Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'सजा-ए-मौत पर रोक लगाएँ सभी देश': निर्भया के दोषियों की फाँसी के बाद UN...

‘सजा-ए-मौत पर रोक लगाएँ सभी देश’: निर्भया के दोषियों की फाँसी के बाद UN ने दिया ज्ञान

सामूहिक बलात्कार के दोषियों को फाँसी दी जाने के बाद संयुक्त राष्ट्र ने सभी देशों से मौत की सजा के इस्तेमाल को रोकने या इस पर प्रतिबंध लगाने की अपील की है।

लम्बे इन्तजार के बाद निर्भया के दोषियों को शुक्रवार (मार्च 20, 2020) सुबह फाँसी दे दी गई। लेकिन फाँसी पर संयुक्त राष्ट्र (UN) की भी प्रतिक्रिया आई है। सामूहिक बलात्कार के दोषियों को फाँसी दिए जाने के बाद संयुक्त राष्ट्र (UN) ने सभी देशों से मौत की सजा के इस्तेमाल को रोकने या इस पर प्रतिबंध लगाने की अपील की है।

गौरतलब है कि निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्याकांड के चार दोषियों को भारत में फाँसी दिए जाने के एक दिन बाद यह अपील की गई है। दिसंबर 16, 2012 को सामूहिक बलात्कार और हत्याकांड के सात साल बीत जाने के बाद मामले के चार दोषियों- मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को नई दिल्ली की तिहाड़ जेल में शुक्रवार सुबह साढ़े पाँच बजे फाँसी दी गई।

निर्भया बलात्कार और हत्याकांड के मामले में चारों दोषियों और एक नाबालिग सहित कुल छह व्यक्ति आरोपित के तौर पर नामजद थे। छठे आरोपित राम सिंह ने मामले की सुनवाई शुरू होने के कुछ दिनों बाद मार्च 11, 2013 को तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी। जबकि एक सुधार गृह में तीन साल गुजारने के बाद 2015 में नाबालिग को रिहा कर दिया गया था।

इस फाँसी पर प्रतिक्रिया देते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि वैश्विक संगठन सभी देशों से मौत की सजा का इस्तेमाल बंद करने या इस पर प्रतिबंध लगाने की अपील करता है। दुजारिक ने नियमित संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा- “हमारा रुख स्पष्ट है कि हम सभी राष्ट्रों से मौत की सजा का इस्तेमाल बंद करने या इस पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान करते हैं।”

दिसंबर, 2012 में निर्भया के साथ हुए क्रूर सामूहिक बलात्कार एवं हत्याकांड ने पूरे देश भर में आक्रोश का माहौल पैदा कर दिया था। 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा (निर्भया, सांकेतिक नाम) से दिसंबर 16, 2012 को दक्षिणी दिल्ली में एक चलती बस में गैंगरेप किया गया था और उस पर बर्बरता से हमला किया गया था। निर्भया को इसके बाद बेहतर उपचार के लिए सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उनकी मौत हो गई थी।

इसके बावजूद निर्भया के दोषियों को उनके अपराध की सजा मिलने में कई प्रकार के पेंच सामने आते रहे। यह पहली बार था जब चार लोगों को दक्षिण एशिया के सबसे बड़े जेल परिसर, तिहाड़ जेल में एक साथ फाँसी पर लटकाया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिद्धू के नाम ऑडियो, कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की आत्महत्या: कहा – ‘पार्टी को 30 साल दिए, शादी भी नहीं… कोई फायदा नहीं’

ऑडियो के मुताबिक किसी प्लॉट संबंधी एक मामले में बाजवा को फँसाने की तैयारी चल रही थी, इसी से आहत होकर उन्होंने आत्महत्या का फैसला किया।

कॉन्ग्रेसी CM, बेटी के ससुराल का मेडिकल कॉलेज और विधानसभा से बिल पास: धोखाधड़ी, ₹125 करोड़ का कर्ज – आरोप ही आरोप

छत्तीसगढ़ में 125 करोड़ के कर्ज में डूबा मेडिकल कॉलेज सीएम भूपेश बघेल की बेटी के ससुराल का है। इसके अधिग्रहण के लिए बिल पास कर...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,956FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe