास है, जिसकी हमारे विश्वविद्यालयों में कोई जगह नहीं है।”

ट्रेनिंग प्रोग्राम पर भारी विरोध झेलने के बाद यूनिवर्सिटी ने बताया कि शुरू किए गए इस प्रोग्राम का उद्देश्य छात्रों को सेक्स कार्यों के लिए प्रोत्साहित करना नहीं है। मगर कुछ लोग इसे बदनाम कर रहे हैं। विश्वविद्यालय की प्रवक्ता ने कहा, “हम सेक्स वर्क को प्रोत्साहित नहीं कर रहे हैं, बल्कि हम अपने स्टूडेंट्स की मदद कर रहे हैं। हम किसी भी छात्र को जज नहीं करते। हम उनकी सुनते हैं, उनकी सहायता करते हैं और उन्हें व्यवहारिक मदद पहुँचाते हैं। हम छात्रों और कर्मचारियों के लिए कई पाठ्यक्रम चलाते हैं, जिसमें मानसिक स्वास्थ्य से लेकर वेल बीइंग , ड्रग्स और अल्कोहल अवेयरनेस भी शामिल हैं।” यूनिवर्सिटी के मुताबिक, सेक्स वर्क पर धब्बा लगा हुआ है। ऐसे में इस ट्रेनिंग के जरिए उन छात्रों की मदद कर रहे हैं जो ज्यादा खतरे में हैं। यूनिवर्सिटी उन्हें मदद दे रही है जिसकी उन्हें जरूरत है और जिसके वो हकदार हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe