Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान के गजनी में तालिबान का कहर: मस्जिद के सामने 43 लोगों को गोलियों...

अफगानिस्तान के गजनी में तालिबान का कहर: मस्जिद के सामने 43 लोगों को गोलियों से भूना, 3000 ने शहर से किया पलायन

तालिबान आतंकियों ने मलिस्तान जिले में प्रवेश करने के बाद युद्ध अपराध किए और उन नागरिकों को मार डाला, जो लड़ाई में शामिल नहीं थे।

अफगानिस्तान में विदेशी बलों की वापसी के बाद से ही तालिबान का कहर जारी है। एक बार फिर तालिबान ने दुनिया को अपना क्रूर रूप दिखाया है। इस महीने की शुरुआत में अफगानिस्तान के मध्य प्रांत गजनी में मलिस्तान जिले पर हमले के बाद तालिबान ने 43 नागरिकों और सुरक्षा बल के सदस्यों की गोली मारकर हत्या कर दी। हालाँकि, तालिबान ने अपने ऊपर लगे इन आरोपों को सिरे से नकार दिया है।

टोलो न्यूज के अनुसार, गजनी की एक नागरिक समाज कार्यकर्ता मीना नादेरी ने रविवार (जुलाई 25, 2021) को काबुल में एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि तालिबान आतंकियों ने मलिस्तान जिले में प्रवेश करने के बाद युद्ध अपराध किए और उन नागरिकों को मार डाला, जो लड़ाई में शामिल नहीं थे। नादेरी ने मलिस्तान के निवासियों का एक संयुक्त बयान पढ़ा, जिसमें कहा गया कि उन्होंने लोगों के घरों पर हमला किया और उनकी संपत्ति लूटने के बाद मकानों को जला दिया गया।

तालिबान ने की आम नागरिकों की हत्या

टोलो न्यूज के अनुसार, हाजी नादिर ने कहा कि उनके बेटे रमजान अली (29) और इशाक अली (31) की 10 दिन पहले तालिबान ने हत्या कर दी। वे सरकारी कर्मचारी या देश के सुरक्षा बलों के सदस्य भी नहीं थे। नादिर ने कहा कि वे अपने परिवारों के साथ मलिस्तान छोड़ने की कोशिश कर रहे थे, क्योंकि इलाके में लड़ाई बढ़ गई थी। वहीं, मारे गए लोगों की बीवियों ने कहा कि तालिबान ने उनके बच्चों के सामने उनके पतियों की आँखों पर पट्टी बाँध दी। उन्हें इलाके की एक मस्जिद के पास ले गए और फिर उन्हें गोलियों से भून दिया।

पत्नियों ने बताया किस तरह तालिबान ने की हत्या

इशाक अली की पत्नी जमाल ने कहा, “हमलोग रास्ते में ही थे कि तालिबान ने हमें रोक लिया। दोनों को तालिबान ले गया और उन्हें मार दिया।” रमजान की पत्नी जुलेखा ने कहा, “उन्हें बाहर ले जाया गया और उनके घर से थोड़ी दूर ले जाकर मार दिया गया।” टोलो न्यूज ने बताया कि मारे गए लोगों के पाँच बच्चे हैं, जो फिलहाल काबुल में हैं और उनमें से सबसे बड़ा सात साल का है। अफगानिस्तान से लगातार इस तरह की घटनाएँ सामने आ रही हैं।

3,000 लोगों ने छोड़ा मलिस्तान

जो लोग मलिस्तान में लड़ाई के बाद विस्थापित हुए हैं, उन्होंने ये भी कहा है कि तालिबान ने लोगों से भोजन इकट्ठा किया और एक घोषणा जारी कर कहा कि वे इस्लामी अमीरात नियमों के आधार पर लोगों, विशेषकर महिलाओं के साथ व्यवहार करेंगे। टोलो न्यूज ने आँकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि तालिबान के हमले के बाद पिछले 10 दिनों में कम से कम 3,000 लोग मलिस्तान से विस्थापित हुए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe