Sunday, June 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत के खिलाफ 'ब्लैक डे' मनाने वाले POK मूल के सांसद नजीर अहमद का...

भारत के खिलाफ ‘ब्लैक डे’ मनाने वाले POK मूल के सांसद नजीर अहमद का इस्तीफा: महिला के यौन शोषण का है आरोप

"मैंने पाया कि लॉर्ड अहमद ने यह जानने के बाद जमान का घबराहट और अवसाद का ईलाज चल रहा है, उन्होंने उसका भावनात्मक और शारीरिक रूप से यौन शोषण किया। जो कोड के उल्लंघन की गंभीरता को बढ़ाता है।"

पाकिस्तान मूल के ब्रिटिश सांसद नजीर अहमद ने ब्रिटेन के हाउस ऑफ लार्ड्स से 14 नवंबर को इस्तीफा दे दिया। यह जानकारी हाउस ऑफ लार्ड्स की कंडक्ट कमेटी ने दी। हाउस के कोड ऑफ कंडक्ट की जाँच में नजीर को यौन शोषण का दोषी पाए जाने के बाद उनसे इस्तीफा माँगा गया था।

समिति ने बताया, “लॉर्ड अहमद ने हाउस ऑफ लॉर्ड्स से 14 नवंबर को इस्तीफा दे दिया लेकिन कमेटी ने जिस रिपोर्ट पर रजामंदी कायम की थी, उसमें सिफारिश की गई थी कि वह इस्तीफा दें।”

बता दें कि हाउस ऑफ लार्ड्स के सदस्य नजीर अहमद ने ब्रिटेन में अपने पद का गलत इस्तेमाल करते हुए ताहिरा जमान नामक महिला को मदद का आश्वासन देकर उसका यौन शोषण किया था।

इसके बाद ब्रिटिश संसद के उच्च सदन की आचार संबंधी समिति ने मामले की जाँच की थी जिनमें रोटरडम इलाके से आने वाले अहमद पर लगे आरोपों को सही पाया गया।

जानकारी के मुताबिक, अहमद ने हाउस ऑफ लॉर्ड के सदस्य के पद पर रहते हुए मार्च 2, 2017 को ताहिरा का यौन उत्पीड़न किया था। अहमद ने महिला से झूठ बोला था कि वह एक हकीम (FAITH HEALER) के ख़िलाफ़ मेट्रोपॉलिटियन पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने में उसकी मदद करेगा।

जाँच अधिकारी ने अहमद के ऊपर लगे आरोपों पर कहा, “मैंने पाया कि लॉर्ड अहमद ने यह जानने के बाद जमान का घबराहट और अवसाद का ईलाज चल रहा है, उन्होंने उसका भावनात्मक और शारीरिक रूप से यौन शोषण किया। जो कोड के उल्लंघन की गंभीरता को बढ़ाता है।”

इसके बाद अहमद ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए कंडक्ट कमेटी में जाँच अधिकारी की रिपोर्ट के ख़िलाफ़ अपील भी की, लेकिन कमेटी ने इसे नकार दिया। अब बिना किसी बहस के 19 नवंबर को हाउस में कमेटी की रिपोर्ट अप्रूव की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि यह नजीर अहमद पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के मीरपुर जिले का निवासी है। भारत के 69वें गणतंत्र दिवस पर इसने ब्लैक डे प्रदर्शन का आयोजन किया था। इस दौरान भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को फाड़ा गया था और पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने उसे पैरों तले रौंदा था। इतना ही नहीं अहमद ने ऐसी प्राइवेट बिलबोर्ड वैन भी मँगवाई जिसमें फ्री कश्मीर, फ्री खालिस्तान, फ्री असम, फ्री नागालैंड और फ्री मणिपुर लिखा दिख रहा था।

बता दें कि लॉर्ड अहमद की नियुक्ति पूर्व ब्रिटिश पीएम टोनी ब्लेयर द्वारा हुई थी। पिछले काफी समय से ही अहमद का ट्रैक रिकॉर्ड दागी रहा है। उन्हें कई विवादों के ऊपर लेबर पार्टी से निलंबित किया गया है। साल 2007 में एक कार क्रैश के कारण जेल की सजा भी हुई थी। 2018 में नजीर ने कश्मीर और सिख अलगाववादियों के लिए यूके में प्रदर्शन भी किया था

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -