Friday, June 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीययूक्रेन में चल रही थी नेताओं की बैठक, पार्षद ने जेब से निकालकर ग्रेनेड...

यूक्रेन में चल रही थी नेताओं की बैठक, पार्षद ने जेब से निकालकर ग्रेनेड बम फोड़ा: धमाके में गई खुद की जान, 26 घायल

यूक्रेन में केरेत्स्की ग्राम सभा की बैठक में हैंडग्रेनेड फेंकने वाला ग्राम सभा पार्षद राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की की पार्टी सर्वेंट ऑफ़ द पीपल से जुड़ा था। इस घटना में 26 लोग घायल हो गए जबकि पार्षक की जान ही चली गई।

यूक्रेन के एक गाँव से दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया है। यूक्रेन की पुलिस के मुताबिक, ज़कारपटिया इलाके में शुक्रवार (15 दिसंबर,2023) को केरेत्स्की ग्राम परिषद की इमारत में चल रही ग्राम सभा के दौरान एक ग्राम पाषर्द ही हथगोले लेकर घुस आए।

उन्होंने हथगोले (ग्रेनेड) से वहाँ विस्फोट किया। इस दौरान हमले में एक हमला करने वाले की मौत हो गई और 26 लोग घायल हो गए। घायलों में से 6 की हालत बेहद गंभीर है. इन सभी का इलाज अस्पताल में चल रहा है।

यूक्रेनी पुलिस के मुताबिक, “आज 11.37 बजे, लाइन 102 पर एक संदेश मिला कि एक सत्र बैठक के दौरान मुकाचेवो जिले के केरेत्स्की ग्राम परिषद की इमारत में एक प्रतिनिधि ने ग्रेनेड विस्फोट किया।”

पुलिस ने कहा, “प्रारंभिक जानकारी में विस्फोट से एक शख्स फ़्यूज़ की मौत होने और कई लोगों के घायल होने की सूचना मिली।” हादसे की प्राथमिक जाँच के तहत पुलिस जाँच दल, विस्फोटक विशेषज्ञ और अपराध विज्ञानी घटना स्थल पर कार्रवाई में जुटे हैं।

खबरों के मुताबिक, जब ग्राम सभा की बैठक बीच में थी। तभी आरोपी स्थानीय डिप्टी उस कमरे में दाखिल हुआ। वहाँ मौजूद लोग चर्चा में लगे हुए थे। अंदर पहुँचते ही आरोपित ने ग्रेनेड विस्फोट को अंजाम दिया। इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

इस वीडियो में देखा जा सकता है कि काले कपड़े पहने एक शख्स कमरे में दाखिल हुआ। फिर उसने किसी की परवाह किए बगैर लापरवाही से अपनी जेब से तीन हथगोले निकाले। हथगोले खोले और उन्हें फर्श पर फेंक दिया। इससे सिलसिलेवार विस्फोट हुए।

विस्फोट के चलते कमरे में धुआँ भर जाने से वहाँ अंधेरा हो गया और बैठक में मौजूद लोग चीखने-चिल्लाने लगे। इस ग्रेनेड हमले को अंजाम देने वाले शख्स की पहचान सेरही बैट्रिन के रूप में की गई है। इस हादसे में सेरही को भी गंभीर चोटें आई थीं।

हमले के पीछे के मकसद का पता लगाने के लिए उनकी जान बचाने की कोशिश की गई थी, लेकिन उनकी मौत हो गई। वह एक परिषद सदस्य हैं जो यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की की सर्वेंट ऑफ़ द पीपल पार्टी से जुड़े थे। बताते चलें कि यूक्रेन फरवरी 2022 से ही अपने पूर्वी मोर्चे पर रूस के साथ युद्ध में लगा हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -