Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीययुद्ध विराम चाहते थे 12 देश, अमेरिका के वीटो से बिगड़ गया काम: USA...

युद्ध विराम चाहते थे 12 देश, अमेरिका के वीटो से बिगड़ गया काम: USA ने हमास के 10 सदस्यों पर भी लगाया प्रतिबंध

पिछले कुछ दिनों में ब्राजीलियाई-मसौदे पर मतदान में दो बार देरी हुई क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका गाजा तक सहायता पहुँचाने की कोशिश कर रहा है। अब वो इसमें सफल भी हो गया है।

अमेरिका ने हमास के 10 सदस्यों और एक आर्थिक लेन-देन वाले गुट पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन प्रतिबंधों के तहत इन व्यक्तियों और संगठनों पर संयुक्त राज्य अमेरिका में यात्रा करने, संपत्ति रखने या अमेरिकी लोगों या कंपनियों के साथ व्यापार करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अमेरिका ने ‘संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद’ (UNSC) में इजरायली हमले को रोकने और सीजफायर की माँग करने वाले प्रस्ताव पर भी वीटो कर दिया है।

वहीं, इजरायल ने मिस्र की तरफ से राफा क्रॉसिंग की तरफ से मानवीय मदद पहुँचाने की इजाजत दे दी है, साथ ही कहा है कि वो इजरायल की तरफ से नाकाबंदी जारी रखेगा।

इजरायल ने दी मानवीय सहायता की अनुमति

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के कार्यालय ने कहा है कि इजरायल अपनी सीमा वाले हिस्से से गाजा में मानवीय आपूर्ति की अनुमति नहीं देगा, लेकिन मिस्र से आने वाली सहायता को नहीं रोकेगा। नेतन्याहू के कार्यालय ने एक बयान में कहा, “राष्ट्रपति जो बायडेन की माँग को ध्यान में रखते हुए इजरायल मिस्र से मानवीय आपूर्ति को तब तक नहीं रोकेगा, जब तक कि यह दक्षिणी गाजा पट्टी में या वहाँ जाने वाले नागरिक आबादी के लिए केवल भोजन, पानी और दवा है।”

इसका मतलब साफ है कि ये मानवीय सहायता सिर्फ दक्षिणी गाजा के हिस्से तक है।

अमेरिका ने हमास के खिलाफ उठाया बड़ा कदम

अमेरिका ने हमास के 10 सदस्यों और एक आर्थिक लेन-देन वाले गुट पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन प्रतिबंधों के तहत, इन व्यक्तियों और संगठनों पर संयुक्त राज्य अमेरिका में यात्रा करने, संपत्ति रखने या अमेरिकी लोगों या कंपनियों के साथ व्यापार करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। प्रतिबंधित व्यक्तियों में हमास के राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व के सदस्य शामिल हैं। आर्थिक लेन-देन वाले गुट पर प्रतिबंध लगाया गया है क्योंकि वह हमास को वित्तीय सहायता प्रदान करता है। अमेरिका ने कहा कि ये प्रतिबंध हमास के आतंकवादी गतिविधियों को रोकने में मदद करेंगे।

UNSC में सीजफायर की माँग वाली वोटिंग पर अमेरिका ने किया वीटो

संयुक्त राज्य अमेरिका ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के उस प्रस्ताव को वीटो कर दिया, जिसमें गाजा पट्टी तक मानवीय सहायता की पहुँचाने की अनुमति देने के लिए इजरायल और फिलिस्तीनी आतंकवादियों हमास के बीच संघर्ष विराम का आह्वान किया गया था। पिछले कुछ दिनों में ब्राजीलियाई-मसौदे पर मतदान में दो बार देरी हुई क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका गाजा तक सहायता पहुँचाने की कोशिश कर रहा है। अब वो इसमें सफल भी हो गया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 15 सदस्यों में से प्रस्ताव के पक्ष में फ़्रांस, चीन, अल्बानिया, ब्राज़ील, इक्वाडोर, गैबॉन, घाना, जापान, माल्टा, मोज़ाम्बिक, स्विट्ज़रलैंड, संयुक्त अरब अमीरात ने मतदान किया, तो प्रस्ताव के ख़िलाफ़ संयुक्त राज्य अमेरिका ने वीटो कर दिया। वहीं, यूनाइटेड किंगडम और रूस ने वोटिंग से दूरी बनाए रखी। अमेरिका के वीटो की वजह से ये प्रस्ताव गिर गया।

हमास के हमले में करीब 1400 इजरायलियों की मौत

गौरतलब है कि हमास के हमलों में इजरायल के करीब 1400 लोगों की मौत हुई है। 3000 से ज्यादा घायल हैं। हमास ने इस हमले में करीब 250 इजरायली नागरिकों को बंधक भी बना लिया था। इजरायली बंधकों को छुड़ाने और हमास को मिटाने के लिए गाजा की घेराबंदी कर दी गई है। इसके साथ ही उन्होंने बिजली, पानी, राशन की सप्लाई भी रोक दी है। इजरायल के जवाबी कार्रवाई में करीब तीन हजार आतंकी मारे गए हैं। इजरायल वार टीम ने एक एक्स पोस्ट के जरिए बताया है कि इजरायल को टारगेट कर हमास के दागे रॉकेट में से 30 से 40% मिसफायर होकर गाजा पट्टी में ही गिरे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -