Thursday, July 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयविभाजन के बाद पाकिस्तान में सीता रोड का नाम बदलकर हुआ था रहमानी नगर:...

विभाजन के बाद पाकिस्तान में सीता रोड का नाम बदलकर हुआ था रहमानी नगर: तेज आँधी ने दिखाई पुरानी विरासत

“दादू जिले में ‘सीता रोड’ के रूप में छोटा स्टेशन स्थापित किया गया था, लेकिन कुछ मजहबी तत्वों द्वारा विभाजन के बाद इसका नाम रहमानी नगर के रूप में बदल दिया गया। हालाँकि, कल आए तेज तूफान ने रहमानी नगर के साथ लगी लोहे की शीट को हटा दिया और मूल नाम उजागर कर दिया।”

पाकिस्तान में देवी सीता के नाम पर रखे गए रोड का नाम विभाजन के बाद बदल कर रहमानी नगर कर दिया गया। एक सोशल मीडिया यूजर ने इसकी जानकारी दी। दरअसल, हाल ही में आए तूफान ने बोर्ड के ऊपर लगे लोहे की शीट को उड़ा दिया, जिसके बाद रोड का असली नाम सामने आ गया, जो कि विभाजन से पहले देवी सीता के नाम पर रखा गया था।

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में क्षेत्र के नाम को प्रदर्शित करते हुए एक पत्थर की संरचना के ऊपर रखी लोहे की टूटी हुई शीट की तस्वीर शेयर करते हुए, सोशल मीडिया यूजर ने लिखा, “दादू जिले में ‘सीता रोड’ के रूप में छोटा स्टेशन स्थापित किया गया था, लेकिन कुछ मजहबी तत्वों द्वारा विभाजन के बाद इसका नाम रहमानी नगर के रूप में बदल दिया गया। हालाँकि, कल आए तेज तूफान ने रहमानी नगर के साथ लगी लोहे की शीट को हटा दिया और मूल नाम उजागर कर दिया।”

चित्र को करीब से देखने से यह स्पष्ट होता है कि शुरू में ’सीता रोड’ को पत्थर की संरचना पर उकेरा गया था, जिसे बाद में एक धातु की शीट से ढँका गया था जिस पर उर्दू में ‘रहमानी नगर’ अंकित किया गया था। कल, कथित तौर पर क्षेत्र में चल रही तेज हवाओं ने पत्थर की संरचना के ऊपर लगी लोहे की शीट के एक हिस्से को हटा दिया, जिसके बाद जगह का मूल नाम उभर कर सामने आ गया।

हालाँकि, पाकिस्तान में ‘सीता रोड’ एकमात्र सड़क नहीं है जिसका नाम पाकिस्तान की पहचान को वापस लाने के लिए देश के विभाजन के बाद बदला गया था। इतने वर्षों में पाकिस्तान ने कई ऐसी सड़कों, पारंपरिक स्थानों का नाम बदल दिया है जो कभी हिंदुओं और सिखों के नाम पर थे। उदाहरण के लिए, कराची में राम बाग, आराम बाग बन गया, लाहौर में कृष्ण नगर का नाम बदलकर इस्लामपुर रखा गया, कसूर के वान राधा राम का नाम बदलकर हबीबाबाद कर दिया गया, जबकि भाई फेरू का नाम बदलकर फूल नगर कर दिया गया।

इसके अलावा, मध्य लाहौर में, जैन मंदिर चौक का नाम एक हिंदू मंदिर के नाम पर रखा गया था। मंदिर को 1992 में अयोध्या, भारत में बाबरी मस्जिद के विनाश का ‘बदला’ लेने के लिए ध्वस्त कर दिया गया था और इस स्थान का नाम बदलकर बाबरी मस्जिद चौक रख दिया गया था।

ऐसे कई और उदाहरण हैं। विभाजन के पूर्व लाहौर में, लक्ष्मी चौक शहर के सबसे बड़े दिवाली समारोहों में से एक की मेजबानी करता था। यह भी एक उर्दू पत्रकार के नाम पर मौलाना जफर अली खान चौक के नाम में बदल दिया गया, जिन्होंने अपने अखबार के माध्यम से अहमदिया समुदाय के खिलाफ लड़ाई छेड़ दी।

मूल रूप से, इस्लामी चरमपंथ के कारण पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से अल्पसंख्यक हिंदुओं की दुर्दशा बढ़ती ही जा रही है। वर्षों से, हिंदू लड़कियों के अपहरण और इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए मजबूर होने की कई रिपोर्टें हैं। इसके अलावा, हिंदू मंदिरों पर हमले किए जाने के कई उदाहरण हैं और हिंदू घरों को सरकार के मौन समर्थन के साथ जमीन पर बुलडोज़र चलाया जा रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मीडिया पर फूटा शिल्पा शेट्टी का गुस्सा, फेसबुक-गूगल समेत 29 पर मानहानि केस: शर्लिन चोपड़ा को अग्रिम जमानत नहीं, माँ ने भी की शिकायत

शिल्पा शेट्टी ने छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए 29 पत्रकारों और मीडिया संस्थानों के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का केस किया है। सुनवाई शुक्रवार को।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के जलसे में भारत के वामपंथियों की ता थैया, पीछे-पीछे कॉन्ग्रेसी भी कह सकते हैं- हम भी आ गए भैया!

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ समझौता करने वाली कॉन्ग्रेस, वामपंथियों की कला सीख चीनी दूतावास के समारोहों में खुलेआम दिखाई दे तो चौंकिएगा मत।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,836FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe