Monday, August 2, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपति से नहीं जमी तो 30 साल बड़े ससुर ने दिया सहारा, पनपा प्यार...

पति से नहीं जमी तो 30 साल बड़े ससुर ने दिया सहारा, पनपा प्यार और कर ली शादी: महिला ने कहा- वे दिल से जवाँ

जेफ़ ने कहा कि उनके पास जो भी समय है, वो एरिका के साथ बिताना चाहते हैं और दोनों को साथ घूमना पसंद है। उन्होंने कहा कि हमने कभी उम्र के गैप पर बात ही नहीं की।

अमेरिका में एक महिला ने शादी टूटने पर अपने पति के सौतेले पिता के साथ ही शादी कर डाली। दोनों की उम्र के बीच 29 साल का फासला है। यह घटना अमेरिकी राज्य केंटकी के मर्सर काउंटी स्थित हैरोड्सबर्ग की है। 31 वर्षीय महिला एरिका क्वीगल ने बताया कि उनके मन में ससुर जेफ़ क्वीगल के लिए तभी प्यार पनपना शुरू हो गया था, जब वह उनके सौतले बेटे जस्टिन टॉवेल के साथ शादीशुदा थी।

जस्टिन एक फैक्ट्री में काम करते हैं, वहीं ससुर जेफ़ पेशे से इंजीनियर हैं। शादी के बाद एरिका और जस्टिन का 2011 में एक बेटा भी हुआ था। इसके बाद से ही दोनों के रिश्तों में खटास आनी शुरू हो गई। तब सौतेले ससुर जेफ़ ने ढाँढस बँधाने के लिए एरिका को अपना कँधा दिया। एरिका अपनी पहली शादी के वक़्त मात्र 29 साल की थीं। अब एरिका और उनके नए पति (पूर्व सौतेले ससुर) की एक 2 साल की बेटी भी है।

एरिका का कहना है कि वह अपने से 30 साल बड़े किसी के साथ प्यार का इजहार कर किसी को दुःखी नहीं करना चाहती थीं, लेकिन 2017 में जब उनके और उनके सौतेले ससुर, दोनों की शादियाँ ख़त्म हो गईं तो जेफ़ ने उनसे प्यार का इजहार किया और दोनों ने फिर सार्वजनिक रूप से एक-दूसरे के साथ रहने का फैसला किया। 2018 में दोनों की शादी हुई और उनकी बेटी ब्रेक्सली का जन्म उसी साल अगस्त में हुआ।

एरिका और जस्टिन की बहन आपस में दोस्त थीं। इस तरह से एरिका 16 वर्ष की उम्र से ही जेफ़ को जानती थी। एरिका ने कहा कि इस रिश्ते के बारे में सुनने में ये अपवादजनक लग सकता है, लेकिन हमें एक-दूसरे से प्यार था और हम नकार नहीं पाए। उन्होंने कहा कि उनका रिश्ता अभी परफेक्ट है। उन्होंने कहा कि जेफ़ ही दिल से जवान हैं और वो बूढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि जब भी वो ऐसा कहती हैं, जेफ़ हँसने लगते हैं।

हालाँकि, एरिका ये भी कहना नहीं भूलतीं कि उनके पूर्व पति जस्टिन एक समझदार व्यक्तित्व वाले इंसान हैं। उनके बेटे की कस्टडी उनके और जस्टिन, दोनों के पास है। जस्टिन ने भी दूसरी शादी कर ली है और नजदीक की सोसायटी में ही रहते हैं। जस्टिन की माँ भी पास में ही रहती हैं। जस्टिन ने कहा कि दोनों के बीच घृणा का कोई भाव नहीं है और दोनों अपनी-जपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ चुके हैं। उन्होंने कहा कि दोनों को अब सिर्फ बेटे की चिंता है।

जेफ़ ने कहा कि उनके पास जो भी समय है, वो एरिका के साथ बिताना चाहते हैं और दोनों को साथ घूमना पसंद है। उन्होंने कहा कि हमने कभी उम्र के गैप पर बात ही नहीं की। 2008 में हाईस्कूल पूरी करने के बाद एरिका (तब एरिका लेन) ने अपने बॉयफ्रेंड के साथ लेक्सिंग्टन में रहना शुरू किया था। वो रिलेशनशिप चला नहीं तो वो 2010 में घर आ गई और एक स्टोर डिपार्टमेंट में काम करने लगीं। फिर अपने बड़े भाई के स्कूली दोस्त जस्टिन के संपर्क में आई, जो तब 27 साल के थे।

मात्र 19 की उम्र में उन्होंने जस्टिन से शादी की। वो जस्टिन से मिलने के बाद डेट पर गईं और फिर ख्याल आया कि शादी कर लेना ठीक रहेगा। 2015 में एक बड़े मेकअप फ्रैंचाइज में उनकी जॉब लगी और उन्हें घूमना व अडवेंचर पसंद था, लेकिन जस्टिन ऐसे ही खुश थे। वो एक टीम बना कर बाहर निकलना चाहती थीं, घूमना चाहती थीं, लेकिन जस्टिन ऐसा नहीं चाहते थे। इससे दोनों में विवाद बढ़ने लगा।

एरिका कार शोज और स्थानीय फैशन मॉडलिंग प्रतियोगिता में भाग लेती रहती थीं। इनमें से एक शो का आयोजन उनके सौतेले ससुर जेफ़ ने किया था, जिससे दोनों करीब आए। इसके बाद एरिका ने उनसे शादीशुदा ज़िंदगी की समस्याएँ साझा करनी शुरू की।

एक दिन उन्हें खूब रोना आ गया और उन्होंने जेफ़ से कहा कि वो इसे और आगे नहीं ले जा सकती। 2015 के अंत तक वो जेफ़ के कँधों पर सिर रख कर रोती थीं। फिर जस्टिन और एरिका का तलाक हो गया। एरिका अपने माता-पिता के पास फिर से रहने लगी। इधर जेफ़ क्वीगल और जस्टिन की माँ की शादी भी टूट गई। 2017 की गर्मियों में दोनों का तलाक फाइनल हो गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe