Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकोरोना संक्रमण से मरने वाले मुस्लिम जलाए जा रहे, कट्टरपंथियों ने श्रीलंका में काटा...

कोरोना संक्रमण से मरने वाले मुस्लिम जलाए जा रहे, कट्टरपंथियों ने श्रीलंका में काटा बवाल

कोरोना संक्रमण के खतरों को देखते हुए श्रीलंका के स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को COVID-19 गाइडलाइन्स जारी किया था। इसके अनुसार संक्रमण के कारण हुई मौतों के बाद शवों को जलाना ही मानक प्रक्रिया होगी। इससे पहले मुस्लिमों को अपने मज़हबी रिवाज के अनुसार शवों को दफन करने की छूट थी।

कोरोना महामारी से लड़ने के लिए श्रीलंका ने मुस्लिमों के शवों को दफनाने की जगह जलाने का फैसला लिया है। इसको लेकर कट्टरपंथियों ने विवाद शुरू कर दिया है। अब तक COVID-19 संक्रमण से मरने वाले दो मुस्लिमों को उनके परिवार की इच्छा के विरुद्ध इस्लामिक तरीके से दफन करने की बजाए जला दिया गया। कोलंबो के 73 साल के बिशरुफ हाफी मोहम्मद दूसरे मुस्लिम हैं, जिन्हें कोरोना के चलते हुई मृत्यु के बाद जला दिया गया। श्रीलंका में अब तक कोरोना के 151 मामले सामने आ चुके हैं।

बिशरुफ के बेटे 46 साल के फ़याज़ जूनुस ने बताया कि उनके पिता को किडनी की समस्या थी। लगभग दो हफ्ते पहले उनमें कोरोना संक्रमण पाया गया था। इसके बाद 1 अप्रैल को उनकी मौत हो गई और अगले दिन उन्हें जला दिया गया। फ़याज़ ने बताया कि उसके पिता के शव को पुलिस की देखरेख में एक गाड़ी में ले जाया गया जहाँ उन्हें जलाया गया। कोरोना संक्रमण के डर से हम उनका जनाजा नहीं निकाल पाए। अल जजीरा से उसने कहा कि सरकार को मुस्लिमों के लिए कुछ व्यवस्था करनी चाहिए जिससे हम अपने चहेतों का अंतिम संस्कार इस्लामिक तौर-तरीकों के अनुसार कर सकें।

याद रहे कि कोरोना संक्रमण के खतरों को देखते हुए श्रीलंका के स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को COVID-19 गाइडलाइन्स जारी करते हुए कहा था कि कोरोना संक्रमण के कारण हुई मौतों के बाद शवों को जलाना ही मानक प्रक्रिया होगी। इससे पहले मुस्लिमों को अपने मज़हबी रिवाज के अनुसार शवों को दफन करने की छूट थी। गाइडलाइन्स में यह भी स्पष्ट किया गया कहा गया है कि शवों को नहलाना नहीं है जो कि इस्लामिक परम्परा के खिलाफ है।

श्रीलंका की मुस्लिम कॉउन्सिल के वाइस प्रेसिडेंट हिलमी अहमद ने अल जजीरा से कहा कि मुस्लिम समुदाय इस घटनाक्रम को चरमपंथी बौद्ध शक्तियों के एक नस्ली एजेंडा के तौर पर देखता है। उसने कहा कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन द्वारा जारी की गईं गाइडलाइन्स का ब्रिटेन, ज्यादातर यूरोपीय देशों, सिंगापुर, हांगकांग और सभी मुस्लिम देशों में (सिवाय श्रीलंका) में पालन किया जा रहा है। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भी श्रीलंकाई प्रशासन से अंतिम संस्कार के संबंध में धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान करने की अपील की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe